लक्ष्मी विलास बैंक के विलय को मिली मंजूरी, केंद्रीय मंत्रिमंडल के लिए अहम फैसले…

– लक्ष्मी विलास बैंक के 20 लाख जमाकर्ताओं व 4 हजार कर्मचारियों को मिली राहत

नई दिल्ली : केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि केंद्रीय मंत्रिमंडल ने संकटग्रस्त लक्ष्मी विलास बैंक के डेवलपमेंट बैंक इंडिया लिमिटेड (डीबीआईएल) में विलय के प्रस्ताव पर मुहर लगा दी है। साथ ही एटीसी में एफडीआई को भी मंजूरी दी गई। यह फैसला बुधवार को हुई केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में लिया गया।

जावड़ेकर ने कहा कि रिजर्व बैंक ने लक्ष्मी विलास बैंक के डेवलपमेंट बैंक इंडिया लिमिटेड में विलय के आदेश दिए हैं। इससे 20.5 लाख जमाकर्ताओं को राहत मिलेगी। साथ ही 4000 कर्मचारियों की नौकरी भी बरकरार रहेगी। उन्होंने बताया कि सरकार ने आरबीआई को कहा है कि कुप्रबंधन द्वारा जो बैंक को डूबने के कगार पर लाते हैं, ऐसे दोषियों को सजा होनी चाहिए।

एनआईआईएफ को 6 हजार पूंजी
केंद्रीय मंत्री ने बताया कि कैबिनेट ने राष्ट्रीय निवेश और अवसंरचना निधि द्वारा प्रायोजित एनआईआईएफ ऋण मंच में सरकार द्वारा 6,000 करोड़ रुपये के इक्विटी निवेश को मंजूरी दी है। साथ ही टेलीकॉम सेक्टर में एटीसी में एफडीआई को भी मंजूरी मिली है। टाटा समूह की कंपनी एटीसी के 12 फीसदी शेयर एटीसी पैसिफिक एशिया ने लिए हैं।

आत्मनिर्भर भारत को बढ़ावा देने की योजना
जावड़ेकर ने बताया कि प्रधानमंत्री मोदी की अध्यक्षता और आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति (सीसीईए) की बैठक में कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए हैं। सरकार ने आत्मनिर्भर भारत को बढ़ावा देने के लिए पूंजी के तौर पर अब डेट मार्केट का फायदा उठाया जाएगा। उन्होंने बताया कि इसके तहत नेशनल इनवेस्टमेंट एंड इंफ्रास्ट्रक्चर फंड (एनआईआईएफ) की स्थापना की गई। कैबिनेट ने निर्णय लिया है कि इसमें छह हजार करोड़ रुपये का निवेश किया जाएगा। निवेश की यह प्रक्रिया दो साल में पूरी की जाएगी। केंद्रीय मंत्री ने बताया कि इससे इंफ्रास्ट्रक्चर विकास के लिए बॉन्ड मार्केट के द्वारा एक लाख करोड़ रुपये से ज्यादा रकम जुटाई जाएगी।

कोरोना ने आर्थिक स्थिति को किया कमजोर
गौरतलब है कि कोरोना काल में एक ओर जहां लोगों की आर्थिक स्थिति बिगड़ी है। वहीं भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने वित्तीय संकट से गुजर रहे निजी क्षेत्र के लक्ष्मी विलास बैंक पर एक महीने तक के लिए पाबंदियां लगाई। जिसके तहत बैंक के खाताधारक अब सिर्फ 25,000 रुपये तक की ही निकासी कर सकते थे। इससे बैंक के शेयरों पर असर देखने को मिला। आरबीआई ने कहा कि केवल आपात स्थिति में ही बैंक से पांच लाख रुपये निकाले जा सकते हैं। इसमें शादी, शिक्षा और अन्य जरूरी कामों के लिए रकम निकाना शामिल है। लेकिन इसके लिए ग्राहक को सबूत पेश करोना होगा।

मुश्किलों में फंसने वाला निजी क्षेत्र का दूसरा बैंक
यस बैंक के बाद इस साल मुश्किलों में फंसने वाला लक्ष्मी विलास बैंक निजी क्षेत्र का दूसरा बैंक बन गया है। यस बैंक के ऊपर मार्च में पाबंदियां लगाई गई थीं। सरकार ने तब भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) की मदद से यस बैंक को उबारा था। एसबीआई ने यस बैंक की 45 फीसदी हिस्सेदारी के बदले 7,250 करोड़ रुपये लगाया था।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

आईसीसी पुरस्कार के लिये पंत और अश्विन नामांकित

दुबई : भारत के सीनियर ऑफ स्पिनर आर अश्विन और विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद के नये महीने के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी के आगे पढ़ें »

बाली की घटना में पूर्व पार्षद को गिरफ्तार करे पुलिस : अर्जुन सिंह

हावड़ा : गत शनिवार को बाली में भाजपा व तृणमूल में हुई झड़प की घटना में घायल हुए भाजपाई नेता प्रमोद दुबे की जांघ में आगे पढ़ें »

ऊपर