जीवन सुपरफास्ट पीछें छूट गया परिवार

आ जकल हमारा जीवन सुपर फास्ट हो गया है। अभी मनुष्य के पास तरह तरह की हवा से भी अधिक तीव्रगति की सवारियां और तरह-तरह के यान हैं। उन सब की तेज गति से भी लोग संतुष्ट नहीं हैं। कंप्यूटर के नाम से जो मशीन विज्ञान ने निकाली है, उसकी शक्ति, स्मृति और रफ्तार नित्य प्रति बढ़ती जा रही है। आ जकल हमारा जीवन सुपर फास्ट हो गया है। अभी मनुष्य के पास तरह तरह की हवा से भी अधिक तीव्रगति की सवारियां और तरह-तरह के यान हैं। उन सब की तेज गति से भी लोग संतुष्ट नहीं हैं। कंप्यूटर के नाम से जो मशीन विज्ञान ने निकाली है, उसकी शक्ति, स्मृति और रफ्तार नित्य प्रति बढ़ती जा रही है। बटन दबाओ और सामनेे आ जाती हैं सारे ज्ञान-विज्ञान की चीजें। अब हमारे सारे ज्ञान-विज्ञान आसमान में बादलों की तरह विचरण कर रहे हैं। पहले लोग पैदल चलते थे। फिर उन्होंने तरह तरह के जानवरों को अपना वाहन बनाया जैसे हाथी, घोड़ा, गधा, ऊंट, याक और बैल आदि। फिर गाड़ियां बनीं, जिनमें इन मवेशियों को जोता गया। फिर साइकिल युग आया, रेलगाड़ी का युग आया, तरह-तरह के मोटर साइकिलें व मोटर गाड़ियां सड़कों पर दौड़ने लगी मगर आदमी की भूख इनकी रफ्तार से मिटी नहीं। उन्होंने हवाई जहाज बनाया, पानी में तैरने वाले यान बनाए मगर उनसे उनका मन नहीं भरा तो वह ऐसे-ऐसे राकेट बनाने लगा हैं कि मंगल लोक, चंद्रलोक तक जा पहुंचे हैं। उनकी खोज जारी है। अब वे सूर्य लोक की फतह करने की तैयारी में हैं। वे ऐसे हवाई यान बनाना चाहते हैं कि ब्रह्मांड में बसी अनेकों दुनिया से हमारी पृथ्वी का संबंध ऐसा बने कि धरती आकाश घर आंगन सा हो जाये। विज्ञान ने हमें अपना विस्तार करने के बहुत रास्ते दिये हैं। जब सड़कों पर चलने वाली मोटर साइकिल जहाज की तरह आसमान में उड़ेगी। अब धरती पर चलने वाली रेलगाड़ी सुपरफास्ट ट्रेन से बहुत आगेे बुलेट ट्रेन भारत में चलेगी जिस पर जापान के साथ मिलकर काम हो रहा है। कहने का तात्पर्य यह है कि आज के मनुष्य को आवाज से भी अधिक तीव्र गति से चलने वाले वाहन भले ही प्राप्त हो जायें मगर रफ्तार के मामले में उसकी भूख प्यास मिटने वाली नहीं है। मुझे लगता है कि आने वाले वक्त में मनुष्य के शरीर में ही कोई मशीन फिट होगी जिसके बटन दबाने पर ही आदमी चिड़ियों की तरह बड़ी तीव्र गति से आसमान में उड़कर अपने गन्तव्य स्थान में पहुंच जाएगा। उस समय हम एक नई दुनिया के नये आदमी होंगे। आदमी के विकास की रफ्तार में इतनी तेजी आई है कि दुनिया उसकी मुट्ठी में आ गई है। वह पलक मारते ही एक बटन दबाने पर जिस देश को देखना चाहे, जिस व्यक्ति से मिलना चाहे, अपने बिछावन पर पड़े-पड़े अपने मोबाइल के स्क्रीन पर सब कुछ देख लेते हैं। विज्ञान ने लोगों के हाथ में मोबाइल पकड़ा दिया है। अब वे सब महाभारत के संजय की तरह दूर दृष्टि वाले हो गये हैं। संजय को प्राप्त थी दिव्य दृष्टि और हम लोगों को प्राप्त है दूर दृष्टि। हमारी दूर दृष्टि ने हमें अपनों से दूर कर दिया है। हम भले ही घर बैठे-बैठे अपने मोबाइल या टीवी पर भले ही सारा ब्रह्माण्ड देख लें मगर एक ही छत के नीचे रहने वाले अपने माता-पिता को देख नहीं पाते। उनके मोबाइल पर भले ही उनके यार- दोस्त आ जाये। उनके घरों के जश्नों के दृश्य उनके मोबाइल पर भले ही आ जायें मगर उनके माता-पिता के चित्र न उनके हृदय में हैं और न उनके मोबाइल पर। पहले परिवार का अर्थ होता था- दादा-दादी, माता-पिता, चाचा-चाची, भाई बहन मगर अब सारी दुनिया को अपनी मुट्ठी में लेकर चलने वालों का यह बड़ा परिवार कहां खो गया, पता नहीं चलता है। अब परिवार का मतलब है मियां-बीवी और दो बच्चे बस। सरकार कहती है छोटा परिवार, सुखी परिवार मगर आप अखबारों के पन्ने उलट कर देखिये और अपने पड़ोस में रहने वाले पड़ोसियों के घर देखिये तो मालूम पड़ेगा कि छोटे परिवारों में भी आग लगी है। वहां भी कलह-क्लेश का ऐसा तांडव होता है कि कोर्टं में तलाक के ढेर बढ़ते जा रहे हैं। आजकल किसी विवाहित लड़की से पूछिये तुम्हें बच्चा चाहिए या कार, वह कहेगी मुझे बच्चा नहीं कार चाहिए। यदि मेरे पति को बच्चा चाहिए तो वह भाड़े पर कोख लेकर अपना बच्चा पैदा कर ले या नहीं तो किसी का बच्चा गोद ले ले। न मैं गर्भवती होना चाहती हूं और न बच्चे का लालन-पालन। ऐसी स्थिति में मानव समाज का क्या होगा? परिवार कैसे बनेगा? नाते रिश्तों का संसार कैसा होगा? इस वैज्ञानिक युग में मानवता, नैतिकता, विश्वास, बंधुत्व, विश्व शांति आदि की बड़ी आवश्यकता है क्योंकि आज विज्ञान ने ऐसे ऐसे विध्वंसक बमों और हथियारों का जखीरा बड़े -बड़े देशों के पास लगा दिया है कि यदि वे आपस में कभी भिड़ गये तो सारी दुनिया जलकर राख हो जाएगी। विज्ञान के भौतिकीय विकास और विस्तार के साथ-साथ मानवता और उसके गुण, प्रेम, सहानुभूति, करुणा, श्रद्धा, बंधुत्व, अपनत्व, उत्सर्ग, राष्ट्र प्रेम, समाज प्रेम, परिवार प्रेम एक दूसरे के प्रति सेेवा सहयोग और उत्तरदायित्व का भी विस्तार होना चाहिए जो हमारी फास्ट लाइफ में लुप्त होता जा रहा है। आज के जीवन के दर्शन और चिंतन मनन ने आधुनिकता के नाम पर एक ऐसे बौने आदमी का अवतरण हो रहा है जिसमें आदमीयत और नैतिकता का अभाव है उसमें स्वार्थ और नफरत की बारूद भरी है। कहने का तात्पर्य यह है कि विज्ञान जिस नये आदमी की परिकल्पना साकार करना चाहता है, उसमें हमारे प्राचीन मूल्यों और मर्यादाओं का कोई मेल नहीं है। संयुक्त परिवार से लघु परिवार निकला और लघु परिवार पानी के बुलबुले की तरह विलुप्त होने लगा है। पति अमेरिका में काम कर रहा है। पत्नी लंदन में काम कर रही है। बेटा कनाडा में पढ़ रहा है। बेटी स्विटजरलैंड में पढ़ रही है। अब बतलाइये इसको हम कैसा परिवार कहें। जिस तरह विज्ञान रोज नये-नये अनुसंधान कर रहा है। वैसा अनुसंधान मानव शास्त्र और समाज शास्त्र में नहीं हो रहा है। आज आवश्यकता इस बात की है कि हमारा सुपर फास्ट लाइफ जिस रफ्तार से चाहे बढ़े मगर, उसका संबंध घर-परिवार, समाज और देश व दुनिया से बना रहे क्योंकि इस संबंध से टूटा हुआ आदमी कुछ भी बन जाये मगर वह आदमी बनकर नहीं रह पायेगा।

-ज्योत्सना निधि

मुख्य समाचार

फिर नामी स्कूल की छात्रा द्वारा आत्महत्या की कोशिश

-स्कूल की तत्परता से बाल -बाल बची छात्रा की जान - 7वीं की छात्रा के पास से बरामद हुआ ब्लेडों का संग्रह कोलकाता : रानीकुठी में स्कूल आगे पढ़ें »

भारती घोष को पुलिस ने रोका, लेडी पुलिस के साथ हुई धक्का – मुक्की

पूर्व मिदनापुर : भाजपा नेता व पूर्व आईपीएस अधिकारी भारती घोष बुधवार को पूर्व मिदनापुर के खेजुरी में भाजपा कार्यकर्ताओं से मुलाकात करने के लिए आगे पढ़ें »

बैंकों को एनपीए संकट से उबरेगी सरकार, उठाया ये कदम

नई दिल्ली : बैंकों को एनपीए संकट से उबारने के लिए सरकार नई प्लानिंग कर रही है। इसी कड़ी में अब पब्लिक सेक्टर बैंक यानी आगे पढ़ें »

इस्तीफा वापस नहीं लेने पर अड़े राहुल, 51 सांसदों की मांग भी ठुकराई

नई दिल्ली : कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अपना इस्तीफा वापस न लेने की जिद पर अड़े हुए हैं। बुधवार को एक बार फिर उन्हें मनाने आगे पढ़ें »

एयर स्ट्राइक के स्ट्रैटेजिस्ट गोयल ‘रॉ’ और कश्मीर मुद्दे के विशेषज्ञ कुमार नये आईबी प्रमुख नियुक्त

नई दिल्ली : भारत सरकार ने बुधवार को देश की सुरक्षा से जुड़ी दो अहम संस्‍थाओं, खुफिया ब्यूरो (आईबी) और रिसर्च एंड एनालिसिस विंग (रॉ) आगे पढ़ें »

कूलपैड ने ड्यूड्रॉप डिस्प्ले के साथ फोन लॉन्च किया, कीमत 5999 रुपये

नई दिल्ली : भारतीय युवाओं के जरूरतों को ध्यान में रखते हुए वैश्विक स्मार्टफोन ब्रांड कूलपैड ने कूलपैड कूल 3 प्लस लॉन्च किया है। एमटी6761 आगे पढ़ें »

यूएनएससी में भारत की अस्‍थाई सदस्यता का एशिया-प्रशांत समूह ने किया समर्थन

संयुक्त राष्ट्र : केंद्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार बनने के बाद से दुनिया में भारत की साख लगातार बढ़ रही है। एशिया-प्रशांत समूह आगे पढ़ें »

परिवारवाद को लेकर मायावती के खिलाफ बसपा कार्यकर्ताओं का सांकेतिक प्रदर्शन

लखनऊ : बहुजन समाज पार्टी (बसपा) में परिवारवाद का विरोध जताते हुए यहां 12 माल एवन्यू पर स्थित पार्टी के प्रदेश मुख्यालय के सामने कार्यकर्ताओं आगे पढ़ें »

ममता ने भाजपा के मुकाबले के लिए कांग्रेस और माकपा से की एकजुट होने की अपील

कोलकाता : बुधवार को विधानसभा में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भाजपा को रोकने के लिए माकपा और कांग्रेस से एकजुट होकर लड़ने की अपील की। आगे पढ़ें »

कंप्यूटर बाबा ने कमलनाथ सरकार से मांगा ड्रोन प्लेन

भोपाल : मध्य प्रदेश में कमलनाथ सरकार में नर्मदा न्यास मंडल के अध्यक्ष कम्प्यूटर बाबा ने राज्य सरकार से नई डिमांड की है। उन्होंने सचिवालय आगे पढ़ें »

ऊपर