बायोन ने भारत की पहली रैपिड कोविड-19 एट-होम स्क्रीनिंग टेस्ट किट लॉन्च किया

नई दिल्ली : हेल्थकेयर कंपनी बायोन ने कोविड-19 एट-होम स्क्रीनिंग टेस्ट किट लॉन्च किया है, यह इस तरह की पहली भारतीय कंपनी है। यह इस्तेमाल में आसान है और कुछ ही मिनटों में संक्रमण का पता लगा लेती है। आवश्यक चिकित्सा नियामक से मंजूरी के बाद यह एट-होम स्क्रीनिंग किट bione.in पर बिक्री के लिए उपलब्ध है।

बायोटेक कंपनी ने एक बड़ी उपलब्धि के तौर पर कोरोनोवायरस के लिए स्क्रीनिंग किट तैयार की है, जो संक्रमण के डर को दूर कर सकती है। लॉकडाउन के मद्देनजर बाहर निकलने की जरूरत नहीं है और यह पॉइंट-ऑफ-केयर होम स्क्रीनिंग किट तुरंत नतीजे देती है। इस किट से कोरोनावायरस की समय पर पुष्टि हो सकेगी और जल्द से जल्द इलाज शुरू हो सकेगा। इससे संक्रमित व्यक्ति को क्वारेंटाइन कर संक्रमण को अन्य लोगों में फैलने से रोका जा सकेगा। इस किट की कीमत 2000-3000 रुपए के बीच है, जो ग्लोबल सप्लाई पर निर्भर करेगी। सप्लाई बढ़ने पर जनता को यह किफायती दर पर मिल सकेगी। सामान्य परिस्थितियों में रेडी-टू-यूज किट प्लेटफॉर्म पर ऑर्डर देने के 2-3 दिनों में प्राप्त की जा सकती है। कंपनी मास स्क्रीनिंग को ध्यान में रखते हुए प्रभावी स्क्रीनिंग टूल के लिए बल्क ऑर्डर पर भी बातचीत कर रही है।

इस तरह करना होगा इश्तेमाल
कोविड-19 स्क्रीनिंग टेस्ट किट एक आईजीजी एंड आईजीएम बेस्ड टूल है, जिसके नतीजे 5-10 मिनट में मिल जाते हैं। किट प्राप्त करने के बाद यूजर को अल्कोहल स्वैब से अपनी उंगली साफ करनी होती है और प्रदान की गई लैंसेट को उंगली पर चुभाना होता है। प्रदान किया गया कार्ट्रेज इस प्रकार प्राप्त रक्त के नमूने से 5-10 मिनट में कोरोनावायरस होने या न होने का नतीजा बता देता है। इन प्रोडक्ट्स को विश्वव्यापी सीई और एफडीए द्वारा प्रमाणित किया गया है और कड़े गुणवत्ता नियंत्रण सुनिश्चित करने के बाद बाजार में लाया गया है। किट आईसीएमआर द्वारा प्रमाणित है और उचित गुणवत्ता जांच के बाद बाजार में लाई गई है।

विदेशों में मांग 

कंपनी हर हफ्ते 20,000 किट सप्लाई करने को तैयार है और वह बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए आने वाले महीनों में मैन्यूफेक्चरिंग प्लांट में इसका निर्माण तेज करेगी। इस समय बाजार में कोरोनावायरस टेस्टिंग सॉल्युशन कम होने से अमेरिका, इटली, स्पेन आदि देशों से किट की मांग बहुत ज्यादा है। यह उल्लेखनीय है कि स्क्रीनिंग रोगी करता है और इसकी वजह से लैब की आवश्यकता खत्म हो जाती है। इसके साथ ही यह किट कोविड-19 के प्रसार को कम करने में मदद करती है।  यह भारत की पहली और एकमात्र कंपनी है जो पर्सनलाइज्ड जेनेटिक व माइक्रोबायोम टेस्टिंग सेवाएं देती है। कंपनी के पास भारत की पहली डायरेक्ट-टू-कंज्यूमर जेनेटिक और माइक्रोबायोम टेस्टिंग सर्विस है। यह भारत में निवारक स्वास्थ्य सेवा को बढ़ावा देने और जीवन प्रत्याशा बढ़ाने की दिशा में सक्रिय रूप से काम कर रही है। कंपनी ने इससे पहले पेट के डिस्बिओसिस की जांच के लिए माइक्रोबायोम टेस्ट किट विकसित की थी।

साथ ही जेनेटिक मेकअप के आधार पर कोविड-19 जैसे संक्रामक रोगों के प्रति संवेदनशीलता की भविष्यवाणी के लिए जेनेटिक टेस्ट भी किए थे। कंपनी के मालिकाना हक वाले बायोइंफर्मेटिक्स बायोन प्लेटफार्म द्वारा विश्लेषित किए गए डेटा और उसके आधार पर नतीजों के साथ कस्टमाइज्ड सुझाव देने, निवारक उपाय करने और कोरोनावायरस से लड़ने में सहायक हैं। स्टैंड-अलोन कोविड-19 रैपिड एट-होम स्क्रीनिंग टेस्ट किट कोरोनावायरस के खिलाफ एक विश्वसनीय स्क्रीनिंग टूल है। बायोन ने कहा है कि  कोविड-19 स्क्रीनिंग किट के परिणाम जो भी हो, लेकिन उसके बाद भी लक्षण दिखने पर लैब टेस्ट अवश्य कराएं। पॉजीटिव टेस्ट रिजल्ट्स पर तत्काल और विस्तृत फॉलो-अप आवश्यक है।

लॉन्च पर बात करते हुए बायोन के सीईओ डॉ. सुरेन्द्र चिकारा ने कहा कि हम लंबे समय से कोरोनावायरस का अध्ययन कर रहे हैं। हमने सभी संसाधनों का इस्तेमाल करते हुए इस पर फोकस किया है ताकि प्रकोप पर अंकुश लगाने के लिए प्रभावी साधन विकसित किया जा सके। ऐसे अभूतपूर्व समय में कोविड-19 होम स्क्रीनिंग टेस्ट किट एक सफल प्रोडक्ट के तौर पर प्रस्तुत किया गया है। हम टेस्ट के नतीजों का वेटिंग टाइम कम कर इसे भारत की कोविड-19 से लड़ाई में प्रभावी मदद करना चाहते हैं। हमारा यकीन है कि कोरोनावायरस के खिलाफ लड़ाई का नेतृत्व करने में सरकार का समर्थन महत्वपूर्ण है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

मैच फीट के लिए चार चरण में अभ्यास करेंगे भारतीय क्रिकेटर : कोच श्रीधर

नयी दिल्ली : भारत के क्षेत्ररक्षण कोच आर श्रीधर का कहना है कि देश के शीर्ष क्रिकेटरों के लिए चार चरण का अभ्यास कार्यक्रम तैयार आगे पढ़ें »

नस्लभेद के खिलाफ आवाज बुलंद करे आईसीसी : सैमी

नयी दिल्ली : वेस्टइंडीज के पूर्व टी-20 कप्तान डेरेन सैमी ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) और अन्य क्रिकेट बोर्डों से नस्लभेद के खिलाफ आवाज बुलंद आगे पढ़ें »

ऊपर