शोएब ने 2011 विश्व कप सेमीफाइनल-फाइनल मैच के टिकट मांगे थे- हरभजन

नयी दिल्ली: भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व स्पिनर हरभजन सिंह ने पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर से जुड़ा एक किस्सा अपने प्रशंसकों से साझा करते हुए बताया कि भारत में 2011 क्रिकेट विश्व कप के दौरान शोएब ने अपने परिजनों के लिए सेमीफाइनल और फाइनल मैच के टिकट मांगे थे। यह किस्सा हरभजन ने इंग्लैंड में चल रहे विश्व कप के दौरान एक टीवी चैनल शो में बताया जिसमें भज्जी बतौर क्रिकेट विशेषज्ञ शामिल थे। उनके मुताबिक, विश्व कप 2019 में 16 जून को होने वाले भारत-पाकिस्तान मैच में जीत एकबार फिर भारतीय टीम की होगी।

सुनीये हरभजन की जुबानी ये किस्‍सा

-हरभजन ने बताया कि ‘2011 विश्व कप का पहला सेमीफाइनल भारत और पाकिस्तान के बीच मोहाली में खेला जाना था। इस मैच को देखने के लिए शोएब के परिजन भारत आए हुए थे। मैच से पहले जब मैं शोएब से मिला तो उन्होंने मुझसे सेमीफाइनल के टिकट मांगे, तब मैंने उनके लिए 4 टिकट का इंतजाम कर दिया था।’

-भज्जी के अनुसार ‘इसके बाद उन्होंने मुझसे फाइनल मैच के टिकट भी मांगे, तब मैंने उनसे पूछा था कि तुम उसका क्या करोगे? वो तो भारत जीतने वाला है, फिर भी अगर तुम आना चाहते हो तो मैं तुम्हारे लिए 2-4 टिकट का इंतजाम कर दूंगा।’

-गौरतलब है कि मोहाली में हुए सेमीफाइनल मैच में भारत ने पाकिस्तान को 29 रन से हराया था और फाइनल में अपनी जगह बनाई थी। पाकिस्तान की विश्व कप टीम का हिस्सा होने के बावजूद शोएब अख्तर इस मैच में नहीं खेल पाए थे। इसके बाद मुंबई में फाइनल मैच होना था जिसमें भारतीय टीम ने श्रीलंका को 6 विकेट से हराते हुए विश्व कप जीता था।

-हरभजन सिंह ने सेमीफाइनल मैच में भारत को जीत दिलाने में मुख्य योगदान था। मैच में भज्जी ने 10 ओवरों में 43 रन देकर 2 विकेट लिए थे और भारतीय टीम के लिए खतरनाक दिखाई दे रहे उमर अकमल को भी आउट किया था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अम्फान रिलीफ फंड : आर्थिक सहायता व रिकंस्ट्रक्शन के लिए 6250 करोड़ रु.

अम्फान से मरने वालों की संख्या हुई 98 सबिता राय, कोलकाता : अम्फान चक्रवात के प्रभावित लोगों के लिए आर्थिक सहायता तथा रीकंस्ट्रकशन कार्य के लिए आगे पढ़ें »

nadda

उपलब्धियों और निर्णायक फैसले से भरा रहा मोदी 2.0 का पहला साल : नड्डा

नयी दिल्ली : भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा ने शनिवार को कहा कि मोदी सरकार का दूसरा कार्यकाल ऐतिहासिक उपलब्धियों से भरा रहा और इस आगे पढ़ें »

ऊपर