पहले दिन न्यूजीलैंड का पलड़ा भारी

दूसरा टेस्ट मैच में भारतीय क्रिकेटरों ने खेले गैरजिम्मेदाराना शाट, कीवी गेंदबाज जैमीसन ने 5 विकेट झटके

भारत ने पहली पारी में 242 पर सिमटा, न्यूजीलैंड ने बिना किसी नुकसान के बनाए 63 रन

क्राइस्टचर्चः भारतीय बल्लेबाजों ने दूसरे व अंतिम टेस्ट में जरूरी जज्बा तो दिखाया लेकिन गैरजिम्मेदाराना शाट खेलकर अपने विकेट भी गंवाये जिसके कारण भारतीय टीम न्यूजीलैंड के खिलाफ शनिवार को यहां अपनी पहली पारी में 242 रन ही बना पायी जबकि मेजबान टीम स्टंप उखड़ने तक बिना किसी नुकसान के 63 रन बना लिए थे।

शॉ-हनुमा ने खेली तेज पारी
शॉ ने जहां हमलावर तेवर अपनाकर 64 गेंदों पर 54 रन बनाये वहीं पुजारा (140 गेंदों पर 54) ने अपना चिर परिचित धैर्य दिखाया। शॉ की तरह हनुमा विहारी (70 गेंदों पर 55 रन) ने भी गेंदबाजों पर हावी होने की रणनीति अपनायी। विहारी के चाय के विश्राम से ठीक पहले आउट होने के बाद भारतीय पारी ताश के पत्तों की तरह बिखर गयी।

जैमीसन ने बैकफुट पर लाया
काइल जैमीसन (45 रन देकर पांच विकेट) ने चाय के विश्राम के बाद भारतीय पारी को समेटने में अहम भूमिका निभायी। उन्होंने अपने दूसरे टेस्ट मैच में ही पांच विकेट लेने का कारनामा दिखाया। न्यूजीलैंड ने अपनी पहली पारी की अच्छी शुरुआत की और स्टंप उखड़ने तक बिना किसी नुकसान के 63 रन बनाये। टॉम लैथम (नाबाद 27) और टॉम ब्लंडेल (नाबाद 29) को भारतीय तेज गेंदबाज खास परेशान नहीं कर पाये।

सीरीज गंवाने का खतरा
पिच दूसरे और तीसरे दिन बल्लेबाजी के लिये अच्छी रहेगी। न्यूजीलैंड अगर इसका फायदा उठाता है तो फिर विराट कोहली और उनकी टीम पर दो मैचों की सीरीज 0-2 से गंवाने का खतरा गहरा जाएगा। घसियाली पिच पर तीन भारतीय बल्लेबाजों शॉ, विहारी और पुजारा ने दिखाया कि रन बनाना मुश्किल नहीं है। लेकिन इन तीनों ने ढीले शॉट खेलकर अपने विकेट इनाम में भी दिये। अपनी बल्लेबाजी कौशल के कारण ऋद्धिमान साहा पर प्राथमिकता पाने वाले ऋषभ पंत (12) ने जीवनदान मिलने के बावजूद ढीला शाट खेला और गेंद उनके विकेट थर्रा गयी।

22 रन के अंदर गंवाए 5 विकेट
भारत एक समय चार विकेट पर 194 रन बनाकर 350 रन तक पहुंचने की स्थिति में दिख रहा था लेकिन इसके बाद उसने छह ओवर और 22 रन के अंदर पांच विकेट गंवा दिये जिसका मैच के परिणाम पर निर्णायक प्रभाव पड़ सकता है। जैमीसन ने चाय के बाद पुजारा, पंत और उमेश यादव को जल्दी जल्दी पवेलियन भेजकर भारतीयों की 250 रन तक पहुंचने की उम्मीदों पर भी पानी फेर दिया। मोहम्मद शमी ने 16 और जसप्रीत बुमराह ने नाबाद 10 रन बनाये। कप्तान विराट कोहली (तीन) फिर से नाकाम रहे। वह अभी तक इस दौरे में तीनों प्रारूपों में केवल एक अर्धशतक जमा पाये हैं। पहले टेस्ट मैच में जुझारूपन दिखाने वाले मयंक अग्रवाल (सात) और अंजिक्य रहाणे (सात) भी जल्दी आउट हो गये।

इस तरह गंवाए विकेट
शॉ ने सुबह अपने अच्छे फुटवर्क से कुछ दर्शनीय ड्राइव लगाये। इस बीच ट्रेंट बोल्ट (89 रन देकर दो) और कोलिन डि ग्रैंडहोम ने स्विंग हासिल करने के लिये ओवरपिच गेंदबाजी भी। शॉ ने अपनी पारी में आठ चौके और नील वैगनर (29 रन देकर एक) पर छक्का लगाया। उन्होंने पुजारा के साथ दूसरे विकेट के लिये 50 रन जोड़े। वह अर्धशतक पूरा करने के बाद हालांकि पवेलियन लौट गये। जैमीसन की ओवर पिच गेंद को ड्राइव करने के प्रयास में उन्होंने दूसरी स्लिप में खड़े लैथम को कैच दिया जिन्होंने एक हाथ से बेहतरीन कैच लिया। टिम साउदी (38 रन देकर दो) ने कोहली को पगबाधा आउट करके उनके लिये यह दौरा बुरा बनाये रखा। इसके बाद उन्होंने रहाणे को स्विंग लेती गेंद पर पहली स्लिप में रोस टेलर को कैच देने के लिये मजबूर किया। विहारी ने आक्रामक तेवर अपनाये। दिलचस्प बात यह है कि जब वह 13 रन पर खेल रहे थे तब पुजारा अर्धशतक से एक रन दूर थे। इसके बाद विहारी दस चौकों की मदद से जब 55 रन बनाकर आउट हुए तो भारत का नंबर तीन बल्लेबाज 53 रन पर था। इन दोनों ने पांचवें विकेट के लिये 81 रन जोड़े। विहारी विशेषकर वैगनर के खिलाफ अधिक सहज दिखे और उनकी शार्ट पिच गेंदों पर जवाबी हमला किया लेकिन चाय से ठीक पहले वह इसी गेंदबाज की धीमी बाउंसर पर आउट हो गये। पुजारा ने जैमीसन के बाउंसर पर अपना विकेट गंवाया। उनका अपने पुल शाट पर नियंत्रण नहीं था और गेंद हवा में लहरा गयी। भारत के पुछल्ले बल्लेबाज फिर से उपयोगी योगदान देने में नाकाम रहे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बार्सिलोना से करार खत्‍म करना चाहते हैं मेसी

बार्सिलोना : अर्जेंटीना के स्टार स्ट्राइकर लियोनल मेसी (33) ने स्पेनिश फुटबॉल क्लब बार्सिलोना को छोड़ने का मन बना लिया है। टीम के साथ उनका आगे पढ़ें »

कोहली से नहीं, पाकिस्‍तानी बल्‍लेबाजाे से करो मेरी तुलना : बाबर आजम

कराची : पाकिस्तान के सीमित ओवरों के कप्तान बाबर आजम भारतीय कप्तान विराट कोहली से लगातार तुलना से उकता गए हैं और उनका कहना है आगे पढ़ें »

ऊपर