जैसे क्वीन्सलैंड को अपने लोगों की परवाह, उसी तरह बीसीसीआई को अपने खिलाड़ियों की : गावस्कर

सिडनी: ब्रिस्बेन में तीन दिन के लॉकडाउन से 15 जनवरी से शुरू होने वाले मैच पर आशंका के मंडराते बादलों के बीच पूर्व भारतीय कप्तान सुनील गावस्कर ने शुक्रवार को कहा कि भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) चौथे टेस्ट से पहले पृथकवास के नियमों में छूट देने की मांग करके केवल ‘अपने खिलाड़ियों को सुरक्षित’ कर रहा है। यह उसी तरह है जैसे क्वींसलैंड के स्वास्थ्य अधिकारी ब्रिस्बेन में कोविड-19 के ताजा मामलों को देखते हुए अपने लोगों को बचाने के लिये अधिकृत हैं। मालूम हो कि बीसीसीआई पहले ही क्रिकेट आस्ट्रेलिया (सीए) को ब्रिस्बेन में कड़े पृथकवास नियमों में छूट देने के लिये लिख चुका है। घरेलू बोर्ड ने मौखिक आश्वासन भी दिया है। गावस्कर ने एक टीवी चैनल पर कमेंटरी के दौरान कहा कि क्वींसलैंड सरकार अपने लोगों को बचाने के लिये पूरी तरह अधिकृत है। इसी तरह से मेरा मानना है कि बीसीसीआई भी पूरी तरह से अपनी टीम को सुरक्षित करने के लिये अधिकृत है। मुझे लगता है कि हमें इस चीज को कभी भी नहीं भूलना चाहिए। सिडनी में लोग मैदान में आ रहे हैं और फिर वापस जाकर रेस्तरां में डिनर कर रहे हैं या फिर पब में 20 या 30 लोग इकट्ठे हो रहे हैं। गावस्कर ने कहा कि भारतीय टीम का यह मांग करना अनुचित नहीं है कि अगर खिलाड़ी मैदान पर 10 घंटे के लिये एक साथ रहते हैं तो उन्हें कम से कम होटल में एक दूसरे से मिलने की अनुमति दी जानी चाहिए। वे यही कह रहे हैं कि उन्हें उसी तरह से मिलने की अनुमति भी दी जानी चाहिए। आपके सामने ऐसी भी स्थिति हो सकती है, जिसमें गेंद दर्शकों के पास चली जाती है और भीड़ में से कोई गेंद को छू लेता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

तो क्या, उर्वशी रौतेला ने कर ली गुपचुप शादी!

मुंबई : अपने ग्लैमर और लुक के लिए अक्सर चर्चे में रहने वाली बॉलीवुड एक्ट्रेस उर्वशी रौतेला एक बार फिर चर्चे में हैं। चर्चा का आगे पढ़ें »

सर्दियों में अमरूद के फायदे, बढ़ाती है रोग- प्रतिरोधक क्षमता

सर्दियों में पाए जाने वाले फलों में से एक है अमरूद। यह स्वाद में तो बहुत अच्छा होता ही है साथ ही यह सेहत बनाने आगे पढ़ें »

ऊपर