महज 50 रुपये के लिए राखी बनी थी वेट्रेस

नई दिल्ली : इस बारे में राखी सावंत ने साल 2007 में एक मैगजीन को दिए इंटरव्यू में खुलासा किया था। राखी सावंत ने बताया कि कैसे वह और उनका पूरा परिवार गरीबी में रहे और संघर्ष भरी जिंदगी जी।

50 रुपये के लिए अंबानी की शादी में परोसा खाना

उसी इंटरव्यू में राखी ने बताया था कि जब वह 10-11 साल की थीं तो टीना अंबानी की शादी में उन्होंने मात्र 50 रुपये की दिहाड़ी के लिए खाना तक परोसा था। उस वक्त वह एक केटरर के लिए काम कर रही थीं।

चॉल में रहीं, गरीबी में बीता बचपन

राखी उस वक्त परिवार के साथ एक चॉल में रहती थीं और उनके घर की महिलाओं को इजाजत नहीं थी कि वो बालकनी में भी आकर खड़ी हों या फिर घर के मर्दों से आंखें मिलाकर बात करें। उस वक्त वह प्रार्थना करतीं तो भगवान से यही पूछतीं कि आखिर ऐसे परिवार में उनका जन्म क्यों हुआ।

पड़ोसियों का फेंका खाना खाया

वहीं राखी सावंत ने राजीव खंडेलवाल के चैट शो ‘जज़्बात’ में भी अपने स्ट्रगल के बारे में बात की थी और बताया कि उनका बचपन कितनी गरीबी में बीता। तब राखी ने बताया था कि वो लोग इतने गरीब थे कि कई बार दूसरों के दिए गए खाने पर सर्वाइव करते थे। कई बार उनके पड़ोसी जो खाना फेंक देते थे, राखी उस खाने को उठाकर ले आती थीं और खाती थीं।

डांस के लिए बचपन में खूब खाई मार, आए टांके

इतना ही नहीं, ‘बिग बॉस 14’ के एक एपिसोड में भी राखी सावंत ने खुलासा किया था कि कैसे डांस करने के लिए बचपन में उनके पापा और मामा ने खूब पिटाई की थी। इस कारण उन्हें टांके भी आए थे।

नीरू भेदा है राखी का असली नाम

राखी सावंत का असली नाम नीरू भेदा है, लेकिन बॉलिवुड में एंट्री करने से पहले उन्होंने अपना नाम बदलकर राखी सावंत रख लिया। इन दिनों राखी अपनी शादी को लेकर चर्चा बटोर रही हैं।

शादी और पति रितेश को लेकर चर्चा, ‘बिग बॉसमें करेंगे एंट्री!

खबर आ रही है कि आने वाले दिनों में उनके पति रितेश बिगह बॉस के घर में एंट्री करने वाले हैं। चूंकि रितेश को अभी तक किसी ने नहीं देखा है और उनकी कोई तस्वीर भी सामने नहीं आई है। खुद राखी भी 1-2 साल से रितेश से नहीं मिली हैं। ऐसे में राखी की इस शादी को एक पब्लिसिटी स्टंट माना जा रहा है।

 

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

शनिवार को इन कार्यों को करने से मिलता है शनिदेव का आर्शीवाद

कोलकाता : शनिदेव की शांति के लिए शनिवार का दिन अतिउत्तम माना गया है। शनिवार का दिन शनिदेव को ही समर्पित है। जिन लोगों की आगे पढ़ें »

पूजापाठ से जुड़े ये 10 नियम हमेशा रखें ध्‍यान, कभी नहीं होगा आपका नुकसान

कोलकाताः सनातन धर्म को मानने वाले लोगों के लिए पूजापाठ सबसे जरूरी क्रिया है। हिंदू धर्म के लोगों की दैनिक दिनचर्या पूजापाठ के बिना शुरू आगे पढ़ें »

ऊपर