मैं ना तो कप्तान के लिए खेलता हूं, ना तो बोर्ड के लिए, मैं अपने देश के लिए खेलता हूं: राशिद

नई दिल्लीः भारत के खिलाफ मुकाबले से पहले अफगानिस्तान के स्टार खिलाड़ी राशिद खान ने एक साक्षात्कार दिया है। इसमें उन्होंने कहा कि वह कप्तान गुलबदीन या क्रिकेट बोर्ड के लिए नहीं बल्कि अफगानिस्तान के लिए क्रिकेट खेलते हैं। अफगानिस्तान मौजूदा टूर्नामेंट में लगातार पांच मैच हार चुका है और इस दौरान मीडिया में खबरें आई हैं कि टीम के ड्रेसिंग रूम में माहौल अच्छा नहीं है। राशिद खान और मोहम्मद नबी नए कप्तान गुलबदीन नैब से खुश नहीं हैं।
बोर्ड को अच्छा नहीं लगा था
राशिद से जब पूछा गया कि क्या कप्तान गुलबदीन नैब के साथ उनके रिश्ते अच्छे नहीं हैं क्योंकि उन्होंने कप्तानी में बदलाव पर नाराजगी जताई थी। इस पर राशिद ने कहा ‘मैं न तो गुलबदीन के लिए खेलता हूं और ना ही क्रिकेट बोर्ड (एसीबी) के लिए, मैं अफगानिस्तान के लिए खेलता हूं।’ राशिद के अलावा मोहम्मद नबी ने विश्व कप के लिए असगर अफगान की जगह गुलबदीन को कप्तान बनाए जाने पर आपत्ति जताई थी जो कि देश के क्रिकेट बोर्ड को अच्छा नहीं लगा था।
मैं प्रदर्शन के लिए मतभेद नहीं करता
अफगानिस्तान को लगातार पांच मैचों में हार का सामना करना पड़ा जिससे साजिश जैसी बातें भी सामने आने लगी हैं और इनमें राशिद का गुलबदीन के साथ कड़वे रिश्ते भी शामिल हैं। इससे इस स्पिनर के प्रदर्शन पर भी असर पड़ा है और उन्होंने विश्व कप में अब तक का सबसे खराब प्रदर्शन किया। राशिद ने भारत के खिलाफ मैच से पहले कहा, ‘गुलबदीन के साथ मेरे रिश्ते खराब नहीं हैं। मैं उसे भी उतना ही सहयोग देता हूं जैसे असगर के कप्तान रहते हुए उसे देता था। अगर मैं असगर को मैदान पर 50 प्रतिशत सहयोग देता था तो गुलबदीन के साथ मेरा 100 प्रतिशत सहयोग है।’
‘मीडिया ने फैलाया है’
उन्होंने कहा ‘इंग्लैंड पहुंचने के बाद किसी ने भी इस मसले पर बात नहीं की। मुझे लगता है कि मीडिया में इसे बढ़ा चढ़ाकर पेश किया गया। हमारे कुछ खिलाड़ी पिछले 15-16 साल से साथ में खेल रहे हैं। इसलिए अगर एक दशक से भी अधिक समय कुछ नहीं बदला तो फिर एक या दो दिन में क्या बदल सकता है।’ लेकिन जब राशिद से कप्तानी में बदलाव के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा ‘मैं न तो गुलबदीन के लिये खेलता हूं और ना ही क्रिकेट बोर्ड (एसीबी) के लिए, मैं अपने ध्वज, अफगानिस्तान के लिए खेलता हूं। मैं अपनी भूमिका जानता हूं और मैं अपना काम आगे भी करता रहूंगा।’
पूरी दुनिया यही कह रही है
उन्होंने कहा ‘मेरा और नबी का ट्वीट असगर के समर्थन में नहीं था। हमने अफगानिस्तान क्रिकेट की बेहतरी के लिए आवाज उठाई थी। विश्व कप जैसे टूर्नामेंट से पहले कप्तानी में बदलाव करना समझदारी नहीं थी और ये सिर्फ मैं नहीं पूरी दुनिया कह रही है।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

Jagdip Dhankhar

धनखड़ के खिलाफ विधान सभा से संसद तक मोर्चाबंदी

कोलकाता : ऐसा पहली बार हुआ है जब विधानसभा में सत्ता पक्ष ने धरना दिया। कारण थे राज्यपाल जगदीप धनखड़, जिन पर विधेयकों को मंजूरी आगे पढ़ें »

मेरे कंधे पर बंदूक रखकर चलाने की को​शिश न करें – धनखड़

कोलकाता : राज्यपाल जगदीप धनखड़ और तृणमूल सरकार के बीच संबंधों में मंगलवार को और खटास आ गयी जब उन्होंने ‘कछुए की गति से काम आगे पढ़ें »

ऊपर