स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना के क्रियान्वयन के लिए विशेषज्ञ समिति गठित होगी

नयी दिल्ली: एक अधिसूचना के अनुसार वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय 1,000 करोड़ रुपये की स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना के क्रियान्वयन और निगरानी के लिए एक विशेषज्ञ सलाहकार समिति का गठन करेगा। मालूम हो कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस महीने की शुरुआत में स्टार्टअप की मदद और नये उद्यमियों को आगे बढ़ने में सहयोग के लिए इस योजना की घोषणा की थी। वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के उद्योग एवं आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग (डीपीआईआईटी) के अनुसार समिति सीड फंड के आवंटन, प्रगति की निगरानी के लिए स्टार्टअप का चयन करेगी और यह उपाय करेगी कि इस धन का सही इस्तेमाल हो और योजना का मकसद पूरा हो। इस समिति के सदस्यों में डीपीआईआईटी, जैव प्रौद्योगिकी विभाग, विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग, इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद और नीति आयोग के प्रतिनिधि तथा डीपीआईआईटी सचिव द्वारा नामित कम से कम तीन विशेषज्ञ शामिल होंगे। 2021 से 2025 के दौरान पूरे भारत में चयनित इनक्यूबेटरों के माध्यम से 945 करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता स्टार्टअप को दी जायेगी। इस योजना का लाभ पाने के लिए स्टार्टअप के पास डीपीआईआईटी की मान्यता होनी चाहिए व आवेदन करते समय उसके गठन को दो साल से अधिक का समय नहीं होना चाहिए। उसके मूल उत्पाद या सेवाओं में प्रौद्योगिकी का उपयोग होना चाहिए।

शेयर करें

मुख्य समाचार

नंदीग्राम में बेटे शुभेन्दु के लिए प्रचार करेंगे शिशिर अधिकारी

खड़गपुर/कांथी: पूर्व मिदनापुर जिले के नंदीग्राम विधानसभा केंद्र में भाजपा उम्मीदवार शुभेन्दु अधिकारी के पक्ष में उनके पिता तथा कांथी से टीएमसी के निर्वाचित सांसद आगे पढ़ें »

कुंवारी स्त्रियों को शिवलिंग छूने की इजाज़त क्यों नहीं? जानिये ये सत्य, आज और अभी!

कोलकाताः हिंदू धर्म के अनुसार शिव लिंग की पूजा करना अच्छा माना जाता है और सिर्फ भारत में ही नहीं, पूरी दुनिया में जहाँ-जहाँ हिंदू आगे पढ़ें »

ऊपर