सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने पर बढ़ सकता है सकल एनपीए : यस बैंक

मुंबई: दिसंबर तिमाही के परिणाम में आय से जुड़ी चुनौतियों में वृद्धि से यस बैंक का परिसंपत्ति गुणवत्ता का दवाब चरम पर पहुंच गया है। मार्च तिमाही में बैंक की सकल गैर-निष्पादित परिसंपत्तियों (जीएनपीए) के अनुपात में उछाल भी आ सकता है। एक शीर्ष अधिकारी ने कहा कि खराब संपत्तियों की पहचान को लेकर उच्चतम न्यायालय का फैसला आ जाने के बाद जीएनपीए अनुपात कुल परिसंपत्तियों के 20 प्रतिशत को छू सकता है। पिछले सप्ताह के अंत में जारी परिणाम में यस बैंक ने बताया कि उसका जीएनपीए अनुपात 15.36 प्रतिशत पर पहुंच गया है। हालांकि बैंक ने साथ में यह भी जोड़ा कि यदि उच्चतम न्यायालय का आदेश आ जाता है तो यह अनुपात भी बढ़ सकता है। बैंक के प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) प्रशांत कुमार ने बताया कि हमने जो दबाव देखा है, वह एक शिखर है। परिसंपत्ति की गुणवत्ता में कई सुधार हुए हैं जैसे कि संग्रह में सुधार, चेक बाउंस की दर में कमी और वसूली की दरों में तेजी आदि। कई खाते 90 दिन की समयसीमा के समाप्त होने के समय भुगतान करते हैं, जबकि कुछ खाते मजबूत मूल सिद्धांतों वाली कंपनियों के हैं, जो कोरोना के कारण कठिनाइयों का सामना कर रही हैं। पुनर्गठित कर्जों से निपटने के लिये हमें दो साल का समय मिला है, जबकि शेष 10 हजार करोड़ रुपये का हम 12 से 18 महीनों में हल निकालने के लिये आश्वस्त हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बुधवार के 7 प्रभावकारी उपाय एवं टोटके करेंगे हर विघ्न दूर…

कोलकाताः बुधवार के दिन खास तौर पर श्रीगणेश की पूजा-अर्चना करने का विधान है, क्योंकि श्री गणेशजी को विघ्नहर्ता कहा जाता है। वे स्वयं रिद्धि-सिद्धि के दाता आगे पढ़ें »

किस्मत के बंद तालों को खोलता है कपूर, ये आसान टोटका आपको कर देगा मालामाल

कोलकाताः कपूर सनातम धर्म में बेहद पवित्र माना जाता है। हवन करने के लिए और आरती के दौरान कपूर का इस्तेमाल किया जाता है। इसके आगे पढ़ें »

ऊपर