अमिताभ बच्चन ने बताया कोरोना मरीजों का मानसिक संघर्ष

मुंबई : मुंबई के नानवती अस्पताल में कोरोना वायरस का इलाज करा रहे महानायक अमिताभ बच्चन ने इस बीमारी को फैलने से रोकने के लिए पृथक-वास में रह रहे मरीजों के मानसिक स्वास्थ्य के संघर्ष के बारे में बात की है। बता दें कि 77 वर्षीय अमिताभ बच्चन और उनके बेटे अभिषेक बच्चन को कोरोना वायरस से संक्रमित पाए जाने के बाद 11 जुलाई को नानावती अस्पताल के पृथक वार्ड में भर्ती कराया गया था। अमिताभ ने शनिवार को अपने ब्लॉग में कहा कि इस बीमारी से पैदा हुई मानसिक स्थिति रोगी पर भारी पड़ती है, क्योंकि उसे मानवीय संपर्क से दूर रखा जाता है।
हफ्तों तक दूसरे लोगों को नहीं देख पाता कोरोना मरीज
महानायक ने यह भी कहा कि ‘कोविड-19 मरीज को अस्पताल के अलग वार्ड में रखा जाता है, जिससे वह हफ्तों तक दूसरे लोगों को नहीं देख पाता। नर्स और डॉक्टर इलाज के लिए आते हैं और दवाएं देते हैं, लेकिन वे हमेशा पीपीई किट्स पहने दिखाई देते हैं।’ अभिनेता ने कहा, ‘वे चले जाते हैं क्योंकि लंबे वक्त तक रुकने से संक्रमित होने का डर रहता है। जिस डॉक्टर के मार्गदर्शन में आपका इलाज चल रहा होता है वह कभी आपके पास नहीं आता।’
वर्चुअल संवाद अच्छा है, लेकिन फिर भी अव्यक्तिगत है
अमिताभ ने कहा कि संवाद वर्चुअल है जो मौजूदा हालात को देखते हुए सबसे अच्छा तरीका है, लेकिन फिर भी ‘अव्यक्तिगत’ है। अमिताभ ने कहा कि कोरोना से संक्रमित होने का ठप्पा ऐसा है जिससे किसी मरीज को संस्थागत पृथक-वास अवधि खत्म होने के बाद भी जूझना पड़ सकता है।
ऐश्वर्या और आराध्या अस्पताल से हुई डिस्चार्ज
अमिताभ और अभिषेक के साथ साथ अभिनेत्री ऐश्वर्या राय बच्चन और उनकी आठ साल की बेटी आराध्या बच्चन भी कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए थे, जिन्हें सफल इलाज के बाद अब अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया है। दोनों ही मुंबई के नानावती अस्पाताल से डिस्चार्ज हो कर अपने घर जलसा पहुंच गई हैं। हालांकि, अभी भी ये साफ नहीं हैं कि अमिताभ बच्चन और अभिषेक बच्चन कब अस्पताल से डिस्चार्ज होगे। बताया जा रहा है कि दोनों की हालत में पहले काफी सुधार है। बता दें कि 17 जुलाई को ऐश्वर्या और आराध्या को कोरोना वायरस संक्रमण के कारण मुंबई के नानावती अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

हावड़ा में मंत्री ने किया स्वास्थ्य साथी कैंप का परिदर्शन

हावड़ा : हावड़ा में स्वास्थ्य साथी कार्ड के लिए राज्य सरकार की ओर से विभिन्न वार्डों के स्कूलों में कैंप लगाया गया है। उक्त परियोजना आगे पढ़ें »

यूपी के इतिहास का सबसे बड़ा रोजगार अभियान आज शुरु

लखनऊ : उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने अपने प्रदेश के युवाओं को रोजगार प्रदान करने के लिए अपनी कमर कस ली है। राज्य सरकार आगे पढ़ें »

ऊपर