कोलम्बस ने जब चाँद को छोटा किया !

यह प्रसंग विश्व प्रसिद्ध  जलयात्री क्रिस्टोफर कोलम्बस के यात्रा वृतांत से संबंधित है। एक बार अपने कुछ साथियों के साथ एक नाव में यात्रा कर रहे थे। कई दिन समुद्री यात्रा करने के पश्चात उनके पास खाने लायक कुछ नहीं बचा। जब पश्चिमी द्वीप  के तट पर नाव लगी तो वे सब भूख से व्याकुल हो चुके थे। भोजन की तलाश में इधर-उधर भटकते -भटकते वे उस द्वीप के जंगली आदिवासियों के गिरफ्त में आ गये। उन जंगलियों ने उन्हें पकड़कर अपने सरदार के सम्मुख पेश किया।  सरदार ने कड़ककर पूछा –‘इस द्वीप पर हमारा कब्जा है। यहां तुम लोग क्यों आये  हो ?’
प्रत्युत्तर में अपने साथियों के बचाव में कोलम्बस ने सारा यात्रा वृतांत बताकर भोजन की मांग की।– जंगली सरदार ने उन्हें भोजन देने से साफ इन्कार कर दिया तथा पत्थर द्वारा मारकर खत्म करने का अपने जंगली निवासियों को आज्ञा दी।
यह सुनकर सभी के प्राण सूख गए। एक तो भूख से मरने की परेशानी  थी, दूसरी पत्थरों से मार खाकर मर जाने की दिक्कत थीं। ऐसी विकट परिस्थिति में बुद्धिमान कोलम्बस को एक अनोखी युक्ति सूझी।
उस दिन मार्च की पहली तारीख थी और वह जानता था कि –‘आज चन्द्र ग्रहण होगा।’ बस इसी घटना का लाभ उठाते हुए उसने सरदार को डराते हुए धमकाया —‘यदि तुमने हमें भोजन न दिया और हमें पत्थर से मारा तो मैं अपने जादू से तुमलोगों को आज चांद की राेशनी से वंचित कर दूंगा।’
चूँकि वे जंगली आदिवासी चन्द्रग्रहण से अनजान थे, इसलिए उसके कथन की सत्यता को परखने के लिए उन सभी को रात भर बन्दी बनाकर रख लिया। जैसे ही रात का आगमन हुआ। सरदार अपने निवासियों को उन्हें एक खुली  जगह पर बांध देने को कहा।
रात गहराने पर कोलम्बस ने चांद की ओर देखते हुए एकाएक अपना हाथ उठाया तो धीरे-धीरे ग्रहण लगने के कारण चांद छोटा होने लगा। जिसे देखकर जंगलनिवासी समेत सरदार भी डर गया। वे भयभीत होकर इधर-उधर भागने लगे। सरदार ने भयातुर होकर कोलम्बस के पांव पकड़ लिए और बोला –‘श्रीमान !आप जरूर कोई देवता हैं ! हमें माफ़ कर दीजिए। मुझे आपकी हर शर्त मंजूर है। मैं आप सभी के लिए अच्छे से अच्छे भोजन का इन्तजाम करवाता हूँ, बस आप हमलोगों को चांद की रोशनी से वंचित न करें। ‘
एक निश्चित समय के बाद कोलम्बस ने अपना हाथ गिरा दिया, मानो सरदार की बात रख ली हो, फिर चन्द्रमा अपने पूरे प्रकाश से समूचे वातावरण को दूधिया रोशनी में नहलाने लगा। जिसे देखकर सभी कबीलेवाले ख़ुशी से झूमने लगे।
इस प्रकार कोलम्बस की सूझबूझ और बुद्धिमानी से  उसकी व उसके साथयों के प्राण बच गये।
n अंशुल अग्रवाल

मुख्य समाचार

Kulbhushan Jadhav case, Pakistan, United Nations, ICJ

कुलभूषण जाधव मामला : पाक नहीं माना तो संयुक्त राष्ट्र उठाएगा कदम

नई दिल्ली : अंतरराष्‍ट्रीय अदालत ने बुधवार को पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव से जुड़े मामले में अपना फैसला सुनाते हुए आगे पढ़ें »

Chandrayaan-2 Launching

सुधारी गईं चंद्रयान-2 की खामियां, 22 जुलाई को होगी लांचिंग

चेन्नई : तकनीकी खराबी के कारण 15 जुलाई को रद्द हुई चंद्रयान-2 की लॉन्‍चिंग अब 22 जुलाई को दोपहर 2.43 बजे होगी। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान आगे पढ़ें »

Floods in Assam-Bihar

असम और बिहार में बाढ़ से  गंभीर हुए हालात, अब तक 94 लोगों की मौत

नई दिल्‍ली : असम और बिहार समेत कई राज्यों में लगातार हो रही बारिश की वजह से लोगों का जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। भारी आगे पढ़ें »

वाट्सऐप जल्द शुरू करेगा पेमेंट सर्विस, 30 करोड़ यूजर्स को होगा फायदा

नई दिल्ली : वाट्सऐप भारत में जल्द पेमेंट सर्विस शुरू करने जा रहा है। वह 1 साल से इसके बीटा वर्जन की टेस्टिंग कर रहा आगे पढ़ें »

Ayodhya dispute

अयोध्या विवाद: सर्वोच्च न्यायालय ने कहा- 2 अगस्त को रोज सुनवाई पर विचार करेंगे

नई दिल्ली : सर्वोच्च न्यायालय ने गुरुवार को अयोध्या जमीन विवाद को लेकर मध्यस्‍थता कमेटी को 31 जुलाई तक अंतिम रिपोर्ट सौंपने का निर्देश दिया आगे पढ़ें »

कोर्ट पर विश्वास है – सव्यसाची

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : विधाननगर नगर निगम की अध्याचित बैठक को लेकर बुधवार को सुनाये गये हाईकोर्ट के फैसले पर मेयर सव्यसाची दत्त ने कहा कि आगे पढ़ें »

मेट्रो का गेट बंद होते समय प्रवेश किया तो 1000 रुपये जुर्माना

कोलकाताः पार्क स्ट्रीट मेट्रो में हुए हादसे से सबक लेते हुए कोलकाता मेट्रो रेलवे प्रबंधन ने भी काफी कड़े नियम अपनाए हैं। इसके तहत यदि आगे पढ़ें »

हावड़ा के एन एच 6 पर भयावह दुर्घटना, 4 मरे

इनोवा कार ने कंटेनर को पीछे से मारा धक्का संभवत: कालीघाट में पूजा करने आये थे 5 लोग हावड़ा : हावड़ा के एन. एच. 6 पर घटी आगे पढ़ें »

इंडो रूसी कंपनियां मिलकर बनाएंगी एके 203 असॉल्ट राइफल

नई दिल्ली : रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने नई दिल्ली में एक उच्च स्तरीय बैठक में एके 203 असॉल्ट राइफलों के उत्पादन के लिए उत्तर प्रदेश आगे पढ़ें »

paragliding

जम्मू-कश्मीर में पशुपालन अधिकारी ने जागरुकता फैलाने के लिए लिया पैराग्लाइडिंग का सहारा

जम्मू : जम्मू-कश्मीर के रियासी जिले के दुर्गम पहाड़ी इलाकों में पहुंचने के लिए पशुपालन विभाग के एक अधिकारी ने पैराग्लाइडिंग का सहारा लिया। ऐसा आगे पढ़ें »

ऊपर