हवाई यात्रियों को अब आईडी प्रूफ और बोर्डिंग से नहीं गुजरना पड़ेगा, सरकार ला रही ये नई तकनीक

नई दिल्ली : हवाई यात्रियों को कई तरह के क्लियरेंस से गुजरना पड़ता है। लेकिन जल्द ही अब हवाई यात्रा करने के लिए आईडी प्रूफ, बोर्डिंग पास, एयरलाइन टिकट किसी भी चीज की जरूरत नहीं होगी। इसकी जगह अब आपका चेहरा ही काफी होगा। दरअसल, सरकार जल्द ही डिजी यात्रा स्कीम लागू करेगी, जिसके लिए ट्रायल चल रहा है।

31 जुलाई तक चलेगा ट्रायल
इस स्कीकम को फेस रिकॉग्निशन तकनीक से जोड़ा जाएगा। फेस रिकॉग्निशन तकनीक का हैदराबाद एयरपोर्ट पर ट्रायल शुरू हो चुका है। इसमें सिर्फ एक बार आपके बायोमीट्रिक की जरूरत होगी, उसके बाद आप बिना आईडी और टिकट की सॉफ्ट या हार्ड कॉपी लिए यात्रा कर सकते हैं। हैदराबाद एयरपोर्ट के एक वरिष्ठा अधिकारी के मुताबिक, फेस रिकॉग्निशन का ट्रायल एक जुलाई से शुरू हो चुका है और 31 जुलाई तक ट्रायल चलेगा।

2500 मुसाफिरों ने कराया रजिस्ट्रेशन
अभी तक करीब 2500 से ज्यादा मुसाफिर फेस रिकॉग्निशन ट्रायल के लिए अपना रजिस्ट्रेेशन करा चुके हैं। इसमें कई टॉलीवुड स्टाोर भी शामिल हैं। इस ट्रायल में फिलहाल दिल्लीे, मुंबई, बंगलुरु, चेन्नेई और विजयवाड़ा एयरपोर्ट शामिल हैं।

ऐसे होगा फेस रिकॉग्निशन
एक एयरपोर्ट अधिकारी के मुताबिक, हैदराबाद एयरपोर्ट के डोमेस्टिक डिपार्चर गेट संख्याक एक और तीन पर फेस रिकॉग्निशन काउंटर बनाए गए हैं, जहां सुबह आठ बजे से रात्रि आठ बजे तक यात्री अपना रजिस्ट्रेंशन करा सकते हैं। उन्हों ने बताया कि फेस रिकॉग्निशन रजिस्ट्रे शन के लिए मुसाफिरों को अपना सरकारी पहचान पत्र, कॉन्टैक्ट डिटेल उपलब्धन करानी होगी। इसके बाद कैमरे से उनका फेस रिकॉग्नाइज कर दिया जाएगा ।

ट्रायल के बाद भेजी जाएगी रिपोर्ट
फिलहाल यह ट्रायल फेज है, लिहाजा फेज रिकॉग्नाइज करने वाले मुसाफिरों की पहचान पत्र को चेक किया जा रहा है। इससे तकनीक में यदि कोई खामी है तो उसे पता लगाया जा सकेगा। 31 जुलाई को ट्रायल पूरा होने के बाद, इसकी रिपोर्ट डायरेक्टतर जनरल ऑफ सिविल एविएशन और ब्यूसरो ऑफ सिविल एविएशन सिक्योोरिटीज को सौंपी जाएगी। दोनों एजेंसी से हरी झंडी मिलने के बाद ही फेस रिकॉग्निशन सिस्टम को सभी मुसाफिरों के लिए शुरू किया जाएगा ।

शेयर करें

मुख्य समाचार

hongkong

हांगकांग ‘लोकतंत्र अधिनियम’ पारित, चीन ने दी कड़ी प्रतिक्रिया

वाशिंगटन : हांगकांग में लोकतंत्र समर्थक प्रदर्शनकारियों की मांग वाले एक विधेयक को अमेरिकी प्रतिनिधि सभा ने मंगलवार को पारित कर दिया, जिसका उद्देश्य उस आगे पढ़ें »

रतन टाटा खुद को मानते हैं ‘एक्सीडेंटल स्टार्टअप निवेशक’, कई बड़ी कंपनियों में है हिस्सेदारी

नई दिल्ली : उद्योगपति और टाटा समूह के चेयरमैन रतन टाटा ने खुद को 'एक्सीडेंटल स्टार्टअप निवेशक' माना है। उन्होंने दर्जनभर से ज्यादा स्टार्टअप कंपनियों आगे पढ़ें »

court

अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने 40 दिन की सुनवाई के बाद फैसला सुरक्षित रखा

ayodhya

अयोध्या मामला : मुस्लिम धर्मगुरुओं ने कहा, शीर्ष न्यायालय के फैसले को स्वीकार किया जाना चाहिए

अमेरिकी प्रतिबंधों के पालन के लिए भारत अपना नुकसान नहीं करेगा: वित्त मंत्री

russia

तुर्की और सीरिया की लड़ाई में रूस बना दीवार, तैनात की अपनी आर्मी

sitaraman

अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के बाद ‘मानवाधिकार’ विश्व स्तर पर ज्वलंत शब्द बन गया : सीतारमण

chetak

बजाज ने पेश किया इलेक्ट्रिक चेतक स्कूटर, सामने आया पहला लुक

rail

रेलवे ने शुरू की नई योजना, अब फिल्म प्रमोशन के लिए हो सकेगी ट्रेनों की बुकिंग

modi

पीएम मोदी बोले- राष्ट्र निर्माण का आधार है सावरकर के संस्कार

ऊपर