संयुक्त राष्ट्र ने भी बढ़ाया भारत का विकास अनुमान

नयी दिल्लीः भारत का विकास अनुमान अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) के बाद संयुक्त राष्ट्र ने भी बढ़ा दिया है। चालू वित्त वर्ष के लिए उसने विकास अनुमान 0.2 प्रतिशत बढ़कर 7.4 प्रतिशत और अगले वित्त वर्ष के लिए 7.4 प्रतिशत से बढ़ाकर 7.6 प्रतिशत किया है। इस साल अब तक तीन प्रमुख वैश्विक संगठन विश्व बैंक, आईएमएफ और संयुक्त राष्ट्र ने वैश्विक विकास पर अपनी रिपोर्ट जारी की है। तीनों ने भारत को दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था बने रहने का अनुमान व्यक्त किया है।
रोजगार की स्थिति पर चिंता
विश्व बैंक ने औपचारिक क्षेत्र में रोजगार की स्थिति पर चिंता व्यक्त की है। संयुक्त राष्ट्र ने कहा है ‘औपचारिक क्षेत्र में रोजगार सृजन की रफ्तार कम रही है। इससे बड़ी संख्या में कामगार या तो आंशिक बेरोजगारी का शिकार हैं या बेहद कम वेतन पर काम करने के लिए मजबूर हैं। खासकर युवाओं के लिए स्थिति काफी चिंताजनक है। अच्छे पढ़े-लिखे युवाओं को औपचारिक क्षेत्र में रोजगार ढूंढ़ने में परेशानी होती है और उन्हें अंत में अनौपचारिक क्षेत्र में कम वेतन वाली नौकरी करनी पड़ती है।’ रिपोर्ट में भारत के बारे में कहा गया है ‘मजबूत निजी उपभोग, विस्तारवादी मौद्रिक रुख तथा पूर्व में किये गये सुधारों के लाभ की वजह से आर्थिक विकास को गति मिल रही है। इसके बावजूद मध्यम अवधि में विकास की रफ्तार और बढ़ाने के लिए निजी निवेश में मजबूत तथा सतत सुधार एक महत्त्वपूर्ण चुनौती है।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

toll

राष्ट्रीय राजमार्गों पर इलेक्ट्रॉनिक तरीके से टोल संग्रह के लिये अधिकारी तैनात करेगा केंद्र

नई दिल्ली : केंद्र सरकार भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) टोल प्लाजा पर इलेक्ट्रॉनिक तरीके से टोल संग्रह योजना के क्रियान्वयन को आगे बढ़ाते हुए आगे पढ़ें »

balan

सबरीमाला में महिलाओं के प्रवेश पर विधि मंत्री बोले- शीर्ष न्यायालय के फैसले पर दरअसल रोक लगी है

तिरूवनंतपुरम : केरल के विधि मंत्री ए के बालन ने रविवार को कहा कि सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश के मुद्दे पर शीर्ष न्यायालय आगे पढ़ें »

ऊपर