एयरटेल पेमेंट्स बैंक ने अपने 2,50,000 बैंकिंग केंद्रों में शुरू की आधार आधारित भुगतान प्रणाली

नई दिल्ली : एयरटेल पेमेंट बैंक ने देश भर में अपने 2,50,000 से अधिक बैंकिंग केंद्रों में आधार समर्थित भुगतान प्रणाली (एईपीएस) शुरू की है। एईपीएस के ज़रिये एयरटेल पेमेंट्स बैंक के ग्राहकों के साथ-साथ किसी भी अन्य बैंक के ग्राहक जिनके बैंक खाते आधार से जुड़े हैं, वे भी एयरटेल पेमेंट्स बैंक के निश्चित बैंकिंग केंद्रों पर वित्तीय हस्तांतरण कर सकते हैं। एयरटेल पेमेंट्स बैंक के ग्राहक किसी भी एईपीएस समर्थित बैंक पर वित्तीय हस्तांतरण कर सकते हैं।

एईपीएस ग्राहकों को माइक्रो-एटीएम पर अपने आधार नंबर या वर्चुअल आईडी के जरिये अपने आधार से जुड़े बैंक खाते से वित्तीय हस्तांतरण करने की सुविधा प्रदान करता है। हस्तांतरण की पुष्टि तभी की जाएगी, जब ग्राहक का आधार नंबर और ऊँगली का निशान रिकॉर्ड के मुताबिक होगा। एईपीएस के ज़रिये एयरटेल पेमेंट्स बैंक अपने खाताधारकों के साथ अन्य बैंकों के ग्राहकों को विभिन्न किस्म की सुविधाओं की पेशकश कर सकेगा। ग्राहक एयरटेल पेमेंट्स बैंक के 2,50,000 से अधिक एईपीएस समर्थित बैंकिंग केन्द्रों पर पैसे निकाल सकेंगे, खाते में बची राशि जांच सकेंगे और मिनी स्टेटमेंट निकाल पाएंगे। एयरटेल पेमेंट्स बैंक के ग्राहक ये सेवाएं किसी भी एईपीएस समर्थित बैंक से ले सकेंगे।

एईपीएस एयरटेल पेमेंट बैंक में बैंकिंग प्रक्रिया की सुरक्षा बढ़ाएगा, क्योंकि ग्राहक अपने बैंकिंग प्रक्रिया बिना किसी को अपने बैंक खाते या डेबिट कार्ड का ब्योरा दिए सिर्फ अपने आधार नंबर के ज़रिये हस्तांतरण कर सकेंगे। एयरटेल पेमेंट्स बैंक के मुख्य परिचालन अधिकारी गणेश अनंत नारायणन ने कहा कि  इसके जरिये किसी भी बैंक के ग्राहकों को सेवा प्रदान करने की सुविधा मिलेगी। एईपीएस मंच सभी को अपने आधार नंबर के ज़रिये सुरक्षित बैंकिंग प्रक्रिया पूरी करने का आसान माध्यम प्रदान करता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

लोगों को मेरे खेल के खत्म होने के बारे में लिखने की आदत है, मुझे फर्क नहीं : सुशील

नयी दिल्ली : दिग्गज पहलवान सुशील कुमार उम्र के ऐसे पड़ाव पर है जहां ज्यादातर खिलाड़ी संन्यास की घोषणा कर देते है लेकिन ओलंपिक में आगे पढ़ें »

कोरोना से हुए नुकसान को कम करने के लिए सरकार जल्द नए राहत पैकेजों की घोषणा करेगी

नई दिल्ली : कोरोना के कारण हुए लॉक डाउन के कारण देश की अर्थव्यवस्था को काफी नुकसान हुआ है। वित्त मंत्रालय लगातार राहत पैकेज पर आगे पढ़ें »

ऊपर