स्काइप और कोर्टाना पर आपकी बातचीत नहीं है सुरक्षित, माइक्रोसफ्ट ने किया स्वीकार

नई दिल्ली : थर्ड-पार्टी कॉन्ट्रैक्टर्स स्काइप और वर्चुअल असिस्टेंट कोर्टाना पर की गई आपकी बातचीत को कोई चोरी छिपे सुन रहा है, यह बात माइक्रोसॉफ्ट ने यह स्वीकार किया है। यह बात तब सामने आई है, जब मदरबोर्ड ने पाया कि कॉन्ट्रैक्टर्स दोनों ही सेवाओं के ऑडियो को सुन रहे हैं, जिसमें माइक्रोसॉफ्ट ग्राहकों के संवेदनशील और निजी बातचीत भी शामिल थी।

माइक्रोसॉफ्ट के प्रवक्ता ने मदरबोर्ड को बताया कि हाल ही में उठाए गए सवालों को देखते हुए हमें लगा कि यह बताने हमारे लिए बेहतर है, मनुष्य कभी-कभी इस सामग्री की समीक्षा करते हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि हमने अधिक स्पष्टता के लिए अपने प्राइवेसी स्टेटमेंट और प्रोडक्ट एफएक्यू को अपडेट किया है, और आगे भी सुधार के अवसरों को जांचते रहेंगे। अपडेट किए गए प्राइवेसी स्टेटमेंट में कहा गया है कि मनुष्य द्वारा समीक्षा का उपयोग कंपनी आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (एआई) सिस्टम्स को सुधारने, ट्रेनिंग देने और बनाने में किया जाता है।

स्काइप ट्रांसलेटर के नए एफएक्यू में कहा गया कि इसमें माइक्रोसॉफ्ट कर्मचारियों या वेंडर्स द्वारा ऑडियो रिकॉर्डिंग का ट्रांसक्रिप्शन किया जा सकता है, जो यूजर्स की प्राइवेसी की रक्षा के लिए यूरोपीय कानून और अन्य जगहों पर निर्धारित प्राइवेसी मानक के आधार पर डिजाइन की गई प्रक्रियाओं के अधीन है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बाबूलाल मरांडी को नेता प्रतिपक्ष की मान्यता नहीं देने से नाराज भाजपा सदस्यों का झारखंड सदन में हंगामा

रांची : झारखंड विधानसभा में भारतीय जनता पार्टी विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी को नेता प्रतिपक्ष की मान्यता नहीं दिए जाने से नाराज भाजपा आगे पढ़ें »

बेगूसराय सीएसपी लूटकांड मामले में चार अपराधी गिरफ्तार

बेगूसराय : बिहार के बेगूसराय जिले में कुछ दिनों पूर्व ग्राहक सेवा केंद्र के संचालक से करीब पांच लाख रुपये की लूट के मामले में आगे पढ़ें »

ऊपर