तीन महीने के लिए सिनेमाघर का मनोरंजन कर व बिजली बिल माफ

मुंबई : कोरोना महामारी की मार लोगों के स्वास्थ्य के साथ-साथ जेबों पर भी पड़ी है। 2020 की इस महामारी ने आर्थिक हालातों को भी बीमार कर दिया है। कई सेक्टरों को भारी नुकसान झेलना पड़ा है, सिनेमाघर भी इनमें से एक है। सिनेमाघरों की मौजूदा हालत को देखते हुए केरल सरकार ने जनवरी से मार्च 2021 के बीच में सिनेमाघरों से मनोरंजन कर नहीं लेने का फैसला किया है। साथ ही सिनेमाघरों को बिजली बिल में भी 50 फीसदी की राहत दे दी गई है।
सिनेमा के मामले में पूरा देश अब तक दिक्कतें झेल रहा है। चाहे वह देश का कोई सा भी राज्य हो, वहां भारत सरकार के नियमानुसार सिर्फ 50 फीसदी लोगों को ही एक साथ फिल्म देखने की अनुमति है।
5 जनवरी से खोले गए सिनेमाघर
कुछ दिन पहले ही तमिलनाडु सरकार ने अपने राज्य में सिनेमाघरों को पूरे सौ फीसदी तक खोलने की इजाजत दे दी थी। लेकिन, केंद्र सरकार के एतराज की वजह से उन्हें अपना यह फैसला वापस लेना पड़ा। केरल में 5 जनवरी से 50 फीसदी लोगों को एक साथ फिल्म देखने की अनुमति के साथ सिनेमाघर खोलें गए हैं। इस दौरान सरकार की तरफ से लागू किए गए स्वास्थ्य सुरक्षा संबंधी सभी नियमों का पालन भी करना होगा।
सरकार के फैसले का स्वागत
हालांकि, राज्य सरकार की अनुमति मिलने के बावजूद केरल फिल्म चेंबर ऑफ कॉमर्स ने सिनेमाघरों को बंद ही रखना ठीक समझा। वह चाहते थे कि पहले उनकी बातचीत सरकार से हो जाए और उसके बाद ही वह सिनेमाघरों को खोलने का जोखिम उठाएंगे। यूनियन की बात को अब राज्य सरकार ने मान लिया है और उन्हें राहत देते हुए मनोरंजन कर न लगाने और बीते मार्च से लेकर अब तक का बिजली बिल आधा करने की मंजूरी दे दी है। सरकार के इस फैसला का सभी स्वागत कर रहे हैं। देश के दूसरे राज्यों में सरकारों ने अब तक कोई राहत नहीं दी है।

 

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

जम्मू में 150 मीटर लंबी व 30 फीट गहरी सुरंग का बीएसएफ ने लगाया पता

नई दिल्ली : बीएसएफ को कठुआ (जम्मू-कश्मीर) के पंसार इलाके में अंतर्राष्ट्रीय सीमा के पास 150 मीटर लंबी और 30 फीट गहरी सुरंग मिली है। आगे पढ़ें »

कोविड-19 के बीच इतिहास में पहली बार पेपरलेस होगा केंद्रीय बजट

नई दिल्ली : वित्त मंत्रालय ने पुष्टि की है कि कोविड-19 के बीच केंद्रीय बजट 2021-22 पेपरलेस होगा जिससे यह स्वतंत्र भारत के इतिहास में आगे पढ़ें »

ऊपर