2019-20 में आर्थिक विकास दर 7 फीसद रहने का अनुमान: अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष

नई दिल्ली : अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष ने घरेलू मांग के कारण 2019-20 के लिए भारत के आर्थिक विकास के अपने अनुमान में 0.3 फीसद अंक की कटौती कर, इसे 7 फीसद कर दिया है। वहीं, अगले वित्त वर्ष यानी 2020-21 के लिए भी 0.3 फीसद की कटौती करके इसे 7.2 फीसद कर दिया है।

आईएमएफ ने अपने अपडेट में कहा है कि भारत की अर्थव्यवस्था 2019 में 7.0 फीसद तक बढ़ने के लिए तैयार है, जबकि 2020 में यह 7.2 फीसद तक बढ़ सकती है। दोनों वर्षों में 0.3 फीसद गिरावट का संकेत है। आपको बातें दें कि आईएमएफ ने अप्रैल में विकास दर 7.3 फीसद रहने का अनुमान लगाया है। विकास दर अब घटकर 6.8 फीसद पर आ गई, जिसका मतलब है कि कम जीडीपी वृद्धि भी इस वित्तीय वर्ष में आर्थिक विस्तार को आगे नहीं बढ़ा पाएगी।

आपको बता दें कि विश्व बैंक भारत में आर्थिक विकास के लिए अपने अनुमानों के मामले में सबसे आगे रहा है। अगले तीन वित्त वर्ष के लिए भारत की जीडीपी वृद्धि दर को 7.5 रहने का अनुमान जताया था, जिसमें वर्तमान वित्त वर्ष भी शामिल है। भारत आने वाले समय में दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ती बड़ी अर्थव्यवस्था बना रहेगा।

वहीँ विकास कि बात करें तो चीन को आईएमएफ द्वारा 2019 में 6.2 फीसद और 2020 में 6 फीसद की वृद्धि का अनुमान लगाया गया था। पहले के अनुमानों से दोनों वर्षों के अनुमानों में 0.1 फीसद अंक की कटौती की गई थी। चीन 2018 में 6.6 फीसद बढ़ा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

वनडे क्रिकेट में किसी भी स्थान पर बल्लेबाजी को तैयार : रहाणे

नयी दिल्ली : भारतीय बल्लेबाज अजिंक्य रहाणे ने कहा कि उनकी अंतररात्मा की आवाज है कि वह एकदिवसीय प्रारूप में राष्ट्रीय टीम में वापसी करेंगे। आगे पढ़ें »

जरूरतमंद पूर्व खिलाड़ियों की मदद करती रहेगी सरकार : रीजिजू

नयी दिल्ली : खेलमंत्री किरेन रीजिजू ने शनिवार को कहा कि मंत्रालय जरूरतमंद पूर्व खिलाड़ियों की आर्थिक मदद करता रहेगा क्योंकि देश के लिये खेलते आगे पढ़ें »

ऊपर