कान फिल्म फेस्टीवल में जारी होगा आईएफएफआई का गोल्डन जुबली पोस्टर

नयी दिल्ली: भारतीय अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह (आईएफएफआई) के 50 साल पूरा होने के अवसर पर भारतीय प्रतिनिधिमंडल 2019 के कान फिल्म समारोह में एक विशेष पोस्टर जारी करेगा। सूचना एवं प्रसारण सचिव अमित खरे के नेतृत्व में प्रतिनिधिमंडल कान में आईएफएफआई के गोल्डन जुबली संस्करण का प्रचार करेगा। आईएफएफआई का आयोजन इस साल के आखिर में गोवा में होगा। फिल्म प्रतिनिधिमंडल में केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड के अध्यक्ष प्रसून जोशी और जाने माने फिल्मकार राहुल रवैल, शाजी एन करुण और मधुर भंडारकर शामिल हैं।

पायरेसी के खिलाफ प्रचार

यह प्रतिनिधिमंडल भारत में शूटिंग को बढ़ावा देने के मकसद से फिल्मकारों के लिये शूटिंग की मंजूरी से संबंधित सुविधा केंद्र, ‘फिल्म सुविधा कार्यालय’ और फिल्म की पायरेसी के खिलाफ सरकार द्वारा उठाये गये कदमों का प्रचार करेगा। अमित खरे ने एक बयान में कहा कि अंतरराष्ट्रीय प्रोडक्शन हाउस के साथ फिल्मों में सहयोग को बढ़ावा देने के उद्देश्य से भारत को एक ‘‘पोस्ट-प्रोडक्शन’’ केंद्र के तौर पर भी पेश किया जायेगा। भारत में फिल्मों की शूटिंग को लेकर फिल्म अनुकूल माहौल के महत्व और सरकारी प्रोत्साहनों को दर्शाते व्यापक ‘फिल्म गाइड’ भारतीय पैविलियन में वितरित की जायेगी।

भारतीय पैविलियन में भाषायी, सांस्कृतिक और क्षेत्रीय विविधता को दर्शाते भारतीय सिनेमा का प्रदर्शन होगा, जिसका मकसद भारत में फिल्म निर्माण, प्रोडक्शन, वितरण में अंतरराष्ट्रीय भागीदारी स्थापित करना है। इसमें पटकथा लेखन विकास, प्रौद्योगिकी, फिल्म बिक्री एवं सिंडिकेट को बढ़ावा देना भी शामिल है। इसकी स्थापना सूचना एवं मंत्रालय, भारतीय वाणिज्य एवं उद्योग महासंघ (फिक्की) के साथ मिलकर करेगा। कान फिल्म समारोह का आयोजन 14 मई से 25 मई तक होगा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

dhankhad

सीयू हंगामा : 28 जनवरी ब्लैक डे, शर्म से झुक गया सिर – राज्यपाल

बहुत पीड़ा हो रही है, हिल गया हूं पूरी तरह कर्तव्य पूरा करने से कोई नहीं रोक सकता छात्राओं को खुली बातचीत करने का प्रस्ताव सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : आगे पढ़ें »

बंगाल में सीएए के खिलाफ अवरोध कर रहे लोगों पर बमबाजी व फायरिंग, 2 मरे

मुर्शिदाबाद के जलंगी की घटना तृणमूल के ब्लॉक अध्यक्ष के खिलाफ एफआईआर सन्मार्ग संवाददाता मुर्शिदाबाद / कोलकाता : देश में पहलीबार सीएए के खिलाफ धरना देने वालों पर आगे पढ़ें »

ऊपर