20 लाख करोड़ रुपए के पैकेज में स्वास्थ्य क्षेत्र का नहीं रखा गया ख्याल : फिच रिपोर्ट

नई दिल्ली : रेटिंग एजेंसी फिच सॉल्युशंस का कहना है कि समाय रकार द्वारा दिए गए हालिया पैकेज में स्वास्थ्य क्षेत्र की तात्कालिक जरूरतों का ध्यान नहीं रखा गया है। फिच के मुताबिक मौजूदा समय में कोरोना महामारी के कारण स्वास्थ क्षेत्र पर काफी दबाव है।

फिच समूह इकाई फिच सॉल्युशंस कंट्री रिस्क एड इंडस्ट्री रिसर्च रिपोर्ट के मुताबिक वित्त मंत्रालय ने 11 मार्च को स्वास्थ्य क्षेत्र के लिए आवंटन को जीडीपी के मुकाबले 0.008 प्रतिशत बढ़ाने की घोषणा की थी, ताकि स्वास्थ्य क्षेत्र पर खर्च को बढ़ाया जा सके। यह बजटीय आवंटन पुराना है, बस मौजूदा खर्च को इधर-उधर किया गया है। फिच का कहना है कि सरकार का प्रोत्साहन पैकेज स्वास्थ्य क्षेत्र की मौजूदा समस्याओं को दूर करने में सक्षम नहीं है। फिच का कहना है कि कोरोना संकट को देखते हुए स्वास्थ क्षेत्र में निवेश बढ़ाने की जरूरत है।

रिपोर्ट के मुताबिक लगातार स्वास्थ्य खर्च को कम रखने और स्वास्थ्य बुनियादी ढांचे पर निवेश नहीं करने और कोरोना संक्रमण को खत्म करने के लिए कारगर कदम नहीं उठाने से वायरस का प्रकोप गहराएगा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

इन 7 वजहों से करनी चाहिए गणपति की पूजा

कोलकाता : बुधवार को पूरे विधि विधान के साथ भगवान गणेश की पूजा की जाती है l भगवान गणेश भक्तों पर प्रसन्न होकर उनके दुखों आगे पढ़ें »

कोविड के एक्टिव मामले लाखों में, चिंता बढ़ी

डिस्चार्ज रेट में भी गिरावट सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः राज्य में कोरोना वायरस के एक्टिव मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग की चिंता बढ़ती आगे पढ़ें »

ऊपर