नहीं रहे स्टंट मास्टर वीरू देवगन

नई दिल्लीः फिल्म अभिनेता अजय देवगन के पिता और स्टंट मास्टर वीरू देवगन का मुंबई में निधन हो गया। वीरू देवगन फिल्म जगत के एक मशहुर स्टंट मास्टर थे। उन्होंने कई सुपरहिट फिल्मों के स्टंट कोरियोग्राफ किये थे। इसके लिए उन्हें कई पुरस्कारों से भी नवाजा गया था। अजय देवगन के पिता वीरू देवगन ने सोमवार को मुंबई में अंतिम सांसे ली। उनका स्वास्थ्य बहुत समय से खराब चल रहा था। उन्होंने करीब 80 से अधिक फिल्मों में एक्शन कोरियोग्राफ करने का काम किया था। इसके अलावा उन्होंने ‘हिंदुस्तान की कसम’ नामक फिल्म का निर्देशन भी किया था।

सन 1957 में 14 साल के वीरू देवगन बॉलीवुड में घुसने की चाह लिए अमृतसर में अपने घर से भाग गए। मुंबइ जाने के लिए उन्होंने फ्रंटियर मेल पकड़ ली लेकिन टिकट न होने के कारण पकड़ें गये। टिकट नहीं लेने के कारण दोस्तों के साथ हफ्ते भर जेल में रहे। बाहर निकलने पर मुंबइ शहर और भूख ने उनको तोड़ दिया था। उनके साथ आए कुछ दोस्त टूटकर अमृतसर वापिस लौट गए लेकिन वीरू देवगन नहीं गए। वह टैक्सियां धोने लगे और कारपेंटर का काम करने लगे, हौसला लौटने पर फिल्म स्टूडियोज के चक्कर काटने लगे। उन्हें हीरो बनना था लेकिन उन्हें जल्द ही समझ आ गया कि हिंदी फिल्मों में जो चॉकलेटी चेहरे हीरो और अभिनेता बने हुए हैं, उनके सामने उनका कोई चांस नहीं है।

वीरू देवगन ने अपने बेटे अजय देवगन को हीरो बनाने के लिए बहुत कड़ी मेहनत की है। उन्हें कम उम्र से ही फिल्म मेकिंग और एक्शन से जोड़ा। वीरू ये सब अजय के हाथों ही करवाते थे। कॉलेज गए तो उनके लिए डांस क्लासेज शुरू करवाईं। घर में ही जिम बनावाया। हॉर्स राइडिंग सिखाया और फिर उन्हें अपनी फिल्मों की एक्शन टीम का हिस्सा बनाने लगे। उन्हें बताने लगे कि सेट का माहौल कैसा होता है। जिसके चलते आज अजय फिल्म मेकिंग को लेकर बहुत सक्षम हो गए हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

dhule

महाराष्ट्र : बस और ट्रक के बीच भीषण टक्कर में 15 की मौत ,कई घायल

धुले : महाराष्ट्र के धुले में एक दर्दनाक हादसा होने का मामला सामने आया है। यहां एक बस और ट्रक के बीच हुए भीषण टक्कर आगे पढ़ें »

sahla rashid

कश्मीरःफर्जी दावा मामले में शहला की सुप्रीम कोर्ट में शिकायत,सेना ने तथ्यहीन बताया

नई दिल्ली : जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) की पूर्व छात्र नेता और पूर्व छात्र संघ की उपाध्यक्ष शेहला रशीद द्वारा कश्मीर के मौजूदा हालातों आगे पढ़ें »

ऊपर