पक्षीराज जटायु का मंदिर

दण्डकारण्य में गिद्धराज जटायु का मंदिर है। यहां जब मां सीता का अपहरण कर रावण पुष्पक विमान से लंका जा रहा था तो सबसे पहले जटायु ने यहां रावण को रोका था। दण्डकारण्य के आकाश में ही रावण और जटायु का युद्ध हुआ और जटायु के कुछ अंश दण्डकारण्य में आ गिरे।
इन मान्यताओं के भले ही साक्ष्य न हो, लेकिन आस्था और भक्ति को किसी साक्ष्य की आवश्यकता नहीं होती है।
जटायु की राम से पहली भेंट पंचवटी में हुई थी जहां वे रहते थे। लेकिन उनकी मृत्यु दण्डकारण्य में हुई जो ऋषियों की तपोभूमि भी है और सबसे बड़ी बात यह है कि यहां पहाड़ के ऊपर शिवलिंग पर अनवरत जलधारा का बहना है।
किंवदंती है कि भगवान राम के समय से यह झरना बह रहा है। इस झरने का स्रोत का कुछ अता-पता नहीं है। – मोहन लाल मगो

Leave a Comment

अन्य समाचार

पांच अप्रैल को रिलीज होगी ‘पीएम नरेंद्र मोदी’

मुंबई :  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जीवन पर बनी फिल्म ‘पीएम नरेंद्र मोदी’ पांच अप्रैल को रिलीज होगी। फिल्म निर्माताओं ने मंगलवार को यह घोषणा की। पहले यह फिल्म 12 अप्रैल को रिलीज होने वाली थी। निर्माता संदीप सिंह ने [Read more...]

बाइक पर सैर करते दिखें कार्तिक-सारा, देखें वीडियो

नई दिल्ली: सारा अली खान ने एक बार कार्तिक आर्यन को डेट करने की बात क्या कह दी कि उसके बाद जब भी दोनों एक साथ होते हैं उनका वीडियो और फोटो तुरंत वायरल होने लगता है। जैसे पिछले दिनों [Read more...]

मुख्य समाचार

आखिरकार चीन ने माना, मुंबई हमले को सबसे कुख्यात हमला

बीजिंग : चीन ने भारत में साल 2008 में हुए मुंबई हमले को सबसे कुख्यात हमलों में से एक बताकर चौंकाने वाला दिया है। चीन के इस बदले मिजाज से हर कोई शक्ते में है क्योंकि यह वही चीन है [Read more...]

मोजाम्बिक के तूफान में एक हजार से ज्यादा लोगों ने जान गंवायी

बेइरा : मोजाम्बिक के राष्ट्रपति ने पिछले सप्ताह आए भीषण तूफान के कारण एक हजार से ज्यादा लोगों के मरने की आशंका जाहिर की है। वहीं तूफान का कहर पड़ोसी देश जिम्बाब्वे में भी बरपा है जिससे दर्जनों लोगों की [Read more...]

ऊपर