चाहत खन्ना के आरोपों पर सुकेश ने कहा, मुझे शादीशुदा औरतों में कोई दिलचस्पी नहीं है

मुंबईः तिहाड़ जेल में बंद ठग सुकेश ने जेल से फिर एक लेटर लिखा है। इसमें उसने लिखा, ‘मुझे उन औरतों में कोई दिलचस्पी नहीं है जो पहले से शादीशुदा हैं या जिनके बच्चे हैं। मैं चाहत खन्ना जैसा गोल्ड डिगर (पैसे के लिए रिश्ते रखने वाली) नहीं हूं। चाहत और निक्की तंबोली से मेरा संबंध सिर्फ प्रोफेशनल वजहों से है।’ दरअसल, चाहत ने कुछ दिन पहले कहा था कि सुकेश ने उन्हें धोखे से जेल में मिलने बुलाया था और घुटनों के बल बैठकर प्रपोज भी किया था। सुकेश ने चाहत के सभी आरोपों को बेबुनियाद बताया। उसने कहा कि चाहत से उसकी मुलाकात बस एक प्रोफेशनल मीटिंग के तौर पर हुई थी।

चाहत 10 साल की छोटी बच्ची नहीं हैं
सुकेश ने चाहत के उस बयान को भी खारिज किया जिसमें चाहत ने कहा था कि उन्हें धोखे से तिहाड़ जेल लाया गया था। सुकेश ने लिखा, ‘चाहत कहती हैं कि उन्हें पता ही नहीं चला कि उन्हें तिहाड़ जेल लाया जा रहा है, मैं कहता हूं कि वो क्या 10 साल की बच्ची हैं जिसे ये नहीं पता चलेगा कि उन्हें कहां ले जाया जा रहा है और कहां नहीं। एक 10 साल की बच्ची को भी पता होगा कि जेल कैसा होता है।’ सुकेश ने चाहत को एक पेशेवर झूठी करार दिया है। उसने लिखा, ‘चाहत जैसा कि दावा करती हैं कि वो मेरे बुलाने या धोखे से जेल में आई थीं, तो उन्होंने ये बात पुलिस में पहले ही क्यों नहीं बताई। 2018 के बाद उन्हें पुलिस में शिकायत करने से किसने रोका था?’ चाहत खन्ना ने कुछ दिन पहले एक स्टेटमेंट में कहा था कि 18 मई, 2018 को मुंबई एयरपोर्ट पर उनकी मुलाकात एक महिला से हुई जिसका नाम एंजल खान था। उसने चाहत से कहा कि वो उन्हें लेकर एक इवेंट में जाएगी, लेकिन इवेंट में न जाकर वो चाहत को लेकर तिहाड़ जेल चली गई। चाहत का कहना था कि जब उन्हें महसूस हुआ कि वो तिहाड़ में हैं तो उन्होंने चिल्लाना शुरू कर दिया।

Visited 332 times, 1 visit(s) today
शेयर करें

मुख्य समाचार

सिर्फ गर्दन का व्यायाम हमें इतने रोगों से रख सकता है दूर

कोलकाता : रीढ़ की हड्डी को कशेरूक दंड या मेरूदंड कहा जाता है। इससे समस्त कंकाल को सहारा मिलता है। रीढ़ की हड्डी या मेरूदंड आगे पढ़ें »

गुरुवार के दिन विष्णु भगवान की करें पूजा, इन 3 बातों को रखें ध्यान

नई दिल्ली: गुरुवार के दिन का हिंदूओं में विशेष महत्व है। गुरुवार के दिन भगवान विष्णु और देवताओं के गुरु बृहस्पति देव की पूजा होती आगे पढ़ें »

ऊपर