आ गई इलेक्ट्रिक रॉकेट बाईक, सिर्फ 2 घंटे में होगी चार्ज

Electric Rocket Bike

विशाखपत्तनम : ज्यादातर कंपनियां अब लोगों के लिए सस्ती और प्रदूषण मुक्त इलेक्ट्रिक गाड़ियां लाने में लगी हैं। वहीं एक युवक ने बेहद कम कीमत की इलेक्ट्रिक रॉकेट बाइक बनाई है। सबसे खास बात यह है कि रॉकेट बाइक की कीमत महज 16 हजार रुपए रखी गई है। बता दें कि जी गौतम नामक युवक को रॉकेट बाइक बनाने की प्रेरणा अमेरिका के एक प्रसिद्ध ऑटोमोटिव कंपनी से मिली थी। गौतम ने दावा किया है कि उसने इलेक्ट्रिक रॉकेट बाईक को सिर्फ 3 दिनों के अंदर बनाया है।

2 घंटे के चार्ज पर 40 किमी चलेगी

जी गौतम का कहना है कि रॉकेट बाइक में 36 वोल्ट की लिथियम बैटरी का प्रयोग किया गया है। साथ ही टॉप स्पीड के लिए इसमें 350 वॉट के हब मोटर को लगया गया है। बता दें कि इस बाइक को सिर्फ 2 घंटे चार्ज करना पड़ता है। एकबार फुल चार्ज हो जाने के बाद यह बाइक 40 किलोमीटर की दूरी तय कर सकती है। इसकी टॉप स्पीड 40 किमी प्रतिघंटा है। इस बाइक की एक खास खूबी यह भी है कि चलने के दौरान यह आवाज नहीं करती तथा इससे किसी तरह का प्रदूषण भी नहीं होता है। गति को नियंत्रित करने और बाईक को रोकने के लिए इसमें हैंडब्रेक सिस्टम भी दिया गया है।

खास आविष्कारों के लिए चर्चित

साइंस में पोस्ट ग्रैजुएट जी गौतम पहले भी अपने खास आविष्कारों के लिए चर्चा में रहे हैं। बता दें कि इससे पहले वे बिना स्टीयरिंग वाली कार, हाइब्रिड मोटर कार और रेनबो स्कूटर बना चुके हैं। मालूम हो कि गौतम ने बताया कि बिना स्टीयरिंग वाली कार महज 32 हजार रुपए में तैयार किया था। गौतम की मानें तो उनकी बनाई हुई स्टीयरिंग लेस कार को देश की पहली बिना स्टीयरिंग की कार कहा जा सकता है।

गौरतलब है कि अपने इन नए अविष्कारों को गौतम पेटेंट भी करवा रहे हैं। साथ उन्होंने हाल ही में बनाई गई रॉकेट बाइक तथा स्टीयरिंग लेस कार के पेटेंट के लिए भी आवेदन किया हुआ है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अमेरिका व चीन के बीच बढ़ते तनाव से दुनियाभर में आर्थिक गतिविधियां प्रभावित

नई दिल्ली : कोरोना महामारी के कारण अमेरिका का काफी नुकसान हुआ है। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चीन को लेकर लगातार आक्रामक रुख आगे पढ़ें »

बंगाल में कोरोना का कहर एक दिन में आए 183 नये मामले

कोलकाता : कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के ​लिए लागू लॉकडाउन के 64वें दिन बुधवार को बंगाल में पिछले 24 घंटे में 183 लोगों के आगे पढ़ें »

ऊपर