वोडाफोन आइडिया 2020 के बाद 5-जी स्पेक्ट्रम की नीलामी के पक्ष में: वोरा

नई दिल्ली : दूरसंचार कंपनी वोडाफोन आइडिया लिमिटेड 5-जी स्पेक्ट्रम की नीलामी 2020 से पहले नहीं करना चाहती। कंपनी का कहना है कि उद्योग को अगली पीढ़ी की प्रौद्योगिकी से जुड़े बदलाव को स्वीकार करने के लिए समय चाहिए। वोडाफोन आइडिया के मुख्य प्रौद्योगिकी अधिकारी (सीटीओ) विशांत वोरा ने कहा कि पिछले साल इस बड़े विलय के बाद दो दूरसंचार नेटवर्क का एकीकरण जून, 2020 तक होने कि उम्मीद है।

वोरा ने कहा कि चीन के वेंडरों के दूरसंचार उपकरणों के इस्तेमाल को लेकर भारत सरकार ने कोई रुख नहीं बनाया है। हालांकि कंपनी इस बारे में भारत के नियमों का अनुपालन करेगी। अगर भारत सरकार के रूख कि बात करें तो हमारी सरकार ने आस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड और अमेरिका जैसे देशों की तरह अपना रवैया स्पष्ट नहीं किया है, लेकिन भारत सरकार के फैसले का हम अनुपालन करेंगे। पिछले साल आइडिया और वोडाफोन ने अपने भारतीय परिचालन का विलय किया था। इससे देश की सबसे बड़ी दूरसंचार कंपनी का निर्माण हुआ था, जो प्रतिद्वंद्वी कंपनियों रिलायंस जियो और भारती एयरटेल से प्रतिस्पर्धा करने में सक्षम होगी।

विलय के बाद बनी इस इकाई में ब्रिटेन की दूरसंचार कंपनी वोडाफोन की 45.1 प्रतिशत हिस्सेदारी है। वहीं कुमार मंगलम बिड़ला की अगुवाई वाले आदित्य बिड़ला समूह के पास 26 प्रतिशत तथा आइडिया के शेयरधारकों के पास 28. 9 प्रतिशत हिस्सेदारी है वोरा ने कहा कि कंपनी के पास मौजूदा स्पेक्ट्रम से ही करीब 5-जी सेवाएं देने की क्षमता है। ऐसे में हम स्पेक्ट्रम की नीलामी 2020 के बाद करने के पक्ष में हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

कोलकाता में युद्धपोत निर्माण इकाई में पदस्थ सीआईएसएफ कर्मी की कोविड-19 से मौत

नयी दिल्ली : कोलकाता में युद्धपोत निर्माण इकाई जीआरएसईएल में पदस्थ केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) के एक कर्मी की कोरोना वायरस संक्रमण के कारण आगे पढ़ें »

सावधान ! तो क्या अस्पताल से भी कोरोना की मार का खतरा

संदीप त्रिपाठी,कोलकाता : कोरोना वायरस की महामारी थमने का नाम नहीं ले रही है। बंगाल में कोरोना के कुल मामले 4000 का आंकड़ा पार कर आगे पढ़ें »

ऊपर