स्टार प्लस पर दर्शकों का मनोरंजन करने 24 अगस्त से आ रहा नया शो ‘शादी मुबारक’

मुंबई : स्टार प्लस अपने दर्शकों के लिए एक नया फिक्शन शो ‘शादी मुबारक’ लाने के लिए पूरी तरह तैयार है, जिसमें मानव गोहिल और राजश्री ठाकुर प्रमुख भूमिकाओं में नजर आएंगे। यह दोनों प्रतिभाशाली मुख्य कलाकार छोटे पर्दे पर वापसी करने के लिए पूरी तरह तैयार हैं। यह शो दो व्यक्तियों के सेल्फरिलेशन की जर्नी को बयां करता है, जो एक दूसरे से बेहद अलग हैं, लेकिन जो उन्हें एक साथ रखता है वह है सम्मान। यहाँ मानव, केटी के रूप में बेहद आकर्षक लगने वाले हैं जबकि राजश्री प्रीति के रूप में एक ही समय में उग्र और कमजोर दोनों नजर आएंगी। इसकी ऑनस्क्रीन केमिस्ट्री बहुत सहज लगती है। अपने नए शो की तरफ अपना साहसी कदम बढ़ा रहे इसके मुख्य अभिनेता मानव गोहिल ने इस पर कहा, ‘बार- बार कोशिश करने के बाद, मैं अपनी इस मुख्य भूमिका को निभाने के लिए एक्साइटेड हूँ और मैंने अपने नए शो ‘शादी मुबारक’ की शूटिंग शुरू कर दी है। सबसे पहले हमने वर्तमान स्थिति को देखते हुए जूम पर शो के बारे में एक सप्ताह के लिए हुए वर्कशॉप में भाग लिया, जिससे हमें अपने किरदार को और बेहतर ढंग से समझने, एक-दूसरे के बांड को स्ट्रांग करने और अपनी केमिस्ट्री को निर्माण करने में मदद मिली। मैं लगभग दो दशक से इंडस्ट्री में हूं और अब इस न्यू नार्मल में हमारा शूटिंग करना कुछ ऐसा है जिसे हमें अब अपनाना होगा। इन सबसे ऊपर, मैं सेट पर वापस आकर और फिर से शूटिंग करके बहुत खुश हूं। मुझे उम्मीद है कि दर्शक और फैन्स मुझ पर सराहनाओं के साथ अपने प्यार की बौछार करेंगे, क्योंकि मैंने एक नई यात्रा की शुरुआत जो की है’ यह शो 24 अगस्त से स्टार प्लस पर शाम 7:30 बजे प्रसारित होगा। शो का निर्माण शशि सुमीत प्रोडक्शंस ने किया है और इसमें लोकप्रिय टेलीविजन कलाकार जैसे नीलू वाघेला, निशा रावल, मनु मलिक, डॉली मिन्हास, आकांक्षा सरीन, गौरव शर्मा और कई अन्य लोग नजर आने वाले हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

फीस नहीं देने के कारण कोई बोर्ड परीक्षा से वंचित नहीं होगा : हाई कोर्ट

कोलकाता : किसी भी छात्र व छात्रा को बोर्ड की परीक्षा में बैठने से सिर्फ इस आधार पर वंचित नहीं किया जा सकता है कि आगे पढ़ें »

व्यापक सुधारों के अभाव में संयुक्त राष्ट्र पर मंडरा रहा ‘भरोसे की कमी’ का संकट : मोदी

संयुक्त राष्ट्र: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि व्यापक सुधारों के अभाव में संयुक्त राष्ट्र पर ‘भरोसे की कमी का संकट’ मंडरा रहा है। उन्होंने आगे पढ़ें »

ऊपर