20 लाख करोड़ रुपए के पैकेज में स्वास्थ्य क्षेत्र का नहीं रखा गया ख्याल : फिच रिपोर्ट

नई दिल्ली : रेटिंग एजेंसी फिच सॉल्युशंस का कहना है कि समाय रकार द्वारा दिए गए हालिया पैकेज में स्वास्थ्य क्षेत्र की तात्कालिक जरूरतों का ध्यान नहीं रखा गया है। फिच के मुताबिक मौजूदा समय में कोरोना महामारी के कारण स्वास्थ क्षेत्र पर काफी दबाव है।

फिच समूह इकाई फिच सॉल्युशंस कंट्री रिस्क एड इंडस्ट्री रिसर्च रिपोर्ट के मुताबिक वित्त मंत्रालय ने 11 मार्च को स्वास्थ्य क्षेत्र के लिए आवंटन को जीडीपी के मुकाबले 0.008 प्रतिशत बढ़ाने की घोषणा की थी, ताकि स्वास्थ्य क्षेत्र पर खर्च को बढ़ाया जा सके। यह बजटीय आवंटन पुराना है, बस मौजूदा खर्च को इधर-उधर किया गया है। फिच का कहना है कि सरकार का प्रोत्साहन पैकेज स्वास्थ्य क्षेत्र की मौजूदा समस्याओं को दूर करने में सक्षम नहीं है। फिच का कहना है कि कोरोना संकट को देखते हुए स्वास्थ क्षेत्र में निवेश बढ़ाने की जरूरत है।

रिपोर्ट के मुताबिक लगातार स्वास्थ्य खर्च को कम रखने और स्वास्थ्य बुनियादी ढांचे पर निवेश नहीं करने और कोरोना संक्रमण को खत्म करने के लिए कारगर कदम नहीं उठाने से वायरस का प्रकोप गहराएगा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

शाह ने हैदराबाद नगर निगम के चुनाव प्रचार के दौरान रोड शो किया

कहा-इस बार हैदराबाद का मेयर भाजपा से होगा हैदराबाद : केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने रविवार को ऐतिहासिक चारमीनार के समीप स्थित भाग्यलक्ष्मी मंदिर में आगे पढ़ें »

वाजिद की पत्नी ने जबरन धर्म परिवर्तन के लिए दबाव बनाने का लगाया आरोप, कंगना ने प्रधानमंत्री से पूछा सवाल

मुंबई: कंगना रनौत अपनी एक टिप्पणी की वजह से फिर सुर्खियों में हैं। इस बार उन्होंने पारसी लोगों के बारे में टिप्पणी की है। कंगना आगे पढ़ें »

ऊपर