गावस्कर की तरह बल्ला पकड़ने में ताहिर को लग गए 6 महीने

मुंबई : देश को 1983 में विश्व कप दिलाने वाले दिग्गज खिलाड़ियों के खेल की आज भी चर्चा होती है। फिल्म जगत लोगों के जहन में फिर से एकबार उस विश्व कप की यादों को ताजा करने की तैयारी में है। बॉलीवुड में ’83’ नाम से विश्व कप पर आधारित एक फिल्म बन रही है। फिल्म के लिए खिलाड़ियों का किरदार निभाने के लिए कई अलग-अलग अभिनेताओं को कास्ट किया जा रहा है। इन अभिनेताओं में एक नाम रणवीर सिंह का है जो फिल्म में कपिल देव का किरदार निभाएंगे, वहीं दूसरा नाम अभिनेता ताहिर राज भसीन का है जो सुनील गावस्कर की भूमिका में दिखेंगे। इस फिल्म में गावस्कर की तरह बल्लेबाजी करने के लिए बहुत पापड़ बेलने पड़े।

6 महीने की कड़ी महनत

ताहिर ने फिल्म में अनपी भूमिका को लेकर बताया कि “मुझे गावस्कर सर की स्टाइल को अपनाने के लिए कड़ी ट्रेनिंग की जरूरत पड़ी। अन्य बच्चों की तरह मैं भी पहले गली क्रिकेट ही खेलाता था। इसलिए मुझे जल्द ही पता चल गया कि वास्तव में क्रिकेट खेलना वो भी महान क्रिकेटर सुनील गावस्कर की तरह कितना बहुत चुनौतीपूर्ण साबित होने वाला है। जब मैंने क्रिकेट के लिए प्रशिक्षण लेना शुरू किया तब मुझे पता चला कि जिस तरह से मैं क्रिकेट का बल्ला पकड़ता हूं वो सही तरीका है ही नहीं। खेलने के सही तरीके को सीखने के लिए मुझे 6 महीने की कड़ी ट्रेनिंग से गुजरना पड़ा।” बता दें कि ताहिर को गवास्कर बनाने की जिम्मेदारी पूर्व भारतीय क्रिकेटर बलविंदर संधू और फिटनेस कोच राजीव मेहरा को दी गयी थी।‌

ट्रेनिंग प्रोफेशनल बनाया

इस फिल्म की तैयारियों के बारे में ताहिर ने यह भी कहा, “इस 6 महीने की ट्रेनिंग ने मुझे सहज भाव वाले पेशेवर क्रिकेटर के तौर पर ढलने में काफी मदद की। इस ट्रेनिंग के बाद जब कैमरा मुझे शूट के दौरान फिल्मा रहा था तब मैं मैदान में संर्घष करता नजर नहीं आ रहा था, बल्कि एक प्रोफेशनल बल्लेबाज की तरह ही अपने शॉट्स को खेल पा रहा था।”

शेयर करें

मुख्य समाचार

टाला ब्रिज पर डायवर्सन के कारण 100 मिनी बसें चलाएगा परिवहन विभाग

वाहनों के डायवर्सन से यात्रियों को नहीं होगी समस्याः शुभेन्दु अधिकारी कोलकाताः टाला ब्रिज पर बस व भारी वाहनों की पाबंदी के बाद बड़े पैमाने पर आगे पढ़ें »

बीजीबी की कार्रवाई बेवजह, हमने नहीं चलाई एक भी गोलीः बीएसएफ

मुर्शिदाबादः बॉर्डर गार्ड बांग्लादेश (बीजीबी) के जवानों ने बीएसएफ के जवान को लक्ष्य कर जानबूझकर चलायी थी गोली। यह मानना है सीमा पर तैनात बीएसएफ आगे पढ़ें »

ऊपर