मंदिरा बेदी से दीया मिर्जा तक, 6 एक्ट्रेस जिन्होंने तोड़ दिए समाज के दकियानूसी नियम

कोलकाताः हमारे समाज में जितने भी सख्त नियम-कानून, दकियानूसी और रूढ़ीवादी सोच ज़्यादातर सब महिलाओं पर ही थोपी जाती हैं। लड़कियों को बचपन से ही इन स्टीरियोटाइप्स की बेड़ियों में जकड़ कर ही पाला-पोसा जाता है। जब भी कोई लड़की या महिला इन बेड़ियों को तोड़ कर अपने हिसाब से ज़िंदगी जीने की पहल करती है तो अक्सर समाज को ये रास नहीं आता है और वहां से शुरू होती है उसे और ज़्यादा स्टीरियोटाइप करने की जर्नी।

मगर यहां हम ऐसी ही कुछ महिलाओं की सराहना कर रहे हैं जिन्होंने इन स्टीरियोटाइप्स को गलत साबित करने और इन दकियानूसी नियम-कानूनों की बेड़ियों से निकल कर एक मिसाल पेश की है। इनकी सराहना करना इसलिए भी ज़रूरी है क्योकि ये सभी महिलाएं सेलेब्स हैं जिन्हे लाखों-करोड़ों लोग फॉलो करते हैं और अपनी इस पावर का इस्तेमाल इस तरह के पॉज़िटिव बदलाव के लिए करना हर रूप में सराहनिय है।

मंदिरा बेदी

हाल ही में मंदिरा बेदी पर उस वक्त दुखों का पहाड़ टूट पड़ा जब उनके फिल्ममेकर पति राज कौशल का दिल का दौरा पड़ने से आकस्मिक निधन हो गया। सोशल मीडिया पर शेयर की फोटोज़ से साफ ज़ाहिर हो रहा है कि मंदिरा किस कदर टूट गई हैं लेकिन फिर भी मंदिरा ने खुद को किसी तरह संभालने की कोशिश की। इतना ही नहीं मंदिरा ने अपने हाथों ही अपने पति को अंतिम विदाई देने का फैसला किया। मंदिरा ना सिर्फ अपने पति की अंतिम यात्रा में शामिल हुईं बल्कि मंदिरा ने खुद अपने पति का अंतिम संस्कार करते हुए उन्हें मुखाग्नि दी।

मंदिरा का ये साहसिक कदम हमारे देश की उस सदियों पुरानी प्रथा को तोड़ता है जिसके अनुसार मुखाग्नि देने का अधिकार सिर्फ मर्दों को दिया गया है। ज़्यादातर धर्मों में तो महिलाओं को श्मशान घाट जाने की या फिर मृत व्यक्ति को छूने की भी अनुमति नहीं होती है। हमारे देश में कई ऐसे समुदाय रहे हैं जिनमें पहले के समय में पति कि मौत के बाद पत्नियों का चिता की आग में सति होना अनिवार्य था।

पिछले कुछ समय में हमने समाज में कई सकारात्मक बदलाव देखे हैं। कई बेटियों को अपने माता-पिता का अंतिम संस्कार करते हुए देखा है लेकिन एक पत्नी द्वारा अंतिम संस्कार करने का शायद ये पहला मामला है। हम समझते हैं कि इसमें कोई बुराई नहीं है क्योंकि अगर उन्हे जीवन-संगिनी का दर्जा दिया गया है तो पति के अंतिम समय पर भी पत्नी का पूरा अधिकार है।

दीया मिर्ज़ा

हमारे समाज में मर्दों का दूसरी या तीसरी बार शादी करना बहुत ही मामूली बात है जिससे किसी को कोई परेशानी नहीं है। फिर भले ही पति और ससुराल वालों ने पत्नी को दहेज के लिए या खानदान का वारिस ना दे पाने के लिए मार दिया हो। मगर वहीं अगर कोई औरत दूसरी शादी करती है तो तुरंत लोगों के मुंह बनने लगते हैं क्योंकि हमारे समाज के हिसाब से एक लड़की का जीवन उसकी डोली उठने से शुरू होता है जो ससुराल से ही अर्थी उठने पर खत्म होता है।

हालांकि दीया मिर्ज़ा ने इन दकियानूसी और रूढ़ीवादी रिवाज़ों को तोड़ते हुए अपनी खुशियों को प्राथमिकता दी। इन्होंने ने सिर्फ अपनी पहली शादी से बाहर निकलने का फैसला किया बल्कि इन्होंने अपनी दूसरी शादी में कन्यादान और बिदाई जैसे पितृसत्ताकत्मक रिवाज भी नहीं निभाए। इतना ही नहीं दिया ने अपनी शादी की विधि पूरी करने के लिए भी एक महिला पंडित को बुलाया।

प्रियंका चोपड़ा

हमारे समाज में हमेशा से लड़कियों की उम्र एक बहुत बड़ा चर्चा का विषय रहा है! अरे 24 की हो गई अभी तक शादी नहीं हुई, 30 की हो गई अभी तक बच्चे नहीं हुआ, 50 की उम्र में ऐसे कपड़े पहनती है और ऐसी ही ना जाने कितनी बातें। ये बातें और कानाफूसी और बढ़ जाती है जब पति-पत्नी में पत्नी की उम्र ज़्यादा हो।

हमारे समाज को ना तो 50 साल के हीरो को 22 साल की हिरोइन से पर्दे पर रोमांस करते हुए देखने से प्रॉब्लम है और ना ही 40 साल के आदमी की 18 साल की लड़की से शादी करने पर कोई प्रॉब्लम है। हालांकि अगर कोई लड़की अपने से छोटी उम्र के लड़के से अगर शादी कर ले फिर तो बवाल होना पक्का है।

एक ग्लोबल आयकन होने के बावजूद प्रियंका चोपड़ा को अपने से 7 साल छोटे निक जोनस से शादी करने के लिए ट्रोल होना पड़ा लेकिन क्या प्रियंका और निक को इन बातों से फर्क पड़ा? बिल्कुल भी नहीं! प्रियंका और निक अपनी शादीशुदा ज़िंदगी में बेहद खुश हैं और इन्हे इस तरह की छोटी सोच से कोई फर्क नहीं पड़ता।

सनी लियोनी

हमारे समाज को दोगलापन तो देखिए 139 करोड़ की आबादी वाला देश सेक्स और पॉर्न के ज़िक्र पर ऐसे मुंह बनाता है जैसे सभी ने बृह्मचर्य अपना रखा हो। कई सर्वेक्षणों में पाया गया है कि इंडिया दुनिया में सबसे ज़्यादा पॉर्न देखने वाले देशों में से एक है। इसके बावजूद जब सनी लियोनी ने अडल्ट फिल्म इंडस्ट्री को छोड़ कर मेनस्ट्रीम सिनेमा में डेब्यू करने का फैसला किया तो लोगों ने उन्हें खूब ट्रोल किया।

इतना ही नहीं सनी ने जब एक बच्ची को गोद लिया और उसके बाद सरोगेसी के द्वारा उनके बेटों का जन्म हुआ तो भी लोगों ने उन्हे ट्रोल करने का कोई मौका नहीं छोड़ा। सनी ने कभी भी ना तो अपने पहले प्रोफेशन को छुपाने की कोशिश की और ना ही उसमें शर्मिंदगी महसूस की। सनी ने हमेशा कहा है कि अडल्ट फिल्म इंडस्ट्री में काम करना उनकी अपनी चॉइस थी।

सुहासिनी मुले

हमारे समाज में 30 की उम्र से पहले लड़की की शादी कर देना हर मां-बाप का एक मात्र सपना होता है। अगर शादी 25 से पहले हो जाए फिर तो सोचिए मां-बाप ने चार धाम की यात्रा कर के गंगा नहा लिया। जो मां-बाप ऐसा नहीं कर पाते उन्हें तो समाज के ताने सुनने ही पड़ते है बल्कि लड़की को भी पता नहीं क्या-क्या सुनना पड़ता है।

सुहासिनी मुले ऐसी सभी लड़कियों और महिलाओं के लिए एक इंस्पिरेशन है। सुहासिनी ने 61 साल की उम्र में शादी कर के संदेश दिया कि आपकी शादी सिर्फ और सिर्फ आपका फैसला होना चाहिए। इतना ही नहीं शादी आपको तभी करनी चाहिए जब आप इसके लिए तैयार हों और जब आपको अपनी पसंद का और आपको समझने वाला पार्टनर मिले।

नीना गुप्ता

नीना गुप्ता शायद उन एक्ट्रेसेज़ में से हैं जिन्होंने समाज के इन रूढ़ीवादी और दकियानूसी नियमों के खिलाफ जाने की हिम्मत दिखाई। नीना क जब एक शादीशुदा मर्द (विवियन रिचर्ड्स) से प्यार हुआ तो उन्हे अंदाज़ा भी नहीं था कि भविष्य में उनके लिए क्या होने वाला है। नीना इस रिश्ते से प्रेगनेंट तो हो गईं लेकिन रिचर्ड ने अपनी पत्नी को छोड़ कर उनसे शादी करने से इंकार कर दिया।

मगर नीना ने ये जानने के बावजूद अपनी प्रेगनेंसी को जारी रखा और फिर बेटी मसाबा को जन्म दिया। एक बिनब्याही मां होने की वजह से नीना को काफी मुश्किलों का सामना किया लेकिन हार कभी नहीं मानी। नीना को ना सिर्फ काम से हाथ धोने पड़ा बल्कि आर्थिक तंगी से भी गुज़रना पड़ा। हालांकि इतने उतार-चढ़ावों के बावजूद उन्होंने अपनी बेटी को अच्छी परवरिश दी, अपना घर बसाया और अपने करियर को भी वापस ट्रैक पर ले आईं।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्सहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

इन लोगों को नहीं पीना चाहिए दूध, सेहत के लिए होता है हानिकारक

कोलकाताः बचपन से हम यही सुनते आएं हैं कि दूध पीना सेहत के लिए बहुत फायदेमंद है। यह हमारे शरीर में सभी पोषक तत्वों  की आगे पढ़ें »

ऊपर