सूक्ष्म वित्त उद्योग का कुल ऋण 40 प्रतिशत बढ़ा

मुंबईः सूक्ष्म वित्त उद्योग का कुल ऋण पोर्टफोलियो 2018-19 में 40 प्रतिशत की वृद्धि लेकर 1,78,587 करोड़ रुपये हो गया। यह जानकारी इक्विफैक्स और सिडबी की संयुक्त रिपोर्ट में दी गयी है। सूक्ष्म ऋण में शीर्ष दस शहरों का हिस्सा 83 प्रतिशत रहा। उद्योग का कुल ऋण पोर्टफोलियो वित्त वर्ष 2017-18 में 1,27,223 करोड़ रुपये था। सिडबी के चेयरमैन मोहम्मद मुस्तफा ने कहा, ‘कुल सूक्ष्म वित्त पोर्टफोलियो में वृद्धि उत्साहजनक है।’ बीते वित्त वर्ष में नए ऋण का वितरण इससे पिछले वित्त वर्ष की तुलना में 36 प्रतिशत बढ़कर 2,13,074 करोड़ रुपये रहा। मात्रा के हिसाब से वितरण करीब 20 प्रतिशत बढ़ा।

क्या रही स्थित‌िः रिपोर्ट के अनुसार शीर्ष दस राज्यों में पश्चिम बंगाल और तमिलनाडु का कुल ऋण में हिस्सा 34.7 प्रतिशत का रहा। इसके बाद बिहार और कर्नाटक का पोर्टफोलियो 15,000 करोड़ रुपये से अधिक रहा। बीते वित्त वर्ष में सूक्ष्म ऋण में सबसे अधिक 54 प्रतिशत की वृद्धि बिहार में दर्ज हुई। एनबीएफसी-एमएफआई का सूक्ष्म ऋण पोर्टफोलियो में सबसे बड़ा हिस्सा है। उसका कुल बकाया ऋण 68,156 करोड़ रुपये है जो कुल उद्योग के पोर्टफोलियो का 38 प्रतिशत है। सूक्ष्म वित्त उद्योग की उपस्थिति 619 जिलों में है। शीर्ष 30 जिलों का कुल ऋण पोर्टफोलियो में हिस्सा 25 प्रतिशत है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

लोगों में पीओके की आजादी के लिये ‘जुनून’ है : ठाकुर

जम्मू : केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने सोमवार को कहा कि जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को समाप्त करने के बाद पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर आगे पढ़ें »

पिछले पांच-छह साल में बढ़े हैं दलितों पर अत्याचार : प्रशांत भूषण

नयी दिल्ली : भीम आर्मी द्वारा आयोजित संवाददाता सम्मेलन में सामाजिक कार्यकर्ता व वकील प्रशांत भूषण ने सोमवार को आरोप लगाया कि पिछले पांच-छह साल आगे पढ़ें »

ऊपर