वनराज-अनुपमा को अकेले देख काव्या करेगी ड्रामा, इस शख्स का होगा पत्ता साफ

नई दिल्ली: टीवी के पॉपुलर सीरियल ‘अनुपमा’ में हर दिन बवाल होना तय है। आज कल इस शो की खूब धूम है। जहां धीरे-धीरे अनुपमा और वनराज करीब आ रहे हैं, वहीं काव्या कोई न कोई नया ड्रामा शुरू कर रही है। वनराज अपनी नई नौकरी को लेकर खुश है और वो अकेले में अपनी खुशी अनुपमा से बांटता है। अनुपमा भी वनराज को बधाई देती है। इसके साथ ही कहती है कि वनराज काव्या से अपनी लड़ाई को अपने कमरे तक ही रखा करे। अनुपमा वनराज को समझाती है कि सबके सामने लड़ाई करने से बा-बापूजी और बच्चों के बीच गलत संदेश जाता है। साथ ही बताती है कि बा-बापूजी और बच्चों को ये बात बुरी भी लग सकती है। काव्या अनुपमा और वनराज की सारी बातें सुन लेती है और उसे लगता है कि दोनों एक दूसरे के करीब आ रहे हैं। ये बात जानकर काव्या खूब ड्रामा करगी। आने वाले एपिसोड काव्या का जोरदार ड्रामा देखने को मिलेगा। वहीं दूसरी ओर काव्या की चहेती नौकरानी गीता का पत्ता घर से साफ होने वाला है

अनुपमा लेगी फैसला

अब तक देखा गया कि गीता सिर्फ काव्या और वनराज के लिए ही काम करती है। काव्या ने गीता को कुछ भी नहीं बताया है, इस वजह से गीता अपनी मनमर्जी से काम करती है। बा लगातार गीता को चीजों के बारे में बताती हैं, लेकिन गीता उनके साथ बदजुबानी करती है। गीता का बुरा बर्ताव अनुपमा को जरा भी रास नहीं आ रहा है। ऐसे में बिना कुछ सोचे समझे अनुपमा एक निर्णय ले लेगी।

काव्या का पारा होगा हाई

अनुपमा गीता को घर से बाहर का रास्ता दिखाने वाली है। शाह परिवार का हिस्सा होने के नाते अनुपमा ने ये फैसला किया है कि गीता को घर से निकाला जाए। अनुपमा घर में हर दिन किचकिच नहीं चाहती है। इस वजह से गीता को निकालने की बात कहेगी। इस फैसले में वनराज अनुपमा को स्पोर्ट करेगा। अनुपमा के इस फैसले से काव्या गुस्सा जाएगी। अब आने वाले एपिसोड में काव्या का गुस्सा और अनुपमा, काव्या और वनराज की बहस देखने को मिल सकती है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्सहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

आज शुक्रवार को पहने इस रंग के कपड़े, मां लक्ष्मी की बरसेगी कृपा, होंगे धनवान

कोलकाता : हिंदू धर्म शास्त्रों में सप्ताह का सातों दिन किसी न किसी देवता को समर्पित होता है तथा उनका कोई न कोई प्रिय रंग आगे पढ़ें »

ऊपर