PM मोदी ने इस खास ट्रेन को झंडी दिखा कर किया रवाना

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज दुनिया के पहली डीजल – इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव इंजन को हरी झंडी दिखा कर रवाना किया। खास बात यह है कि इस इंजन को रेलवे के वाराणसी, डीएलडब्ल्यू स्थित इंजन कारखाने में बनाया गया है। वाराणसी रेल इंजन कारखाना में पीएम मोदी ने दिव्यांग जनों से मुलाकात भी की। दुनिया में पहली बार वाराणसी के डीजल रेल इंजन कारखाने ने डीजल रेल इंजन को इलेक्ट्रिक रेल इंजन में बदलकर इतिहास रचा हैं। मेक इन इंडिया पहल के अंतर्गत स्वदेशी तकनीक पर इस डीजल इंजन रेल कारख़ाने ने डब्लूएजीसी 3 श्रेणी के डीजल इंजन को बिजली से चलने वाले इंजन में बदला है।

जीहाँ वाराणसी के डीएलडब्ल्यू में तैयार किये गए इस बिजली से चलने वाले इंजन में भारी मालगाड़ियों को खींचने की क्षमता है। अब इस इंजन की क्षमता में 92 फीसदी का इजाफा हो गया है। साथ ही डीजल की बजाय बिजली का प्रयोग किए जाने से अब यह इंजन वायु प्रदूषण भी नहीं करेगा। रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया कि डीजल इंजन को बिजली से चलने वाले इंजन में परिवर्तित करने पर हर साल एक इंजन से लगभग 1. 9 करोड़ रुपये के इंधन की बचत होगी।

फायदे
भारतीय रेलवे पूरे देश में अपने नेटवर्क को विद्युतिकृत कर रही है। डीजल से विद्युत में बदलेन जाने के बाद इस लोकोमोटिव की क्षमता 2600 एचपी से बढ़कर 5000 एचपी हो गयी है। डीजल इंजन को बिजली से चलने वाले इंजन में बदलने में 69 दिन लगे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अम्फान रिलीफ फंड : आर्थिक सहायता व रिकंस्ट्रक्शन के लिए 6250 करोड़ रु.

अम्फान से मरने वालों की संख्या हुई 98 सबिता राय, कोलकाता : अम्फान चक्रवात के प्रभावित लोगों के लिए आर्थिक सहायता तथा रीकंस्ट्रकशन कार्य के लिए आगे पढ़ें »

nadda

उपलब्धियों और निर्णायक फैसले से भरा रहा मोदी 2.0 का पहला साल : नड्डा

नयी दिल्ली : भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा ने शनिवार को कहा कि मोदी सरकार का दूसरा कार्यकाल ऐतिहासिक उपलब्धियों से भरा रहा और इस आगे पढ़ें »

ऊपर