शेयर बाजार में आईआरसीटीसी की बंपर लिस्टिंग, निवेशक हुए मालामाल

Share profit

नई दिल्ली : इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन (आईआरसीटीसी) ने बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) पर 101.25 प्रतिशत और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) पर 95.62 प्रतिशत प्रीमियम पर लिस्ट हुई। इसके शेयर का इशू प्राइस 320 रुपये था और पहले ही दिन कंपनी के शेयर्स दोगुने भाव पर स्टॉक मार्केट में लिस्ट हुए। बीएसई पर शेयर 644 रुपये और एनएसई पर शेयर 626 रुपये के भाव पर लिस्ट हुई। वहीं आईपीओ 120 गुणा ओवर सब्सक्राइब होने से पहले से ही बंपर लिस्टिंग की आशा की जा रही थी। गौरतलब है कि कंपनी के निवेशक मालामाल हो गए। स्टॉक मार्केट में किसी अन्य सरकारी कंपनियों ने अब तक इससे बेहतर लिस्टिंग दर्ज नहीं की है।

कंपनी का पूंजीकरण 10,736 करोड़ रुपए

आईआरसीटीसी ने आईपीओ के लिए प्राइस बैंड 315-320 के बीच तय किया था। इश्यू 30 सितंबर को खुला था और 3 अक्‍टूबर को बंद हुआ था। 320 रुपये के इशू प्राइस के मुकाबले शेयर्स 101.25 प्रतिशत प्रीमियम के साथ शेयर्स 698 रुपए तब गया। स्टॉक मार्केट में लिस्ट होने के बाद कंपनी का पूंजीकरण 10,736 करोड़ रुपए हो गया हैं। मालूम हो कि शेयर में निवेश करने वाले निवेशक मिनटों में मालामाल हो गए और उनके लगाए लाखों रुपए तुरंत डबल हो गए। कंपनी के बिक्री के लिए रखे गए 2 करोड़ शेयर के एवज में 25 करोड़ शेयर के लिए बोलियां प्राप्त हुई थी। इंस्टीटूशनल बायर्स की श्रेणी में 108.79 गुना, नॉन इंस्टीटूशनल बायर्स के मामले में 354.52 गुना और रिटेल निवेशकों के मामले में 14.65 गुना अभिदान मिला। आईपीओ जुटाने के लिए कंपनी 625 करोड़ रुपए लाई है। पहले ही ग्रे मार्केट में शेयर की कीमत में 71 प्रतिशत की बढ़ोतरी हो चुकी थी।

बता दें कि वित्त वर्ष 2018-19 में आईआरसीटीसी का मुनाफा 23.5% बढ़कर 272.5 करोड़ रुपए हुआ था और साल 2008 में इसे मिनी रत्न कंपनी की उपलब्धि भी हासिल हुई थी। रेलवे के अलावा आईआरसीटीसी ई-कैटरिंग, एग्जीक्यूटिव लाउंज और बजट होटल का कारोबार भी करती है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

Hemant Biswa Sarma

असम सरकार ने मोदी सरकार से एनआरसी बिल रद्द करने अपील की

नई दिल्ली : असम सरकार ने केंद्र सरकार से हाल में जारी किए गए नैशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजन्स (एनआरसी) बिल को रद्द करने की अपील आगे पढ़ें »

यह प्लान आपको दिलाएगी क्रेडिट- डेबिट कार्ड कैरी करने से मुक्ति

नई दिल्ली : डिजिटल ट्रांजैक्शन के दौर में अधिकांश लोगों के पास एक से ज्यादा डेबिट, क्रेडिट कार्ड हैं। वर्ष 2016 में नोटबंदी के बाद आगे पढ़ें »

ऊपर