मराठी फिल्म ‘द डिसाइपल’ को वेनिस फिल्मोत्सव में एफआईपीआरईएससीआई पुरस्कार

20 साल में यह पहली ऐसी भारतीय फिल्म है, जिसे किसी यूरोपीय फिल्मोत्सव में मुख्य प्रतियोगिता के लिए चुना गया है
नयी दिल्ली : भारतीय फिल्मकार चैतन्य तम्हाणे की फिल्म ‘द डिसाइपल’ ने 2020 वेनिस फिल्मोत्सव में प्रतिष्ठित ‘द इंटरनेशनल फेडरेशन ऑफ फिल्म क्रिटिक्स’ (एफआईपीआरईएससीआई) पुरस्कार जीता है। फिल्म का पिछले सप्ताह ‘बिएनाले’ में प्रीमियर हुआ था और समीक्षकों ने काफी सराहा था। मराठी भाषा की यह फिल्म 20 साल में पहली ऐसी भारतीय फिल्म है, जिसे किसी यूरोपीय फिल्मोत्सव (कान, वेनिस, बर्लिन) में मुख्य प्रतियोगिता के लिए चुना गया है। इससे पहले 2001 में मीरा नायर की ‘मानसून वेडिंग’ को चुना गया था। शास्त्रीय संगीत की विषयवस्तु पर बनी ‘द डिसाइपल’ में आदित्य मोदक ने मुख्य किरदार निभाया है और चार बार ऑस्कर पुरस्कार जीत चुके अल्फांसो कुओरोन इसके कार्यकारी निर्माता हैं।
इस पुरस्कार का मकसद फिल्म संस्कृति को प्रोत्साहित एवं विकसित करने के साथ ही पेशेवर हितों की रक्षा करना है। पेशेवर फिल्म समीक्षक और दुनिया भर के फिल्म पत्रकार बेल्जियम के ब्रसेल्स में 1930 में गठित इस संगठन के सदस्य हैं। चैतन्य तम्हाणे ने एक बयान में कहा कि हम ‘द डिसाइपल’ की यात्रा की इस शानदार शुरुआत से काफी उत्साहित एवं रोमांचित हैं। इससे पूर्व 1990 में इस वार्षिक फिल्मोत्सव में भारतीय फिल्म ‘माथीलुकल’ ने एफआईपीआरईएससीआई पुरस्कार जीता था। इसका निर्देशन अडूर गोपालकृष्णन ने किया था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

कोलकाता नाइट राइडर्स ने सनराइजर्स हैदराबाद को 7 विकेट से हराया

केकआर को मिली सीजन की पहली जीत,  गिल चमके अबुधाबी :सनराइजर्स के खिलाफ शानदार बोलिंग के बाद शुभमन गिल की बेहतरीन बल्लेबाजी की बदौलत कोलकाता नाइट आगे पढ़ें »

अकाली दल का दूसरा ‘बम’, भाजपा से 22 साल पुराना नाता तोड़ा

चंडीगढ : भारतीय जनता पार्टी के सबसे पुराने साथी शिरोमणि अकाली दल ने भाजपा का साथ छोड़ने की घोषणा कर दी है। उसने राष्ट्रीय जनतांत्रिक आगे पढ़ें »

ऊपर