2020 की चौथी तिमाही में सबसे बड़ी गिरावट के साथ बाजार बंद हुए

नई दिल्ली : शेयर बाजारों ने आज लगभग 4% की मजबूत तेजी के साथ वित्त वर्ष 2020 का समापन किया। एसएंडपी सेंसेक्स 1,000 अंकों की तेजी के साथ 3.62% की बढ़त के साथ चढ़ा, जबकि निफ्टी 326 अंकों की तेजी के साथ 3.82% ऊपर था। एंजेल ब्रोकिंग लिमिटेड के हेड एडवाइजरी अमरदेव सिंह ने कहा कि वित्त वर्ष 2020 की चौथी तिमाही में दोनों इतिहास में सबसे ज्यादा गिरावट के रूप में दर्ज हुए हैं। निफ्टी ने 1992 के बाद से अपनी सबसे भयावह तिमाही देखी, 2020 का अंतिम चरण सेंसेक्स के इतिहास में सबसे खराब रहा।

चीन की पीएमआई रीडिंग मार्च में उछलकर 52 पर
फरवरी में 35.7 अंक के साथ रिकॉर्ड कमी के बाद चीन की मैन्यूफेक्चरिंग एक्टिविटी ने मार्च में 52 अंक के पीएमआई के साथ वापसी की है। 50 से अधिक बिंदुओं का पीएमआई रीडिंग होना विस्तार को दर्शाता है, जबकि 50 अंकों से नीचे संकुचन को। मैन्यूफेक्चरिंग एक्टिविटी के आंकड़ों ने वैश्विक बाजारों को मजबूत प्रोत्साहन दिया, जो इस समय कोरोनोवायरस के प्रकोप और उसके बाद के लॉकडाउन से जूझ रहे हैं।

‘पावर’ प्ले के साथ भारत में मार्केट-वाइड रैली
सिंह ने कहा कि आज सभी बड़े और छोटे सूचकांकों में पॉजीटिव सेंटिमेंट दिखाई दिया और स्मॉल कैप, मिड कैप और लार्ज कैप श्रेणियों में रैलियां देखी गईं। दिन का ट्रेड बाजार में ‘पॉवर’ प्ले बन गया था क्योंकि कुछ पॉवर स्टॉक टॉप परफॉर्मर थे। निफ्टी-50 में बीपीसीएल 15.34% की वृद्धि के साथ सबसे बड़ी वृद्धि के रूप में उभरा, इसके बाद ब्रिटानिया इंडस्ट्रीज 8.7%, आरआईएल 8.08% और गेल 8.05% के साथ बढ़ा। ओएनजीसी भी आज 7.81% बढ़ा। सेंसेक्स में आईटीसी, आरआईएल, ओएनजीसी, टेक महिंद्रा, और टाटा स्टील क्रमशः 7.84%, 7.76%, 7.64%, 6.9% और 6.14% की रैलियों के साथ टॉप पर थे।

एफपीआई का मार्केट से रिकॉर्ड-ब्रेकिंग आउटफ्लो
मार्च का महीना भारतीय इक्विटी बाजारों से विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) का हाईफ्लो देखा गया। कुल मिलाकर एफपीआई का आउटफ्लो 58,348 करोड़ रुपए रहा, जो नेशनल सिक्योरिटीज डिपॉजिटरी लिमिटेड (एनडीएसएल) के पास उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार सबसे अधिक है।

इसके अलावा सख्त लॉकडाउन उपायों के बावजूद भारत में कोरोनोवायरस के मामले बढ़ रहे हैं और निवेशक कम्युनिटी में आशंका बढ़ रही है। आने वाले कुछ दिन महत्वपूर्ण होंगे और भविष्य की राह को स्पष्ट करेंगे। अच्छी बात यह है कि यूएन ने कहा है कि भारत और चीन कोरोनोवायरस-प्रेरित वैश्विक मंदी में संभावित अपवाद होंगे और मंदी का असर इनपर कम होगा ।

शेयर करें

मुख्य समाचार

टॉस विवाद पर बोले संगकारा- मैं जीता था लेकिन धोनी आवाज नहीं सुन पाए तो दोबारा सिक्का उछाला गया

नयी दिल्‍ली : भारत-श्रीलंका के बीच 2011 वर्ल्ड कप फाइनल में दोबारा टॉस कराने के मामले में अब जाकर श्रीलंका के पूर्व कप्तान कुमार संगकारा आगे पढ़ें »

ईसीबी ने 55 खिलाड़ियों को अभ्यास शुरू करने को कहा

लंदन : विश्व कप विजेता कप्तान इयोन मोर्गन और टेस्ट टीम के कप्तान जो रुट के अलावा इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) ने 55 आगे पढ़ें »

ऊपर