सूर्य स्नान क​रिये, निरोग रहिए

जिस प्रकार शारीरिक सौंदर्य के लिए प्रत्येक अंग का पुष्ट व  सुगठित होना आवश्यक है उसी प्रकार जीवन के लिए जल, वायु, भोजन इत्यादि  आवश्यक तत्वों के साथ सूर्य स्नान लेना भी महत्त्वपूर्ण है। अक्सर लम्बे  घूंघट व बंद घरों में रहने वाली पर्दानशीन औरतों की जिंदगी का अधिकतर भाग  बीमारियों में गुजरता है। कारण है धूप की कमी। इस मामले में मजदूर महिलाएं  ज्यादा भाग्यशाली हैं।
आपने देखा होगा बहुत से पौधे पर्याप्त प्रकाश न मिलने के कारण  पीले होकर मुरझा जाते हैं जबकि दूसरे पौधे पर्याप्त धूप मिलने के कारण खूब  फलते-फूलते हैं।
सूर्य की धूप में मल, विकार, दुर्गंध व विष दूर करने की  अद्भुत शक्ति होती है। पसीने में भीगे कपडे़ बिना धोये धूप में सुखाने से  दुर्गन्ध रहित हो जाते हैं। इसी प्रकार रोगी को सूर्य स्नान कराने से उसकी  कमजोरी दूर होती है। रोगी व्यक्ति को सूर्यस्नान ऐसी जगह करवाना चाहिए जहां  तेज हवा न चलती हो। बहुत गंभीर रोगी को बहुत हल्के वस्त्र पहनाकर चारपाई  पर लिटाकर प्रात:काल सूर्यस्नान करवाना चाहिए। रोगी को सूर्यस्नान उसकी  इच्छानुसार कराना चाहिए। जब वह धूप में ऊब जाये या उसे सिरदर्द होने लगे तो  उसे फौरन हटा लेना चाहिए। साधारणतया सूर्यस्नान प्रात:काल या सायंकाल में जब धूप की  उष्णता कम रहती है, लेना चाहिए। जाडे़ में दोपहर को धूप लेना ठीक रहता है।
सूर्य स्नान करते समय सिर व चेहरे को छोड़कर सारा शरीर नग्न  होना चाहिए। स्नान लेते समय साफ सूती कपडे़ को पानी में भिगोकर तथा  निचोड़कर सिर व चेहरा अच्छी तरह ढक लें। घर की खुली छत पर इसे आराम से लिया  जा सकता है।
सूर्यस्नान लेने के प्रथम दिनों में पांच-मिनट का सूर्य स्नान  काफी है। धीरे-धीरे इसकी मात्रा बढ़ाते रहना चाहिए। 15 मिनट से लेकर एक  घंटे तक सूर्य स्नान सुविधानुसार लाभदायक सिद्ध होता है। सूर्य स्नान लेते  समय शरीर के प्रत्येक भाग से पसीना आना जरूरी है। जिन व्यक्तियों को पसीना  देर से आता है या बिल्कुल ही नहीं आता, उन्हें सूर्य स्नान के समय की मात्रा  बढ़ानी चाहिए। सूर्य स्नान के बाद ठण्डे पानी से सारे शरीर को मल-मल कर  धोना चाहिए। संभव हो सके तो स्नान के बाद किसी पार्क में थोड़ी देर टहलें।
राजयक्ष्मा जैसा भयंकर रोग भी सूर्य स्नान से नष्ट हो जाता  है।  इसके अतिरिक्त भगंदर और हड्डी का शैथिल्य जैसे रोग भी समाप्त हो जाते  हैं।   सूर्यस्नान से रक्त-कोष बढ़ते हैं, साथ ही शरीर के भार में वृद्धि होती है।  सूखा रोग में रोगी कुछ दिन सूर्य स्नान लेने से पुष्ट हो जाता है। अत:  सूर्य स्नान करिये व निरोग रहिये। इस मुफ्त के लाभदायक टानिक को लीजिए और  रोगों को भगाइये

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

तलाक के बाद छलका अरबाज का दर्द बोले- ‘सब ठीक चल रहा था लेकिन…’

नई दिल्ली: बॉलीवुड की हसीना मलाइका और अभिनेता अरबाज खान के तलाक को 2 साल होने वाले हैं। अब तक अपने तलाक पर अरबाज ने कुछ नहीं बोला था लेकिन अब अरबाज ने मलाइका से अपने तलाक [Read more...]

मैं संयोग से बन गया अभिनेताः आदित्य रॉय कपूर

मुंबईः बॉलीवुड के आशिकी ब्वॉय अभिनेता आदित्य रॉय कपूर चुनिंदा फिल्में ही करते हैं पर उन्ही के माध्यम से वह दर्शकों का दिल जीत जाते हैं। आदित्य का कहना है कि वह संयोग से अभिनेता बने। कलाकारों [Read more...]

मुख्य समाचार

आरबीआई ने रेपो रेट घटाई, लोन सस्ते होने की उम्मीद

मुंबईः भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने रेपो रेट में 0.25% की कटौती की है। यह 6.25% से घटकर 6% हो गई है। मॉनेटरी पॉलिसी कमेटी (एमपीसी) की बैठक खत्म होने के बाद गुरुवार को ब्याज दरों की घोषणा की गई। [Read more...]

कांग्रेस का पूरा घोषणापत्र हिंदी में पढ़ें

कांग्रेस ने मंगलवार को अपना घोषणापत्र जारी किया जिसमें गरीब परिवारों को 72 हजार रुपये सालाना, 22 लाख सरकारी नौकरियां, महिलाओं को आरक्षण, धारा 370 को न हटने देने और देशद्रोह की धारा हटाने सहित कई वादे किए। यहां क्लिक [Read more...]

ट्रंप ने आखिर क्यों ट्वीट कहा ‘गेम ओवर’

तलाक के बाद छलका अरबाज का दर्द बोले- ‘सब ठीक चल रहा था लेकिन…’

राम माधव ने कहा- भारत के चुनावों से दूर रहें पाकिस्तान, सलाह नहीं चाहिए

हनुमान जयंती : भोग के लिए बना 38.25 क्विंटल का प्रसाद, बनाने में हुआ क्रेन, बुलडोजर और मशीन का इस्तेमाल

व्हाट्सऐप ने बधाई सुरक्षा, अब नहीं ले सकेंगे स्क्रीन शॉट

सुषमा के बयान पर पाकिस्तान का पलटवार, कहा- भारत स्वीकारे 2016 में नहीं हुई थी सर्जिकल स्ट्राइक

घाटे के बाद भी निजी कंपनियों को बीएसएनएल ने दिया टक्कर

लोकसभा चुनाव : 24 साल बाद माया और मुलायम एक मंच पर होंगे

मसूद अजहर पर प्रतिबंध के मुद्दे पर किसी के दबाव में नहीं आएगा पाकिस्तान : विदेश मंत्रालय

19 अप्रैल से स्‍थगित रहेंगे सभी एलओसी कारोबार, आतंकी कर रहे थे इस रूट का इस्तेमाल : गृहमंत्रालय

ऊपर