साल 2021-22 में बदली है नौकरी तो ये खबर है आपके लिये…

कोलकाताः अगर आपने भी वित्तीय वर्ष यानी 2021-22 के दौरान जॉब बदली है तो आपको इनकम टैक्‍स रिटर्न भरते समय कुछ खास बातों का ध्यान रखना होगा। दरअसल, आयकर विभाग ने ई-फाइलिंग पोर्टल शुरू कर दिया है। इंडिविजुअल टैक्‍सपेयर्स के लिए आईटीआर दाखिल करने की लास्ट डेट 31 जुलाई है। आइये जानते हैं आपको आईटीआर भरने के लिए किन बैटन का ध्यान रखना है।

ये दस्तावेजों हैं अनिवार्य

ई-फाइलिंग पोर्टल पर आईटीआर भरने के लिए आपके पास कुछ जरूरी दस्तावेज होना अनिवार्य है, जैसे- पैन कार्ड, आधार कार्ड, फॉर्म 16, बैंक अकाउंट डिटेल, प्रमाणों के साथ निवेश डिटेल और अन्‍य इनकम प्रूफ होने चाहिए। इसके अलावा, आईटीआर फाइल करने के लिए पैन और आधार का लिंक होना अनिवार्य है। साथ ही आपकी ई-मेल आईडी भी इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट के पास रजिस्‍टर्ड होनी चाहिए।

आईटीआर भरते समय रखे ध्यान 

अगर आपने पिछले वित्त वर्ष यानी 2021-2022 के दौरान जॉब बदली है जान लें कि आपको कैसे आईटीआर फाइल करना है। इसके लिए आपको आईटीआर भरते वक्‍त दोनों कंपनियों द्वारा जारी फॉर्म 16 की जरूरत होगी। गौरतलब है कि हर साल 15 जून तक कंपनियों के लिए फॉर्म 16 जारी कर देना आवश्‍यक है। दरअसल, इस फॉर्म 16 में कंपनी से मिले वेतन का विवरण होता है। इसमें यह जानकारी दी जाती है कि कंपनी ने वित्त वर्ष के दौरान कितना टीडीएस काटा है।

ग्रॉस सैलरी को ऐड करें

आईटीआर भरते समय ध्यान रखें कि फॉर्म-16 के पार्ट बी में ग्रॉस सैलरी का कॉलम होता है। आपकी तरफ से डिडक्शन का किया गया दावा और टैक्स के दायरे में नहीं आने वाले अलाउन्सेज भी इसमें जोड़ें। नियम के अनुसार, इसमें आपको आपको दोनों कंपनियों से मिली कुल ग्रॉस सैलरी को जोड़ना होगा। इसके अलावा दोनों फॉर्म 16 से एचआरए, एलटीए की रकम भी जोड़नी होगी। इसे जोड़ने पर आपको वह राशि मिल जाएगी, जिस पर टैक्‍स छूट लिए आपको दावा करना है। यानी अगर आपने इस वित्तीय वर्ष में नई नौकरी ज्वाइन की है तो इनकम टैक्स भरते समय इन बैटन का ख्याल जरूर रखें।

 

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

इस उम्र के बाद बच्चे को जरूर सिखाएं ये 5 काम करना, कई मुश्किलें होंगी आसान

कोलकाता : बच्चों की खास देखभाल और बेहतर परवरिश के लिए पैरेंट्स हर मुमकिन कोशिश करते हैं। बावजूद इसके कुछ बच्चे आलसी नेचर के होते आगे पढ़ें »

ऊपर