सरकार के एमएसएमई सेक्टर के लिए घोषित 3 करोड़ के पैकेज में खुदरा व्यापारी भी शामिल

नई दिल्ली : केंद्र सरकार के एमएसएमई सेक्टर को दिए तीन लाख करोड क्रेडिट पैकेज के तहत व्यापारियों को भी अब शामिल कर लिया गया है। कॉन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) का इस बारे में कहना है कि इस योजना के दायरे में सभी व्यापारियों को शामिल किया जाना चाहिए, केवल उन लोगों को नहीं जो बैंकों के मौजूदा कर्जदार हैं। योजना के वर्तमान प्रावधानों के अनुसार केवल बैंकों के मौजूदा उधारकर्ताओं के लिए ही यह लागू है, जबकि व्यापारियों का बहुत बड़ा वर्ग बैंकों से ऋण नहीं ले रहा है और इस तरह के सभी व्यापारी इस योजना से वंचित होंगे।

कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष बीसी भरतिया और महासचिव प्रवीन खंडेलवाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल और एमएसएमई मंत्री नितिन गडकरी का आभार व्यक्त करते हुए कहा की भारत में लॉकडाउन के कारण उत्पन्न होने वाले तरलता संकट से निपटने के लिए केंद्रीय वित्त मंत्री ने गारंटीड इमरजेंसी क्रेडिट लाइन योजना का लाभ व्यापारियों को भी मिले, यह स्पष्टता करते हुए कैट के अनुरोध का संज्ञान लिया है। कैट ने वित्त मंत्री और वाणिज्य मंत्री को 12 मई को वित्त मंत्री द्वारा घोषित एमएसएमई सेक्टर के लिए 3 लाख करोड़ पैकेज के तहत भारत के व्यापारियों को भी शामिल करने का समर्थन किया था। भरतिया और खंडेलवाल ने आगे बताया कि नेशनल क्रेडिट गारंटी ट्रस्ट कॉरपोरेशन ने इस योजना के लिए दिशानिर्देश जारी किए हैं और स्पष्ट किया है कि एमएसएमई / व्यवसाय जो एमएसएमई के रूप में पंजीकृत नहीं हैं, वे भी इस योजना के पात्र हैं। इस नई गारंटी योजना का प्रमुख सूचक तथ्य यह है कि बैंको द्वारा यह कर्ज देते हुए एक नया ऋण खाता बनाया जाएगा जो उधारकर्ता के मौजूदा ऋण खाते से अलग होगा। 12 महीने की तक की मोहलत के साथ 4 साल की अवधि के लिए प्रदान किए गए ऋण पर बैंकों के लिए ब्याज दर 9.25% और एनबीएफसी के लिए 14% तय की गई है। सभी व्यापारी जिनके पास बैंकों का 25 करोड़ तक का बकाया ऋण है, और 100 करोड़ तक की वार्षिक टर्नओवर है, वो इस योजना के अंतर्गत बैंकों से ऋण ले सकेंगे ।

कोरोना लॉकडाउन ने के कारण देश के खुदरा व्यापारियों को काफी नुकसान हुआ है। पिछले 60 दिनों में देश का खुदरा व्यापार में अनुमानित 9 लाख करोड़ से अधिक के व्यापार का नुकसान हुआ हैं। कैट को अनुमान है कि महामारी के आने से पहले खुदरा व्यापार 15,000 करोड़ रुपये से अधिक का दैनिक कारोबार करता था। उन्होंने आगे कहा कि वर्तमान स्थिति को देखते हुए कि नुकसान बढ़ता जा रहा हैं और व्यापार को पुन जीवित करना बेहद मुश्किल है, जिसके कारण लगभग 20% भारतीय व्यापारियों को स्थायी रूप से दुकान बंद करने की संभावना है। कैट ने कहा कि भारतीय व्यापारियों का एक बड़ा वर्ग बैंकों या एनबीएफसी के मौजूदा ग्राहक नहीं हैं, इसलिए इस योजना के दायरे को ऐसे सभी व्यापारियों को भी शामिल करना चाहिए। ताकि पैकेज का लाभ एक बड़ी आबादी तक पहुंचाया जा सके ।

शेयर करें

मुख्य समाचार

मैं गरीबों की मदद कर रहा था, इमरान के मंत्री छुट्टियां मना रहे थे : अफरीदी

इस्‍लामाबाद : शाहिद अफरीदी ने इशारों में इमरान खान सरकार पर निशाना साधा। अफरीदी के मुताबिक, इमरान सरकार में एकता की कमी है और ये आगे पढ़ें »

अक्टूबर तक फिर रिंग में लौट आयेंगे विजेंदर

नयी दिल्ली : पिछले छह महीने से रिंग से दूर भारत के स्टार मुक्केबाज विजेंदर सिंह को अगले तीन महीने में रिंग में उतरने की आगे पढ़ें »

ऊपर