शादी के बाद भी श्वेता बच्चन को करनी पड़ी थी नौकरी, लेना पड़ता था उधार

नई दिल्ली :  अभिषेक बच्चन और श्वेता बच्चन नंदा बॉलीवुड के सबसे चर्चित किड रहे हैं। हालांकि अब दोनों काफी बड़े हो गए हैं और दोनों के बच्चे भी दुनिया घूम चुके हैं। श्वेता बच्चन का बेटा अगस्त्या नंदा जल्द ही बॉलीवुड में डेब्यू करने जा रहे हैं। वहीं बेटी नव्या नंदा फिल्मों की दुनिया से दूर हैं और बिजनेस संभाल रही हैं। लेकिन अभिषेक बच्चन और श्वेता बचपन से ही एक दूसरे के करीब रहे हैं। श्वेता बच्चन अपने भाई अभिषेक से पैसे उधार लिया करती थीं। इतना ही नहीं श्वेता बच्चन नंदा ने शादी के बाद भी एक नौकरी की थी। जिसमें उन्हें 3 हजार रुपये सैलरी मिली थी।
इन सब बातों का खुलासा खुद श्वेता बच्चन नंदा ने किया है। दरअसल नव्या नवेली नंदा इन दिनों अपना एक पॉडकास्ट चलाती हैं। जिसमें नव्या अपने परिवार की तीन पीढ़ियों की औरतों के साथ अपने नजरिए को साझा करती हैं। नव्या नंदा ने हाल ही में अपना पॉडकास्ट रिलीज किया है। जिसमें नव्या के साथ उनकी नानी जया बच्चन, मां श्वेता बच्चन नंदा और नव्या नवेली नंदा अपने अपने नजरिए को साझा करते सुनाई दे रहे हैं। साथ ही इस पॉडकास्ट में श्वेता बच्चन ने अपनी बचपन की यादों को भी साझा किया है।
बचपन की यादें की साझा
नव्या से बात करते हुए श्वेता बच्चन ने बताया कि बचपन में वे जब स्कूल में पढ़ती थी तो अपने भाई अभिषेक से पैसे उधार लिया करती थीं। इसकी वजह पूछने पर श्वेता बताती हैं कि मैं बोर्डिंग स्कूल में पढ़ती थी। बोर्डिंग स्कूल में खाना एक बड़ी कमोडिटी हुआ करता था। ऐसे में खाने की चीजें खरीदने के लिए मुझे पैसों की जरूरत पड़ती थी।
इस कारण भाई अभिषेक से पैसे उधार लिया करती थी। साथ ही पैसों के मेनेजमेंट को लेकर श्वेता बताती हैं कि शादी के बाद भी दिल्ली में मैंने एक किंडरगार्डन स्कूल में असिस्टेंट टीचर की नौकरी भी की है। जिसमें मुझे 3 हजार रुपये का वेतन मिला था। जिसे श्वेता ने अपने बैंक के खाते में जमा करा दिया।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

लालू यादव का सिंगापुर में किडनी ट्रांसप्लांट सफल, बेटी रोहणी ने की डोनेट

सिंगापुर : पूर्व रेल मंत्री, बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव सिंगापुर में किडनी ट्रांसप्लांट कराने के आगे पढ़ें »

संसद में अचानक महिला एमपी को पीटने लगा विपक्षी दल का सांसद

नई दिल्ली : किसी भी देश की संसद में नेताओं को एक दूसरे से बहसबाजी करते हुए अक्सर देखा जाता है। लेकिन सदन में एक आगे पढ़ें »

ऊपर