सावधानी से करें ट्रेड, गैर-कृषि वस्तुओं का ये है आउटलुक

नई दिल्ली : कोरोनावायरस अब दुनिया भर के लगभग सभी देशों में फैल गया है। अब तक इस घातक वायरस के 700,000 से अधिक मामले सामने आए हैं और 33,000 से अधिक मौतें हो चुकी हैं। भारत में लॉकडाउन के बावजूद 29 मौतों के साथ केसेस की संख्या 1,000 का आंकड़ा पार कर गई है। एंजेल ब्रोकिंग लि. के चीफ एनालिस्ट प्रथमेश माल्या का कहना है कि कोरोनोवायरस का पूरे बाजार पर गहरा प्रभाव पड़ा है। ऐसे में सावधानी से ट्रेड करें। इस सप्ताह के लिए गैर-कृषि वस्तुओं के लिए आउटलुक इस प्रकार है।

सोने की कीमतों में वृद्धि की उम्मीद
माल्या का कहना है कि अमेरिकी सरकार ने आर्थिक सुधार की उम्मीदें जगाईं और पिछले हफ्ते सोने की कीमतों में 8 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई। अमेरिकी फेड ने कोरोनावायरस महामारी के आर्थिक प्रभाव को सीमित करने के लिए 2 ट्रिलियन डॉलर पैकेज की घोषणा की थी। हालांकि, यू.एस. बेरोजगारी दावे रिकॉर्ड-उच्च तक पहुंचे, अमेरिकी डॉलर ने कम कारोबार किया और बुलियन धातु की कीमतों को सपोर्ट किया। डॉलर में मूल्यह्रास ने मजबूत प्रोत्साहन और ठोस उपायों की उम्मीद के साथ सोने की कीमतों में तेजी से वृद्धि की। बाजार में बड़े पैमाने पर बिकवाली देखने के बाद निवेशकों के पास नकदी में अपनी पकड़ बनाए रखने के बाद यह लाभ कम हो गया। इस सप्ताह हम सोने की कीमतें 45 हजार रुपये/10 ग्राम की ओर बढ़ने की उम्मीद करते हैं।

तांबे की ये रहेंगी कीमतें
लॉकडाउन ने सभी बेस मेटल की कीमतों पर प्रभाव डाला है, क्योंकि दुनियाभर में औद्योगिक गतिविधियां एक तरह से थम गई हैं। पिछले हफ्ते हमने बेस मेटल की कीमतों को एलएमई पर देखा, जिसमें मिश्रित परिणाम देखने को मिले और एल्युमीनियम की कीमतों में सबसे ज्यादा गिरावट देखी गई। एलएमई कॉपर की कीमतों में 0.2 प्रतिशत की मामूली बढ़ोतरी हुई, क्योंकि आपूर्ति पक्ष में चिंता के बादल नजर आए। खासकर अमेरिका द्वारा लाल धातु की कीमतों को समर्थन देने वाली आक्रामक प्रोत्साहन योजनाओं के साथ महामारी के प्रभाव की आशंका को भी दर्शाया गया। उम्मीद है कि बेस मेटल की कीमतों में और गिरावट होगी, क्योंकि लॉकडाउन के बाद दोबारा अपनी कीमतों में पहुंचने की अवधि उनके लिए और लंबी हो सकती है। फिर भी रिकवरी की उम्मीदें भी हैं क्योंकि अधिकांश देशों ने आर्थिक गतिविधियों में तेजी लाने के लिए घातक वायरस के खिलाफ प्रभावी उपाय किए हैं। इस हफ्ते हम उम्मीद करते हैं कि कॉपर की कीमतें लगभग 390 रुपए प्रति किलो के आसपास रहेंगी।

तेल की कीमतों में गिरावट
प्रमुख केंद्रीय बैंकों द्वारा उठाए गए कठोर प्रोत्साहन उपायों के बाद डब्ल्यूटीआई क्रूड की कीमतों में पिछले हफ्ते 0.7 प्रतिशत की मामूली वृद्धि दर्ज हुई। इन उपायों ने क्रूड की मांग को लेकर चिंताओं को कम कर दिया था। क्रूड की कीमतों में गिरावट के बाद तेल रिफाइनरियों को भी कुछ सपोर्ट मिला। हालांकि, प्रमुख तेल उत्पादकों रूस और सऊदी अरब के बीच चल रहे उत्पादन युद्ध और कम होती मांग ने तेजी को सीमित कर दिया है। कोरोनावायरस ने अब तक 33,000 से अधिक लोगों को मौत के घाट उतार दिया है और लॉकडाउन के कारण दुनियाभर में विमानन और सड़क परिवहन पर रोक लगी है। अंतरराष्ट्रीय बाजारों में कच्चे तेल की मांग को बड़ा लगा है। इसके अलावा यूएस क्रूड इन्वेंट्री का स्तर लगातार 9वें सप्ताह 1.6 मिलियन बैरल तक बढ़ा, यह कुछ ऐसा है जिसने क्रूड की कीमतों को और अधिक बढ़ा दिया। इस सप्ताह हम उम्मीद करते हैं कि तेल की कीमतें नीचे की ओर 1600 रुपए के आसपास रहेगी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बड़ी कामयाबी : होम्योपैथी दवा के हमले से ढेर हुआ कोराेना, 42 संक्रमित मरीज हुए स्वस्थ

नयी दिल्ली: देशभर में कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के लिए कई तरह के उपाय किये जा रहे है। इस बीच जयपुर से बड़ी कामयाबी आगे पढ़ें »

इंसानियत हुई तार-तार : गर्भवती हथिनी के बाद अब गर्भवती गाय को खिलाया विस्फोटक, देशभर में मचा बवाल

नयी दिल्ली : देश में एक तरफ प्रकृति से खिलवाड़ की वजह से आए दिन जहां भूकंप, तूफान और कोरोना वायरस संक्रमण की मार आम आगे पढ़ें »

ऊपर