बड़ा तोहफा देने की तैयारी में मोदी सरकार, 43 करोड़ खाताधारकों को होगा फायदा

नई दिल्लीः केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार जन-धन खाताधारकों को जीवन बीमा और दुर्घटना कवर देने पर विचार कर रही है। सरकार, प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा (पीएमजेजेबीवाई) और प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा (पीएमएसबीवाई) के तहत बीमा कवर देना चाहती है। वित्त मंत्रालय की ओर से शनिवार को जारी बयान में कहा गया, “इस बारे में बैंकों को पहले ही सूचित कर दिया गया है।” सरकार के इस कदम का फायदा 43 करोड़ जन-धन खाताधारकों को मिलने की उम्मीद है।

342 रुपए प्रीमियम: प्रधानमंत्री जीवन ज्योति (पीएमजेजेबीवाई) के तहत प्रति दिन 1 रुपए से कम के प्रीमियम पर 2 लाख रुपए की जीवन बीमा मिलती है। सालाना 330 रुपए का प्रीमियम देना होता है। वहीं, प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा (पीएमएसबीवाई) योजना  आकस्मिक जोखिमों को कवर करती है। यह योजना आकस्मिक मृत्यु और पूर्ण विकलांगता के लिए 2 लाख रुपए तक का कवर देती है। इसके अलावा आंशिक विकलांगता के लिए 1 लाख रुपए मिलते हैं। इसके लिए सालाना 12 रुपये का प्रीमियम देना होता है। कहने का मतलब ये है कि 342 रुपए के खर्च में जन-धन खाताधारकों को 4 लाख रुपए तक की बीमा मिल जाएगी।

43 करोड़ से ज्यादा खाताधारक:  प्रधानमंत्री जन-धन योजना (पीएमजेडीवाई) के तहत बैंक खाताधारकों की संख्या बढ़कर 43 करोड़ से ज्यादा हो गई है। वहीं, इन खातों में जमा राशि बढ़कर 1.46 लाख करोड़ रुपए के पार पहुंच गई है। आपको बता दें कि पीएमजेडीवाई की घोषणा प्रधानमंत्री नरेंद मोदी ने 15 अगस्त, 2014 को की थी। साथ ही इसे वित्तीय समावेशन को बढ़ावा देने के लिए इसे 28 अगस्त को शुरू किया गया था। इसके आज यानी 28 अगस्त 2021 को सात साल पूरे हो गए हैं।

23.87 करोड़ खाताधारक महिलाएं: वित्त मंत्रालय के मुताबिक अर्द्ध-शहरी और ग्रामीण इलाकों में जन-धन खाताधारकों की कुल संख्या 18 अगस्त, 2021 तक 43.04 करोड़ हो गई है। इसमें से 55.47 प्रतिशत या 23.87 करोड़ खाताधारक महिलाएं और 66.69 प्रतिशत यानी 28.70 करोड़ खाताधारक पुरुष हैं। मंत्रालय के अनुसार इस योजना के पहले वर्ष में 17.90 करोड़ जन-धन खाते खोले गए थे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

दूसरे दिन भी न्यूटाउन व साल्टलेक के इलाकों में जमा रहा पानी

न्यूटाउन के ड्रेनेज सिस्टम पर लोगों ने उठाये सवाल कोलकाता के कुछ निचले इलाके भी रहे जलमग्न सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : रविवार देर रात से लगातार हो रही आगे पढ़ें »

ऊपर