हो सकता है निर्देशक बनने पर तनहा और उदास हो जाऊं : शाहरुख खान

shahrukh

मुंबई : अभिनेता शाहरुख खान का कहना है कि वह एकांतप्रिय लेकिन खुश इंसान है, मगर निर्देशक बनने पर उनके तनहा और उदास होने की आशंका है। शाहरुख का मानना है कि निर्देशन के पेशे में बेहद अकेलापन है। उन्होंने एक साक्षात्कार में कहा कि ‘यह भगवान की भूमिका जैसा है, आप एक फिल्म बनाते हैं, आप अभिनेताओं को बताते हैं कि अभिनय कैसे किया जाए, संवादों का चयन करना, थिएटरों में जाना….काले कमरों में उसकी ‘एडिटिंग’ करना.. और जब फिल्म रिलीज होती है तो उसकी कामयाबी और नाकामयाबी के लिए आप ही जिम्मेदार होते हैं। मुझे लगता है कि निर्देशन के काम में बेहद अकेलापन है।’

निर्देशक बन गया तो अकेला और दुखी हो जाउंगा

शाहरुख ने कहा कि ‘मुझे हमेशा चिंता होती है कि अगर मैं निर्देशक बन गया, मैं सच में बहुत अकेला हो जाऊंगा और रोजमर्रा की जिंदगी से कट जाऊंगा। एक स्टार होने के नाते मैं पहले ही बेहद एकांतप्रिय, शांत, खुद तक सीमित रहने वाला इंसान हूं। अभी मैं काफी तनहा लेकिन खुश महसूस करता हूं। अगर मैं निर्देशक बन गया तो और अकेला और दुखी हो सकता हूं।’

अच्छी फिल्मों की गारंटी कोई नहीं दे सकता है

शाहरुख ने अपनी फिल्म ‘जीरो’ और ‘जब हैरी मेट सेजल’ जैसी फिल्मों के बडे़ पर्दे पर कुछ खास कमाल ना कर पाने का जिक्र करते हुए कहा कि उन फिल्मों पर काम करते समय भी उन्हें लगा था कि वे अच्छी फिल्म बना रहे हैं। उन्होंने बताया ‘ऐसे भी दिन आते हैं, जब मैं फिल्मों पर चर्चा करता हूं और मुझे सच में लगता है कि यह सही फिल्म है। मुझे नहीं पता कि मैं अच्छी फिल्में कर पाऊंगा की नहीं। इसकी गारंटी कोई नहीं दे सकता।’

युवा पीढ़ी को दी ये हिदायत

शाहरुख ने बताया कि ‘25 साल के करियर के ‘दिलवाले दुल्हनिया ले जायेंगे’ की जैकेट, ‘बाजीगर’ के जूतों सहित कई फिल्मों में पहने कपड़े मेरे पास हैं। एक दिन जब मुझे दिग्गज का तमगा दिया जाएगा तो मैं उसे दान के लिए बेच सकता हूं। मैंने उन्हें संग्रहालय या किसी और इस्तेमाल के लिए रखा है।’ अपनी आने वाली पीढ़ी को कोई सलाह देने के सवाल पर शाहरुख ने कहा कि वह युवा पीढ़ी को कड़ी मेहनत करने और शोहरत को सिर पर सवार ना होने की हिदायत देंगे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

जनजातियों की कला-संस्कृति, परंपरा एवं रीति-रिवाज समृद्ध : द्रौपदी मुर्मू

रांची : झारखंड की राज्यपाल सह कुलाधिपति द्रौपदी मुर्मू ने शुक्रवार को कहा कि जनजातियों की कला, संस्कृति, लोक साहित्य, परंपरा एवं रीति-रिवाज समृद्ध रही आगे पढ़ें »

अत्यधिक प्रोटीन लेना हो सकता है जानलेवा: रिपोर्ट

नई दिल्ली : स्वस्थ रहने की बात हो तो सबसे पहले प्रोटीन लेने की सोचते हैं। प्रोटीन से मांसपेशियां मजबूत होती है और साथ ही आगे पढ़ें »

ऊपर