यह कैसा दंड है

छत्रपति शिवाजी के गुरु समर्थ गुरु रामदास को एक किसान ने गन्ने के एक छोटे टुकड़े को पाने के लिये अपशब्द बोल दिये। मामला शिवाजी के सामने लाया गया। किसान ने सोचा कि अब उसे मृत्युदंड ही मिलेगा, क्योंकि घटनाक्रम राजा के गुरु से जुड़ा है। दरबार में समर्थ गुरु रामदास, शिवाजी से बोले—‘शिवा! इसका दंड मैं निर्धारित करना चाहूँगा।’
छत्रपति शिवाजी ने गुरु-आज्ञा सहर्ष स्वीकार की। समर्थ गुरु रामादास बोले—‘शिवा! इस किसान को पांच बीघा जमीन दान में दे दो।’ शिवाजी समेत दरबार में मौजूद सभी लोग आश्चर्य में पड़ गये कि यह कैसा दंड समर्थ गुरु रामदास जी ने दिया है। सबके कुतूहल को भांपते हुए समर्थ गुरु रामदास बोले—‘यह किसान निर्धन है। इसने क्षुधा-पीड़ित होकर मुझसे दुर्व्यवहार किया। इसकी पीड़ा-निवारण हमारा कर्तव्य है।’ गुरु रामदास के इस व्यवहार ने उस किसान को सदा के लिये बदल दिया।
सदाचरण करना ही सच्चा अध्यात्म
एक तपस्वी ब्राह्मण था, लेकिन तपस्या के अहंकार ने उसे भ्रमित कर दिया था और उसे आत्मज्ञान का मार्ग नहीं सूझ रहा था। वह बेचैन रहने लगा कि उसके उद्धार का रास्ता कौन बताएगा? एक दिन उसे स्वप्न में संदेश मिला कि वह तुलाधार वैश्य के पास जाए। वे ही उसे कल्याण का मार्ग बताएंगे। वह ब्राह्मण, तुलाधार के यहां जा पहुंचा। तुलाधार उसे देखते ही खड़े हो गये और बोले—‘ब्राह्मण देव! आपने अपने चरणों से मेरे निवास स्थान को पवित्र कर दिया है। मैं पहले आये हुए अन्य व्यक्तियों की, व्यापारियों एवं दुकानदारों की बातें सुनकर उनकी सहायता कर लूं, फिर आपकी सेवा के लिये तत्पर होऊँगा।’ तपस्वी ब्राह्मण, तुलाधार के समीप बैठ गया। उसने देखा कि तुलाधार, दुकानदारों को व्यापार में ईमानदारी बरतने, गरीबों के साथ करुणापूर्ण व्यवहार करने जैसी शिक्षाएं दे रहे हैं। वहां आये गरीबों व असहायों को दान देते हुए उनके साथ विनम्रता व शालीनता का व्यवहार कर रहे हैं।
वह तपस्वी ब्राह्मण, तुलाधार के आचरण को देखकर अध्यात्म का सच्चा मर्म समझ गया कि अहंकारशून्य होकर सदाचरण करना ही सच्चा अध्यात्म है। बिना कुछ कहे ही तुलाधार ने उस ब्राह्मण को अध्यात्म की शिक्षा दे दी और वह अपना व्यवहार उसी के अनुरूप बनाकर पुनः साधना में निमग्न हो गया, जिससे उसे शीघ्र आत्मज्ञान की प्राप्ति हुई।   n स्मिता मिश्र

मुख्य समाचार

भाटपाड़ा में बमबारी जारी, 1 मरा

सर्च अभियान चलाकर पुलिस ने किये 6 बम बरामद भाटपाड़ा : भाटपाड़ा थानांतर्गत 10 नं. गली के रामनगर कॉलोनी में बम विस्फोट होने से एक व्यक्ति आगे पढ़ें »

नए कोच के चयन में नहीं चलेगी विराट की मनमानी

नयी दिल्ली : टीम इंडिया का नया मुख्‍य कोच कौन होगा इस पर फैसला कुछ समय बाद लिया जाएगा। पर बीसीसीआई के एक अधिकारी ने आगे पढ़ें »

कृषि क्षेत्र में विकास के लिए केंद्र और राज्यों को मिलकर करना होगा काम

नई दिल्ली: केंद्र सरकार को कृषि क्षेत्र में सुधार के साथ राज्यों को वित्त आयोग द्वारा किए गए अनुदान और आवंटन को जोड़ना चाहिए। यह आगे पढ़ें »

2018-19 में डिजिटल ट्रांजेक्शन 51 फीसदी बढ़ी, कुल डिजिटल ट्रांजेक्शन 3,133.58 करोड़ के पार पहुंचा

नई दिल्ली : देश में डिजिटल ट्रांजेक्शन तेजी से बढ़ रहा है। वर्ष 2018-19 में डिजिटल ट्रांजेक्शन पिछले साल की तुलना में 51 फीसदी बढ़ी आगे पढ़ें »

निजी क्षेत्र और उपक्रमों को बढ़ावा देकर आर्थिक वृद्धि की रफ्तार तेज करना चाहती है सरकार

नई दिल्ली : केंद्र सरकार निजी क्षेत्र और निजी उपक्रमों को बढ़ावा देकर आर्थिक वृद्धि की रफ्तार बढ़ाने पर जोर दे रही है। इस बारे आगे पढ़ें »

सिंधू का दमदार प्रदर्शन, इंडोनेशिया ओपन के क्वार्टर फाइनल में पहुंची

जकार्ता : भारत की चोटी की शटलर पीवी सिंधू ने डेनमार्क की मिया बिलिचफेल्ट के खिलाफ तीन गेम तक चले संघर्षपूर्ण मैच में जीत दर्ज आगे पढ़ें »

fire in an animation studio in japan, 24 dead

एनिमेशन स्टूडियो में लगायी आग, 24 जिंदा जले

टोक्यो : जापान के क्योटो शहर में गुरुवार सुबह एक एनिमेशन स्टूडियो में आग लगने से 24 लोग जिंदा जल गए जबकि 35 से अधिक आगे पढ़ें »

ऐसे उठा सकते हैं एनपीएस में छुट का लाभ

नई दिल्ली : नेशनल पेंशन योजना (एनपीएस) ने ईपीएफओ से कहीं ज्यादा रिटर्न दिया है। एक रिपोर्ट के मुताबिक बीते 10 साल में केंद्रीय और आगे पढ़ें »

teachers enclosing legislative assembly lathi charged by the police

विधानसभा का घेराव करने पहुंचे शिक्षकों पर पुलिस ने किया लाठीजार्च

पटना : वेतनमान समेत सात सूत्रीय मांगों को लेकर गुरुवार को राजधानी पटना में विधानसभा का घेराव करने पहुंचे नियोजित शिक्षकों पर पुलिस ने जमकर आगे पढ़ें »

Government told - cases of rape are increasing in trains

सरकार ने बताया – ट्रेनों मे लगातार बढ़ रहे है दुष्कर्म के मामले

नई दिल्ली : देश की सड़कों-गलियों में तो बहू-बेटियां सुरक्षित थी ही नहीं, अब यात्रा के लिए सबसे सुरक्षित मानी जाने वाली ट्रेनों में भी आगे पढ़ें »

ऊपर