जब सोनम के कारण अर्जुन कपूर की हुई थी पिटाई

मुम्बई : बॉलीवुड अर्जुन कपूर ने खुलासा किया है कि स्कूल के दिनों में उनकी चचेरी बहन सोनम कपूर के कारण उनका झगड़ा हो गया था। उन्होंने बताया कि वे एक ही स्कूल में थे और दोनों को बास्केटबॉल पसंद था। यह एक घटना तब हुई जब सोनम खेल रही थीं। उन्होंने कहा कि हालांकि वह हमेशा एक अहिंसक व्यक्ति रहे हैं, लेकिन उन्होंने गुस्से में आकर उस लड़के को गाली दी जिसने सोनम के साथ बुरा व्यवहार किया था। अर्जुन और सोनम चचेरे भाई-बहन हैं। अर्जुन जहां फिल्म निर्माता बोनी कपूर के बेटे हैं, वहीं सोनम बोनी के भाई अभिनेता अनिल कपूर की बेटी हैं। अर्जुन ने कहा, “सोनम और मैं एक ही स्कूल में थे। मुझे बास्केटबॉल खेलना पसंद था और सोनम को भी। एक दिन खेलने के दौरान कुछ सीनियर्स आए और सोनम से गेंद को पकड़ा और कहा की कि यह उनके खेलने का समय है। सोनम रोते हुए मेरे पास आई। उसने कहा, ‘ इस लड़के ने मेरे साथ बुरा व्यवहार किया।’ मैंने पूछा, ‘यह लड़का कौन है?’ उन्होंने कहा, “मैं हिंसक व्यक्ति बिल्कुल नहीं हूं। लेकिन तभी मुझे गुस्सा आया और मैं चला गया। वह लड़का आया और मैंने उसे गाली दी। उसने मुझे देखा लेकिन कुछ बोल नहीं पाया।”
अर्जुन कपूर हुए थे स्कूल से सस्पेंड
संदीप और पिंकी फरार फिल्म के एक्टर अर्जुन ने यह भी बताया कि कैसे उन्हें मुक्का मारा गया और उन्हें स्कूल से सस्पेंड भी कर दिया गया। उन्होंने बताया, “उस लड़के ने अपना हाथ लिया और मुझे घूंसा मारा। मैं काली आंख के साथ घर वापस चला गया। सोनम मुझसे सॉरी कह रही थी और मुझे याद है वह किसी राष्ट्रीय स्तर की बॉक्सिंग टीम का हिस्सा था। वह एक बॉक्सर था। मैंने गलत लड़कों से पंगा ले लिया था।” उन्होंने कहा कि गाली देने की वजह से उन्हें स्कूल से सस्पेंड कर दिया गया था। इसके बाद उन्होंने सोनम से खुद का ध्यान रखने के लिए कहा था। उन्होंने सोनम से कहा कि वे भविष्य में किसी से लड़ाई नहीं करेंगे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

उपचुनाव जल्द हो, ममता ने कहा

कसा तंज, कहा - पीएम कह देंगे तो हो जायेगा चुनाव सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : राज्य में अभी सात विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होना है। नियम अनुसार आगे पढ़ें »

सुबह उठकर दोनों हाथों की ‘हथेलियों’ को देखने से भी बदलती है किस्मत

कोलकाता : सुबह उठकर हाथों की हथेलियों को देखना बहुत ही शुभ माना गया है। ऐसा प्रतिदिन करने से जीवन में मान सम्मान प्राप्त होता आगे पढ़ें »

ऊपर