शेयर बाजार में आईआरसीटीसी की बंपर लिस्टिंग, निवेशक हुए मालामाल

Share profit

नई दिल्ली : इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन (आईआरसीटीसी) ने बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) पर 101.25 प्रतिशत और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) पर 95.62 प्रतिशत प्रीमियम पर लिस्ट हुई। इसके शेयर का इशू प्राइस 320 रुपये था और पहले ही दिन कंपनी के शेयर्स दोगुने भाव पर स्टॉक मार्केट में लिस्ट हुए। बीएसई पर शेयर 644 रुपये और एनएसई पर शेयर 626 रुपये के भाव पर लिस्ट हुई। वहीं आईपीओ 120 गुणा ओवर सब्सक्राइब होने से पहले से ही बंपर लिस्टिंग की आशा की जा रही थी। गौरतलब है कि कंपनी के निवेशक मालामाल हो गए। स्टॉक मार्केट में किसी अन्य सरकारी कंपनियों ने अब तक इससे बेहतर लिस्टिंग दर्ज नहीं की है।

कंपनी का पूंजीकरण 10,736 करोड़ रुपए

आईआरसीटीसी ने आईपीओ के लिए प्राइस बैंड 315-320 के बीच तय किया था। इश्यू 30 सितंबर को खुला था और 3 अक्‍टूबर को बंद हुआ था। 320 रुपये के इशू प्राइस के मुकाबले शेयर्स 101.25 प्रतिशत प्रीमियम के साथ शेयर्स 698 रुपए तब गया। स्टॉक मार्केट में लिस्ट होने के बाद कंपनी का पूंजीकरण 10,736 करोड़ रुपए हो गया हैं। मालूम हो कि शेयर में निवेश करने वाले निवेशक मिनटों में मालामाल हो गए और उनके लगाए लाखों रुपए तुरंत डबल हो गए। कंपनी के बिक्री के लिए रखे गए 2 करोड़ शेयर के एवज में 25 करोड़ शेयर के लिए बोलियां प्राप्त हुई थी। इंस्टीटूशनल बायर्स की श्रेणी में 108.79 गुना, नॉन इंस्टीटूशनल बायर्स के मामले में 354.52 गुना और रिटेल निवेशकों के मामले में 14.65 गुना अभिदान मिला। आईपीओ जुटाने के लिए कंपनी 625 करोड़ रुपए लाई है। पहले ही ग्रे मार्केट में शेयर की कीमत में 71 प्रतिशत की बढ़ोतरी हो चुकी थी।

बता दें कि वित्त वर्ष 2018-19 में आईआरसीटीसी का मुनाफा 23.5% बढ़कर 272.5 करोड़ रुपए हुआ था और साल 2008 में इसे मिनी रत्न कंपनी की उपलब्धि भी हासिल हुई थी। रेलवे के अलावा आईआरसीटीसी ई-कैटरिंग, एग्जीक्यूटिव लाउंज और बजट होटल का कारोबार भी करती है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

वेस्टइंडीज जीत के करीब, इंग्लैंड ने दूसरी पारी में 313 रन बनाए

साउथैम्पटन : इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट में वेस्टइंडीज जीत की ओर है। मैच के पांचवें दिन टी ब्रेक तक मेहमान टीम ने 4 विकेट के आगे पढ़ें »

पगबाधा का फैसला सिर्फ और सिर्फ डीआरएस से हो : तेंदुलकर

नयी दिल्ली : महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने अंपायरों के फैसलों की समीक्षा प्रणाली (डीआरएस) से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) को ‘अंपायर्स कॉल’ को हटाने आगे पढ़ें »

ऊपर