हम सुशांत मामले में सीबीआई जांच का विरोध नहीं करेंगे

पटना/मुंबई/दिल्ली : बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले की जांच केंद्रीय जांच ब्यूरो से कराने की पार्थ पवार की हालिया मांग पर उनके दादा एवं राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष शरद पवार ने शिवसेना सांसद संजय राउत से मुलाकात के बाद यहां कहा, ‘हमारे पोते (भतीजे के बेटे) ने जो कुछ भी कहा है हम उसे तनिक भी महत्व नहीं देते हैं। वह अभी अपरिपक्व हैं। मैंने स्पष्ट रूप से कहा है कि हमें महाराष्ट्र पुलिस पर 100 फीसदी भरोसा है। लेकिन, अगर कोई अब भी चाहता है कि मामले की जांच सीबीआई से हो तो इसका विरोध करने का कोई कारण नहीं है।’ उनसे यह पूछा गया था कि उनके पोते पार्थ पवार समेत कुछ लोग मामले की जांच केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो से कराना चाहते हैं।
मृत्यु के बाद राजपुत अधिक प्रसिद्ध हुए : मेमन
राकांपा नेता माजिद मेमन ने बुधवार को ट्वीट किया, ‘सुशांत अपने जीवनकाल के दौरान उतने प्रसिद्ध नहीं थे, जितने वह अपनी मृत्यु के बाद हुए। आजकल मीडिया में उनकी जितनी खबरें चल रही हैं, वह शायद हमारे प्रधानमंत्री या अमेरिका के राष्ट्रपति से कहीं अधिक है!’ अपनी पोस्ट पर सोशल मीडिया पर प्रतिक्रिया पर मेमन ने बाद में कहा, ‘सुशांत पर मेरी ट्वीट पर बहुत शोर है। क्या इसका मतलब यह है कि सुशांत अपने जीवनकाल के दौरान लोकप्रिय नहीं थे या उन्हें न्याय नहीं मिलना चाहिए? निश्चित रूप से नहीं। गलत व्याख्या से बचना चाहिए। ट्वीट में उनको किसी भी तरह से अपमान नहीं किया गया या उन्हें छोटा नहीं दिखाया गया है।’
सुशांत के चचेरे भाई भाजपा विधायक ने संजय राउत को भेजा कानूनी नोटिस
बिहार में भारतीय जनता पार्टी के विधायक और दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के चचेरे भाई नीरज कुमार सिंह उर्फ बबलू ने अभिनेता के परिवार विशेषकर उनके शोक संतप्त पिता के बारे में आपत्तिजनक टिप्पणी करने को लेकर शिवसेना सांसद संजय राउत को कानूनी नोटस भेजा है। शिवसेना के मुखपत्र ‘सामना’ में राउत ने कहा था कि पिता की ‘दूसरी शादी’ से अभिनेता नाराज थे। सुशांत के उनके पिता के साथ सौहार्दपूर्ण संबंध नहीं थे, और ऐसा हो सकता है कि इसी मानसिक कष्ट के कारण उन्होंने अपने करियर के शिखर पर यह कदम (आत्महत्या) उठाया हो। नोटिस में कहा है कि वह संसद के एक सम्मानित सदस्य और पार्टी के एक जिम्मेदार प्रवक्ता हैं ऐसे उन्हें अपनी उक्त आपत्तिजनक टिप्पणी को लेकर 48 घंटे के भीतर माफी मांगनी चाहिए। उन्होंने कहा कि यदि वह ऐसा करते हैं, तो हम आगे नहीं बढ़ेंगे। अगर वह नहीं करते हैं, तो हम कानूनी उपाय की तलाश करेंगे।
नयी जनहित याचिका पर गुरुवार को सुनवाई
सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले की सीबीआई की ‘एकीकृत’ जांच के लिये दायर जनहित याचिका पर उच्चतम न्यायालय गुरुवार को सुनवाई करेगा। जनहित याचिका में कहा गया है कि इस मामले की मुंबई पुलिस द्वारा की जा रही जांच के तरीके से पूरा देश स्तब्ध है। भाजपा नेता और अधिवक्ता अजय अग्रवाल की इस जनहित याचिका पर प्रधान न्यायाधीश एस ए बोबडे, न्यायमूर्ति ए एस बोपन्ना और न्यायमूर्ति वी रामासुब्रमणियन की तीन सदस्यीय पीठ सुनवाई करेगी।
सीबीआई से इसकी एकीकृत जांच करायी जाये
याचिका में कहा गया है कि इस मामले में सभी इलेक्ट्रॉनिक चैनलों पर मीडिया ट्रायल हो रहा है। इस मीडिया ट्रायल पर विराम लगाने के लिये जरूरी है कि सीबीआई से इसकी एकीकृत जांच करायी जाये, जो इस तरह के चर्चित मामलों की निष्पक्ष जांच करने में पूरी तरह दक्ष है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

मेरे लिये अकल्पनीय है कि मैं वहां नहीं हूं : रैना

दुबई : इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) से हटने वाले सुरेश रैना ने टूर्नामेंट के शुरूआती मैच से पहले चेन्नई सुपरकिंग्स टीम को अपनी शुभकामनायें देते आगे पढ़ें »

स्मिथ, आर्चर, बटलर कोविड-19 जांच में नेगेटिव, चयन के लिये उपलब्ध

दुबई : कप्तान स्टीव स्मिथ सहित स्टार खिलाड़ी जोफ्रा आर्चर और जोस बटलर यहां पहुंचने के बाद अनिवार्य कोविड-19 परीक्षण में नेगेटिव आये हैं और आगे पढ़ें »

ऊपर