श्रेई इक्विपमेंट फाइनेंस को डच डेवलपमेंट बैंक से 30 मिलियन अमेरिकी डॉलर की ॠण मिली

नई दिल्ली : श्रेई इक्विपमेंट फाइनेंस लिमिटेड, श्रेई इंफ्रास्ट्र्क्चेर फाइनेंस लिमिटेड की पूर्ण स्वानमित्व वाली अनुषंगी ने नीदरलैंड्स स्थित डेवलपमेंट फाइनेंस बैंक एफएमओ से 30 मिलियन अमेरिकी डॉलर की ॠण मंजूरी प्राप्तग कर ली है। यह लोन पूरी तरह से श्रेई इक्विपमेंट की हरित गतिविधियों की रिफाइनेंसिंग के लिए समर्पित होगा। प्राथमिक रूप से सौर या पवन परियोजनाओं के लिए इस्तेकमाल किए जाने वाले उपकरणों की फाइनेंसिंग या लीजिंग में इसका उपयोग किया जाएगा।

श्रेई इक्विपमेंटके पास एक दशक पहले से ही पर्यावरणीय एवं सामाजिक प्रबंधन तंत्र है और एफएमओ द्वारा यह कर्ज निवेश कंपनी को जिम्मेणदार फाइनेंसिंग की दिशा में किए जा रहे प्रयासों को बढ़ाएगा। इस अवसर पर देवेंद्र कुमार व्यायस, मैनेजिंग डाइरेक्टजर, श्रेई इक्विपमेंट फाइनेंस लिमिटेड ने कहा कि अक्षय ऊर्जा तकनीकें ऊर्जा के स्व‍च्छ, स्रोत हैं, जिनका पर्यावरणीय प्रभाव पारंपरिक ऊर्जा तकनीकों की तुलना में बहुत कम होता है। स्था‍यी भविष्य् के हित के लिए हमें इस तरह के पर्यावरणी हितैषी उपायों में निवेश करने के लिए पूरी सजगता से प्रयास करने होंगे। यह ट्रांजैक्शणन एक स्था यी भविष्ये बनाने की दिशा में हमारे समर्पण को दोहराता है।

मिनिस्ट्रीण ऑफ न्यू‍ एंड रिन्यू एबल एनर्जी ने 2022 तक 225 गीगवाट तक की अक्षय ऊर्जा क्षमताओं को स्थाटपित करने का महत्वाएकांक्षी लक्ष्यय तय किया है। भारत में इंस्‍टॉल्ड2 अक्षय ऊर्जा उत्पा दन क्षमता भी पिछले कुछ सालों में काफी तेज गति से बढ़ी है और इसने वित्त् वर्ष 2014 से 18 के बीच 19.78 प्रतिशत की सीएजीआर दर से बढ़ोतरी की। एफएमओ के साथ यह साझेदारी श्रेई इक्विपमेंट को इस उच्चह विकास वाले वर्ग में अपनी भागीदारी बढ़ाने और देश के विकास में योगदान करने में मदद करेगी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

कोलकाता में लॉजिस्टिक के लिए विश्व बैंक तैयार कर रहा मास्टर प्लान : अमित मित्र

परियोजना की​ लागत करीब 300 मिलियन डॉलर कोलकाता : कोलकाता मेट्रोपॉलिटन एरिया में जल्द ही लॉजिस्टिक के क्षेत्र में बड़ी संभावनाएं सामने आने वाली हैं। इसकी आगे पढ़ें »

अफवाहों पर ध्यान ना दें, हम सब एक हैं – विजयवर्गीय

कोलकाता : भाजपा के सांगठनिक चुनाव काे लेकर शनिवार को माहेश्वरी भवन में भाजपा की अहम बैठक की गयी। इस बैठक में भाजपा के राष्ट्रीय आगे पढ़ें »

ऊपर