सरकार सुनिश्चित करें कि चीन से आयातित सामानों से भारत को खतरा नहीं : कैट

नई दिल्ली : चीन में आई त्रासदी कोरोना का असर अब भारत के व्यवसायों पर भी पड़ने लगा है। कॉन्फेडरेशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी.सी.भरतिया एवं राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने चिंता व्यक्त करते हुए कहा की कोरोना वायरस के कारण चीन में हजारों लोग मारे गए हैं और चीन के उद्योग और वाणिज्य को भी बुरी तरह से प्रभावित किया है, जिसके कारण से अब भारत के व्यापार और लघु उद्योग पर अब उसका प्रतिकूल प्रभाव दिखना शुरू हो गया है।

वर्तमान परिस्थितियों में चीन भारत के लिए सबसे बड़ा निर्यातकर्ता देश है और आपूर्ति श्रृंखला बनाए रखने के लिए अगर सरकार द्वारा वैकल्पिक उपायों और घरेलू व्यापार और उद्योग को सशक्त बनाने के लिए तत्काल नीति लाने के लिए कदम नहीं उठाए गए तो तैयार उत्पादों, स्पेयर पार्ट्स और उद्योगों के लिए कच्चे माल के लिए चीन पर बड़ी निर्भरता भारत के व्यापार और छोटे उद्योगों को पंगु बना देगी। माल की कमी के कारण कीमतों में मुद्रास्फीति भी हो सकती है और कैट ने केंद्रीय वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल को आज भेजे गए एक पत्र में उनसे मौजूदा स्थिति को दूर करने के लिए तुरंत व्यापार और उद्योग की बैठक बुलाने का आग्रह किया है।

भरतिया ने कहा कि भारत का व्यापार और उद्योग मोटे तौर पर तीन कारणों से चीन पर निर्भर है। हम तैयार माल का आयात करते हैं जो देश में फिर से वितरित किया जाता है, कच्चा माल जो सामान के उत्पादन के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है और व्यापारियों और छोटे उद्योगों द्वारा स्पेयर पार्ट्स का आयात जिससे वस्तुओं को असेम्ब्ल कर तैयार किया जाता है। कोरोना वायरस जनवरी में सामने आया था, इसलिए चीन में व्यापार और उद्योग बंद है और माल का विनिर्माण या आपूर्ति नहीं है। भारतीय आयातकों ने चीन से आयात को रोक दिया है और चीन या अन्य कोरोना वायरस से प्रभावित देशों की अपनी यात्रा रद्द कर दी है। आम तौर पर, आयातक इन सामानों के स्टॉक को दो महीने तक बफर स्टॉक के रूप में रखते हैं और अब स्थिति उत्पन्न हो गई है जब आपूर्ति श्रृंखला उक्त स्टॉक ख़त्म होने के कारण बुरी तरह प्रभावित होगी।

ये सामान चीन से मंगाता है भारत
भारत चीन से प्रमुख रूप से खिलौने, फर्नीचर, बिल्डर हार्डवेयर, फुटवियर, कपड़े, फर्निशिंग फैब्रिक, उपभोज्य सामान, एफएमसीजी उत्पाद, गिफ्ट का सामान , घड़ी, मोबाइल, मोबाइल उपकरण , इलेक्ट्रॉनिक सामान, बिजली के सामान, चिकित्सा और सर्जिकल उपकरणों, सर्जिकल सामान, फार्मास्युटिकल्स, आयरन और स्टील के अन्य लंबे उत्पाद, कम लागत वाले एयरकंडिशनर, इंजीनियरिंग सामान, रसायन, निर्माण उपकरण, रसोई के उपकरण और सामान, ऑटो स्पेयर पार्ट्स, मशीनरी आइटम, कागज, स्टेशनरी आइटम, फर्टीलाइजर, कंप्यूटर एवं कंप्यूटर उपकरण, सोलर पैनल, कॉस्मेटिक्स, प्लास्टिक एवं प्लास्टिक वस्तुएं और यहां तक कि अगरबत्ती बनाने के लिए बांस की छड़ें आदि अन्य अनेक सामान चीन से आयात किये जाते हैं। कुल मिलाकर दैनिक जीवन में इस्तेमाल होने वाली प्रमुख वस्तुओं को चीन से आयात किया जा रहा है।

खंडेलवाल का कहना है कि सरकार को इस बात की जाँच करनी चाहिए कि क्या चीन से सामानों का आयात या अन्य देशों के चीनी सामानों के आयात से भारतीय नागरिकों के स्वास्थ्य को कोई खतरा है और यदि ऐसा है, तो उपचारात्मक कदम होना चाहिए। ई कॉमर्स सहित किसी भी तरह से भारत में इस तरह के आयात की कोई प्रविष्टि न हो, यह सुनिश्चित किया जाना आवशयक है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

वाजिद की पत्नी ने जबरन धर्म परिवर्तन के लिए दबाव बनाने का लगाया आरोप, कंगना ने प्रधानमंत्री से पूछा सवाल

मुंबई: कंगना रनौत अपनी एक टिप्पणी की वजह से फिर सुर्खियों में हैं। इस बार उन्होंने पारसी लोगों के बारे में टिप्पणी की है। कंगना आगे पढ़ें »

वैक्सीन को लेकर भारतीय रेगुलेटरों पर संदेह

राजनीतिक गपशप हैदराबाद की दवा कंपनी भारत बायोटेक जब से कोविड-19 वैक्सीन बनाने के लिए भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईएमसीआर) के साथ जुड़ी है, पूरी परियोजना आगे पढ़ें »

ऊपर