मेट्सो ने भारत में निवेश बढ़ाया, अधिग्रहण के जरिए विकास अवसरों पर नजर

नई दिल्ली : मेट्सो विश्व की अग्रणी इंडस्ट्रियल कंपनी है जो माइनिंग, एग्रिगेट्स, रिसाइकलिंग तथा प्रोसेस उद्योगों में प्राकृतिक संसाधनों की सस्टेनबल प्रोसेसिंग और प्रवाह के लिए उपकरण एवं सेवाएं प्रदान करती है। यह कंपनी अब भारत में अपने संचालन को मज़बूत बना रही है। वर्ष 2018 के दौरान घरेलू बाज़ार में 70 मिलियन यूरो (रु. 560 करोड़) निवेश करने, मुंबई स्थित रोटेक्स मैन्युफैक्चरर्स एंड इंजीनियर्स प्रा. लि. का अधिग्रहण और अलवर में अपने मेट्सो पार्क प्रोडक्शन इकाई की क्षमता बढ़ाने के अलावा कंपनी द्वारा वडोदरा में एक 20,000 टन क्षमता की फाउंड्री विकसित की जा रही है।

मेट्सो पार्क, मेट्सो की प्रमुख अंतर्राष्ट्रीय प्रोडक्शन साइट्स में शामिल है, जो एग्रिगेट्स, माइनिंग एवं प्रोसेस उद्योगों के लिए विस्तृत रेंज के उपकरण एवं विभिन्न सेवा उत्पाद प्रदान करती है। कंपनी का यह ताजा निवेश भारत में मेट्सो की क्रशिंग एवं स्क्रीनिंग प्लांट प्रोडक्शन क्षमता को 35 प्रतिशत बढ़ाएगा। इस विस्तार के साथ ही, कंपनी भारतीय बाज़ार में क्रशिंग एवं स्क्रीनिंग समाधानों की बढ़ती मांग को पूरा करने के अलावा 60 से अधिक देशों में एक्सपोर्ट्स के लिए अपने उत्पादों की उपलब्धता को भी बेहतर बनाएगी। मुंबई स्थित रोटेक्स मैन्युफैक्चरर्स एंड इंजीनियर्स प्रा. लि. के वॉल्व ऑटोमेशन डिविजन का अधिग्रहण करने से मेट्सो द्वारा फ्लो कंट्रोल में ग्राहकों की जरूरतों को बड़े स्तर पर पूरा करने में सफलता मिलेगी।

मेट्सो के प्रेसिडेंट एवं सीईओ, पेक्का वाओरामो ने कहा कि भारतीय ग्राहक अब अधिक एवं बेहतर समाधानों की मांग करने लगे हैं और यहां का कीमतों पर केंद्रित बाजार अब एक गुणवत्ता केंद्रित बाजार में तब्दील होते साफ देखा जा सकता है। भारत में सीएजीआर 30% से आगे निकल चुका है और ऐसे में हमें यहां से काफी उम्मीदें हैं। इसके अलावा, मेट्सो इंडिया की सेल्स में एक्सपोर्ट की हिस्सेदारी 20% है, जिसमें पिछले चार वर्षों के दौरान लगभग 50%की वृद्धि हुई है। वर्ष 2018 में मेट्सो इंडिया ने 293 मिलियन यूरो (रु. 2385 करोड़) के ऑर्डर हासिल किये हैं, जो 2017 की तुलना में एक महत्वपूर्ण वृद्धि है, जब कंपनी की ऑर्डर बुक 166 मिलयिन यूरो (रु. 1333 करोड़) थी। हमें भारतीय बाज़ार में मेट्सो की विकास यात्रा जारी रखने की उम्मीद है, जो कि हमारे लिए सबसे तेज विकसित होते बाजारों में से एक है।

वाओरामो ने कहा कि हमारे भारतीय ग्राहक तकनीक का अधिक उपयोग करने लगे हैं और उनमें मजबूत उद्यमी क्षमताएं मौजूद हैं। मेट्सो में हम बदलते कारोबारी माहौल में अपने ग्राहकों की जरूरत पूरी करने के लिए लगातार अपनी क्षमताएं विकसित करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। मेट्सो ने भारत में अपना संचालन 1992 में शुरु किया था और तब से ही बाजार में अपनी मजबूत उपस्थिति बनाने के लिए काम रही है। आज भारत में मेट्सो के सात क्षेत्रीय कार्यालयों में 1200 से अधिक कर्मचारी हैं, जिनमें से 700 से अधिक कर्मचारियों की नियुक्ति पिछले दो वर्षों में की गई है। कंपनी की पांच प्रोडक्शन इकाईयां और फाउंड्री हैं और साथ ही पूरे देश में एक व्यापक सर्विस एवं डिस्ट्रिब्यूशन सेंटर नेटवर्क मौजूद है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

सन्मार्ग एक्सक्लूसिव :आर्थिक पैकेज से हर वर्ग को राहत, न अन्न की कमी, न धन की : ठाकुर

 विशेष संवाददाता, कोलकाता : कोविड-19 संकट के आघात से देश और देश की अर्थव्यवस्था को उबारने के लिए केंद्र सरकार हरसंभव कोशिश कर रही है। आगे पढ़ें »

कोरोना ने अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम को ​लिया अपने शिकंजे में, हुआ संक्रमित

नयी दिल्ली : देशभर में महामारी का रूप धारण कर चुके कोरोना वायरस संक्रमण से शुक्रवार को मशहूर अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के कोरोना वायरस आगे पढ़ें »

भारत के साथ सीमा विवाद को उचित ढंग से सुलझाने के लिए प्रतिबद्ध : चीन

फायदेमंद है संतुलित मात्रा में कार्बोहाइड्रेट का सेवन, अत्यधिक मात्रा पहुंचा सकता है नुकसान

भाजपा नेत्री सोनाली फोगाट ने मार्केट कमेटी के कर्मचारी को चप्पलों से पीटा

javdekar

भारत जलवायु प्रतिबद्धताओं पर खरे उतरने वाले देशों में शामिल है: प्रकाश जावडेकर

मरकज मामले में सीबीआई जांच की जरूरत नहीं: केंद्र

trump

प्रदर्शनकारियों पर हमले के मामले में ट्रंप पर मुकदमा

लॉकडाउन के दौरान इंस्टाग्राम से कमाई करने वाले खिलाड़ियों की सूची में कोहली एकमात्र क्रिकेटर

केंद्र और राज्यों को प्रवासियों को उनके घर पहुंचाने के लिए 15 दिन और : सुप्रीम कोर्ट

गर्मियों में तरबूज खाने के हैं कई फायदें और नुकसान, पढ़ें

ऊपर