व्यापारियों को ई कॉमर्स से जोड़ने के लिए कैट ने ई कॉमर्स कंपनियों को निमंत्रण दिया

नई दिल्ली : देश के 7 करोड़ व्यपारियों के व्यापार को आधुनिक बनाने एवं उन्हें ई कॉमर्स बाज़ार में अपनी दूकान खोलने के लिए प्रेरित करने के लिए कॉन्फ़ेडरेशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने एक देशव्यापी अभियान चलाने की घोषणा की है और इस अभियान से जुड़ने के लिए देश के सभी प्रमुख ई कॉमर्स कंपनियों को खुला निमंत्रण दिया है ।

कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी सी भरतिया एवं राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने कहा की ई कॉमर्स भविष्य का तेजी से बढ़ता हुआ बाजार है और व्यापारी भी अपने आप को इससे अछूता नहीं रख सकता है। यह एक सर्वविदित तथ्य है की ख़ास तौर पर 18 वर्ष से 40 वर्ष के उपभोक्ता अधिकांश सामान अब ऑनलाइन खरीदते हैं और देश भर में खरीदी के तौर तरीके में एक बुनियादी परिवर्तन आया है। इस बात को ध्यान में रखते हुए कैट ने देश भर के व्यापारियों को ई कॉमर्स प्लेटफार्म से जोड़ने का निश्चय किया है, जिससे वो अपने वर्तमान व्यापार और भुगतान में डिजिटल सिस्टम को आसानी से अपना सकें।

भारत के घरेलू व्यापार बेहद बड़ा और विस्तृत है और इस दृष्टि से कैट ने देश के प्रमुख ई कॉमर्स कंपनियों को खुला निमंत्रण दिया है की वो कैट के साथ जुड़कर व्यापारियों को तकनीक के माध्यम से ई कॉमर्स व्यापार से जोड़ने में सहभागी बने। पिछले पांच वर्षो से कैट मास्टरकार्ड के साथ मिलकर देशभर में व्यापारियों को डिजिटल भुगतान से जोड़ने का एक राष्ट्रीय अभियान चलाये हुए है, जिसमें अब तक लगभग 5 लाख से अधिक व्यापारियों ने डिजिटल भुगतान को अपने व्यापार में अपनाया है ।

भरतिया एवं खंडेलवाल ने कहा की व्यापारियों को ई कॉमर्स से जोड़ने के प्रयासों में कैट जिन ई कॉमर्स कंपनियों के साथ काम करेगा, उसमें यह सुनिश्चित किया करेगा की ऐसा कोई गठजोड़ व्यापारियों के हितों के विरूद्ध न हो और इ कॉमर्स कंपनी ई कॉमर्स की सभी गाइडलाइंस की पूरी पालन कर रही है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बाहरियों से बचाना है बंगाल की संस्कृति को : फिरहाद

उत्तर बैरकपुर में नवनिर्मित कन्वेंशन सेंटर का हुआ उद्घाटन बैरकपुर : तथाकथित बड़े नेता बंगाल के जिलों व शहरों में चक्कर लगा रहे हैं और यहां आगे पढ़ें »

एकजुट होकर करें काम, दिल्ली ने दी भाजपा के बड़े नेताओं को चेतावनी

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : विधानसभा चुनाव करीब है और ऐसे समय में अलग - अलग होकर प्रदर्शन अथवा किसी अन्य तरह का काम करना नहीं चलेगा। आगे पढ़ें »

ऊपर