समय पर दें ईएमआई नहीं तो हो सकती है बड़ी समस्या, सरकार ने की नियमों में सख्ती

नई दिल्ली : आज के समय में घर, गाड़ी या जरूरत के अन्य सामानों के लिए लोन लेना आम बात हो गई है, लेकिन कई बार लोग समय पर लोन नहीं दे पाते। हालाँकि अब आपको सतर्क रहने की जरूरत है, क्योंकि रिजर्व बैंक ने ईएमआई पेमेंट में देर करने वालों के खिलाफ सख्त हो गई है।

आरबीआई ने कॉमर्शियल बैंकों को लोगों की ईएमआई रिपेमेंट पर कड़ी नजर रखने को कहा है, जिसका लक्ष्य एनपीए में कमी लाना और जानबूझकर लोन रिपेमेंट में चूक करने वालों की पहचान करना है। रिजर्व बैंक के नियमों में बदलाव करने के बाद आप अपने होम लोन, पर्सनल लोन, कार लोन और किसी भी तरह लोन एवं क्रेडिट कार्ड बिल के रिपेमेंट की तारीख को याद रखें।

ईएमआई पेमेंट मिस होने एक्शन
पैसे न मैनेज हो पाने या तकनीकी कारणों से ना चाहते हुए भी ईएमआई का पेमेंट मिस हो जाता है। बार-बार ऐसा होने पर लोन देने वाले कॉमर्शियल बैंक एवं नॉन-बैंकिंग फाइनेंस कंपनियां या हाउसिंग फाइनेंस कंपनियां आपके खिलाफ कई तरह के एक्शन ले सकती हैं। पहले कंपनियां लोन के लिए फोन करती हैं और फिर बाद में ईएमआई पर लेट फाइन भी लगा देती हैं।

क्रेडिट प्रोफाइल हो जाता है डाउनग्रेड
लोन कंपनियां अलग-अलग माध्यमों से रिमाइंडर भेजती हैं। अगर आप फिर भी रिपेमेंट नहीं कर पाते हैं तो वे आपके क्रेडिट प्रोफाइल को डाउनग्रेड कर देते हैं, जिससे आपको भविष्य में लोन लेने में काफी दिक्कतें आती हैं। क्रेडिट रेटिंग को किसी भी स्थिति में डाउनग्रेड नहीं होने देना चाहिए।

90 दिन तक रिपेमेंट नहीं हुआ तो एनपीए हो सकता है अकाउंट
आप 90 दिनों तक ईएमआई का रिपेमेंट नहीं करते हैं तो आपके अकाउंट को लेंडर नॉन-परफॉर्मिंग अकाउंट्स में डाल देते हैं, जिसका मातब यह हुआ कि इसके बाद आपको किसी भी तरह का लोन नहीं मिलेगा। बैंक क्रेडिट कार्ड लिमिट को भी फ्रीज कर सकते हैं।

लीगल एक्शन भी
बैंक के चेतावनी के बाद भी अगर आपने लोन का रिपेमेंट नहीं किया तो अधिकारी चाहें तो लीगल एक्शन भी ले सकते हैं। वे मामले को लीगल डिपार्टमेंट को भेज देते हैं जो कारण-बताओ नोटिस जारी कर सकता है। साथ ही लोन की रिकवरी के लिए लोन लेने वाली की संपत्ति को अटैच भी किया जा सकता है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

वेस्टइंडीज जीत के करीब, इंग्लैंड ने दूसरी पारी में 313 रन बनाए

साउथैम्पटन : इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट में वेस्टइंडीज जीत की ओर है। मैच के पांचवें दिन टी ब्रेक तक मेहमान टीम ने 4 विकेट के आगे पढ़ें »

पगबाधा का फैसला सिर्फ और सिर्फ डीआरएस से हो : तेंदुलकर

नयी दिल्ली : महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने अंपायरों के फैसलों की समीक्षा प्रणाली (डीआरएस) से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) को ‘अंपायर्स कॉल’ को हटाने आगे पढ़ें »

ऊपर