मां को खरी-खटी सुनाने के बाद बदले पाखी के रंग

नई दिल्ली : छोटे पर्दे पर सबसे ज्यादा पसंद किए जाने वाले शो अनुपमा में इन दिनों शाह परिवार में हंगामा हो रखा है। बीते एपिसोड्स में पाखी (मुस्कान बामने) अपनी मां अनुपमा (रुपाली गांगुली) को बहुत खरी-खोटी सुनाती है। पाखी की देखा देखी वनराज (सुधांशु पांडे) और बा (अल्पना बुच) और तोषू (आशीष मेहरोत्रा) को भी अनुपमा को सुनाने का मौका मिल जाता है और फिर सभी उसे बुरा भाल कहकर उसकी बेइज्जती करते हैं। हालांकि, काव्या (मदालसा शर्मा), किंजल (निधि शाह) और बापू जी होते हैं, जो अनुपमा के साथ खड़े होते हैं।
रक्षा बंधन में शाह परिवार को खलती है अनुपमा की कमी
अनुपमा की बेइज्जती देखने के बाद अनुज (गौतम खन्ना) उससे शाह परिवार में कभी ना आने के लिए कहता है। वनराज और अनुज की हाथापाई भी होती है और फिर अनुपमा कहती है कि, वह कभी शाह हाउस में कदम नहीं रखेगी। शो में रक्षा बंधन स्पेशल आ रहा है। अनुपमा जहां कपाड़िया हाउस में अपने परिवार के साथ रक्षा बंधन मनाती है, जहां समर शाह पहुंच जाता है और छोटी अनु से राखी बंधवाता है। वहीं, अनुपमा के न होने से शाह परिवार काफी दुखी होता है।
अपनी गलतियों पर शर्मिंदा हुई पाखी
रक्षा बंधन का त्योहार होता और अनुपमा के घर में ना होने से पाखी भी काफी उदास हो जाती है। उसे एहसास होता है कि, उसने अपनी मां से कुछ ज्यादा ही कह दिया। वह वनराज से कहती है कि, उन्हें उसे रोकना चाहिए था। हालांकि, वनराज उसे चुप रहने के लिए कहता है। इसके बाद वनराज की बहन डॉली रोने लगती है और वह अनुपमा से मिलने जाने के लिए कहती है। वनराज उसे रोकने की कोशिश करता है, लेकिन काव्या वनराज की बात को काट देती है।
दूरियों को कम करने का काव्या ने ढूंढा बहाना
काव्या शाह परिवार और अनुपमा के बीच की दूरियों को कम करना चाहती है। जब डॉली को अनुपमा के पास जाने से वनराज रोकता है तो उसकी बात काटते हुए काव्या कहती है कि, अनुपमा को अनुज ने यहां आने से मना किया है, लेकिन यहां से वहां जाया जा सकता है। इसके बाद काव्या कहती है कि, दूरियों को खत्म करने का फेस्टिवल ही सही मौका है। काव्या पाखी को भी ताने देती है। काव्या कहती है कि, पाखी को एक ही रात में समझ आ गया कि, मां क्या होती है।
छोटी अनु शाह परिवार को कपाड़िया मेंशन में करती है इनवाइट
वहीं, छोटी अनु काव्या के पास फोन करती है और स्पीकर पर फोन करके सभी को कपाड़िया हाउस में आने के लिए कहती है। साथ ही ये भी बताती है कि, समर भाइया उनके घर पर हैं। बाद में जब वनराज और काव्या के बीच बहस होने लगती है तो किंजल उठकर अनुपमा के पास जाने के लिए कहती है। ये देखकर सभी हैरान हो जाते हैं।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

शिक्षा मंत्री से मिला आश्वासन मगर नियुक्तियां कब ?

ब्रात्य बसु ने कहा, ‘कितने शून्य पद, एसएससी को कहा बताने’ सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : राज्य के शिक्षा मंत्री ब्रात्य बसु के साथ बैठक में नियुक्ति के आगे पढ़ें »

ऊपर